योग चिंतन, सोच व कार्य के बीच तालमेल का सुगम मार्ग- देवेंद्र खुराना
योग चिंतन

योग चिंतन, सोच व कार्य के बीच तालमेल का सुगम मार्ग- देवेंद्र खुराना

योग चिंतन, सोच व कार्य के बीच तालमेल का सुगम मार्ग- देवेंद्र खुराना

मानव सभ्यता जीतनी पुरानी है, उतनी ही पुरानी योग की उत्पत्ति मानी जाती है। योग करने से व्यक्ति की चेतना सीधे ब्रह्मांड की परम शक्ति से जुड़ जाती है और यौगिक क्रियाओं द्वारा मानव प्रकृति के साथ जुड़ता है। जिससे उसके चिंतन, सोच व कार्य के बीच तालमेल का सुगम मार्ग बनता है। ये बातें श्रीकृष्णा आयुर्वेदिक कॉलेज के प्राचार्य डॉ. देवेंद्र खुराना ने रविवार को 8वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर श्रीकृष्णा आयुष विवि के अंतर्गत श्रीकृष्णा आयुर्वेदिक कॉलेज एवं अस्पताल के प्रांगण में आयोजित जलनेती एवं सूर्य नमस्कार कार्यशाला में कही। इससे पहले कार्यशाला का शुभारंभ भगवान धन्वंतरि के चित्र पर पुष्प अर्पित कर हुआ। योग शिक्षक योगेंद्र कुमार ने सूक्ष्म व्यायाम के बाद प्राणायाम और जलनेती की क्रियाओं का अभ्यास प्रशिक्षुओं को कराया। डॉ. देवेंद्र खुराना ने कहा कि योग की शुरुआत स्वयं के हित की बजाय पूरी मानव सभ्यता की भलाई के लिए हुई है। यही भारतीय संस्कृति का मूल भी है। योग शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ चित को भी स्वस्थ रखता है और जब मन स्वस्थ होगा तो मनुष्य निस्वार्थ भाव से मानव कल्याण के कार्य में लगता है। स्वस्थवृत विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. सीमा ने कहा कि दो दिवसीय कार्यशाला आम जन व रोगियों के लिए लगाई गई है। इस कार्यशाला में सूर्य नमस्कार और जल नेति से होने वाले लाभ योग शिक्षक द्वारा बताए जाएंगे। उन्होंने कहा कि जल नेती करने से नेत्रों की ज्योति बढ़ती है, कफ के विकार मिटाने और याददाश्त बढ़ाने में कारगर साबित हुई है। इसके साथ ही साइनस बीमारी को खत्म करने में पूर्ण रूप से लाभकारी है। वहीं सूर्य नमस्कार श्वास क्रिया और आसनों का संगम है। जो 12 बीज मंत्र के साथ होता है और इसमें 12 ही क्रियाएं होती हैं। सूर्य नमस्कार करने से शरीर में चुस्ती-स्फूर्ति आती है। इसके साथ ही मोटापा भी कम होता है। इसलिए भागदौड़ भरी जिंदगी में सूर्यनमस्कार के अनेकों लाभ हैं। डॉ शीतल सिंगला ने कहा कि योग व्यक्ति को निरोग बनाता है। हर नागरिक को प्रतिदिन योग व आसन करने चाहिए। इस अवसर पर डॉ. राजेंद्र चौधरी, डॉ. मनोज तंवर, डॉ. अमित कटारिया, विजेंद्र तोमर व अस्पताल के कर्मचारी मौजूद रहे।