हिन्दू संगठनों ने पटियाला में की राज्य स्तरीय मीटिंग; मंदिर एक्ट बनाने के मुद्दे को गर्मजोशी से उठाने पर की विचार चर्चा
हिन्दू संगठनों ने पटियाला में की राज्य स्तरीय मीटिंग; मंदिर एक्ट बनाने के मुद्दे को गर्मजोशी से उठाने पर की विचार चर्चा

हिन्दू संगठनों ने पटियाला में की राज्य स्तरीय मीटिंग; मंदिर एक्ट बनाने के मुद्दे को गर्मजोशी से उठान

हिन्दू संगठनों ने पटियाला में की राज्य स्तरीय मीटिंग; मंदिर एक्ट बनाने के मुद्दे को गर्मजोशी से उठाने पर की विचार चर्चा

हिंदू संगठनों ने 4 विशेष प्रस्ताव सर्वसम्मति से किए पास

पटियाला

हिन्दू संगठनों द्वारा आज पटियाला में राज्य स्तरीय मीटिंग का आयोजन किया गया।  इस मीटिंग की प्रधानगी मनोज नन्हा, प्रदेश संयोजक, टीम मंदिर एक्ट पंजाब (हिन्दू वेलफेयर बोर्ड) ने की जबकि इस मौके पर महंत रवि कांत, चेयरमैन हिन्दू वेलफेयर बोर्ड, विजय सिंह भारद्वाज, प्रदेश अध्यक्ष, अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद, पवन गुप्ता राष्ट्रिय प्रधान शिव सेना हिंदुस्तान, विजय कपूर कार्यकारी अध्यक्ष अन्तर्राष्ट्रीय हिन्दू परिषद, परविंदर भट्टी, प्रदेश अध्यक्ष शिव सेना हिन्द, स्वामी शेवय शून्य, प्रतिनिधि नरसिंहानंद सरस्वती, महंत भगवत दास, अध्यक्ष देवालय देव स्थान प्रबंधक समिति, कमांडर राकेश शर्मा, रिटायर्ड आर्मी अफसर, सुरिंदर पाल वर्मा संयुक्त सेक्रेटरी, हिन्दू वेलफेयर बोर्ड, सुशिल नय्यर, हिन्दू नेता  समेत कई धार्मिक शख्सियतों ने शमूलियत करके अपने अपने विचार प्रकट किये।  मीटिंग में बहुत गर्मजोशी के साथ हिन्दू मांदिर एक्ट बनाने पर विचार विमर्श किया।  इसके आलावा हिन्दू समाज की उन्नति और भलाई समेत हिन्दुओं को एकजुट करने के प्रयासों पर अधिक ज़ोर देने के लिए जागरूकता अभियान चलाने के लिए भी विचार किए गए।
इस अवसर पर मीडिया के साथ बात करते हुए महंत रवि कांत ने मंदिर एक्ट बनाने के लिए किए गए यत्नों का खुलकर खुलासा किया। उन्होंने पंजाब में समय समय पर आई सरकारों व् अफसरशाही के ढिलमुल रवैये पर अफ़सोस भी जताया।  उन्होंने कहा कि इस दौर में हिन्दू समाज, हिन्दू संस्कृति और हिन्दू मंदिर खतरे में हैं और बचाव का रास्ता  सिर्फ यही है कि हिंदू मंदिर एक्ट बनाया जाए और हिन्दुओं को अपने फैसले खुद लेने की स्वतंत्रता हो।  इसके लिए सभी धार्मिक आगुओं ने एकसाथ सहयोग देने और प्रयास करने का वायदा किया।   उन्होंने कहा कि पूरे हिन्दू समाज को एकजुट करने की जी-तोड़ कोशिश करनी होगी, नहीं तो हिंदू संस्कृति गंभीर संकट में पड़ जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी हिन्दू संगठन चाहते हैं कि हिन्दू मंदिरों के प्रबंधन में सरकारों, राजनैतिक दलों और प्रशासन की कोई दखलंदाज़ी नहीं होनी चाहिए, मंदिरों की देखरेख, सुरक्षा और पूर्ण प्रबंध स्वतन्त्र रूप से हिन्दुओं को दे दिए जाए। उन्होंने कहा कि हम भली भांति जानते हैं कि मंदिरों को ज़्यादा अच्छे ढंग से कैसे चलाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमें खुशी है कि हमारे प्रयास रंग ला रहे हैं धीरे धीरे हिन्दू समाज इस विषय पर जाग रहा है अब कई हिन्दू संगठन या दल इस विषय पर अपने अपने स्तर पर आंदोलन कर रहे हैं यही हमारी सफलता है कि हम अपने समाज को सन्देश देने में सफल रहे, अब सरकारोँ को भी इसे नजरअंदाज करना आसान नही होगा।
महंत रविकांत ने बताया कि चुनाव से पहले श्री अरविंद केजरीवाल और भगवंत मान ने विश्वास दिलाया था कि  पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनने पर मंदिर एक्ट बनाया जाएगा। इसके अलावा महंत रवि कांत ने एक पत्र दिखाते हुए ये भी बताया कि चुनाव से पहले पटियाला ज़िले के सनौर विधान सभा क्षेत्र से अब जीते हरमीत सिंह पठानमाजरा ने वायदा किया था कि चुनाव जीतने के बाद वो विधान सभा में हिन्दू मंदिर एक्ट बनाने की मांग करेंगे और अगर उनसे पहले ये मुद्दा किसी और विधायक ने उठा दिया तो वो उसका पूरा समर्थन करेंगे। ऐसा ही एक और पत्र एक और विधायक का भी दिखा कर महंत रवि कांत ने मौजूदा सरकार से मांग करते हुए कहा कि अब सरकार और विधायक अपने वायदे पूरे करते हुए मंदिर एक्ट का मुद्दा विधान सभा में उठाए और मंदिर एक्ट बनाने में अपना सहयोग दें।

 यहां पर जिक्रयोग है कि श्री भूतनाथ मन्दिर पटियाला में आज हिन्दू संगठनों की बैठक में चार प्रस्ताव भी सर्वसम्मति से पारित हुए जिनमें हिन्दू मन्दिर एक्ट को लेकर भगवंत मान मुख्यमंत्री पंजाब को पत्र लिख कर वायदा याद करवाना, हिंदुओं के विरुद्ध साजिशें रचने वालों पर बुलडोजर कारवाई को चालू करवाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में वकील खड़े करना,  श्री भूतनाथ मन्दिर पटियाला की जमीन पर कब्जा करने की कोशिश करने वाले मुसलमानों के विरुद्ध कानूनी कारवाई सुनिश्चित करना और हिन्दू मन्दिर एक्ट को लेकर टीम मन्दिर एक्ट द्वारा प्रदेश स्तर पर प्रमुख हिन्दू संगठनों के लोगों को लेकर एक तालमेल कमेटी गठित करना शामिल है।
आज की इस मीटिंग में हिंदुओं में एक नया जोश देखने को मिला।