जब पार्षद ने बुलाया नहीं तो क्यों मिलने पहुंचे ठेकेदार- प्रेम गर्ग
जब पार्षद ने बुलाया नहीं तो क्यों मिलने पहुंचे ठेकेदार- प्रेम गर्ग

जब पार्षद ने बुलाया नहीं तो क्यों मिलने पहुंचे ठेकेदार- प्रेम गर्ग

जब पार्षद ने बुलाया नहीं तो क्यों मिलने पहुंचे ठेकेदार- प्रेम गर्ग

पार्षद रामचंद्र यादव के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दुर्भाग्यपूर्ण : आप

चंडीगढ़। वार्ड नंबर 15 से पार्षद रामचंद्र यादव और ठेकेदार के बीच के विवाद के बाद आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष प्रेम गर्ग ने बयान जारी कर कहा कि जब पार्षद ने ठेकेदार को बुलाया नहीं था तो वह जबरन मिलने क्यों पहुंचे। ठेकेदार को फोन पर ही पार्षद ने कह दिया था कि वह मोहाली जा रहे हैं, फिर भी ठेकेदार जबरन उससे मिलने पहुंच गए। ऐसा जरूरी क्या था कि ठेकेदार इतनी जल्दी कर रहे थे। किसी तरह का झूठा और मनगढ़ंत आरोप लगाकर ठेकेदार अपनी गलती से बच नहीं सकते हैं। जब पार्षद का पेमेंट से कुछ लेना देना ही नहीं तो ठेकेदार का पार्षद को मिलने का कोई कारण ही नहीं बनता। ख़राब सामान के लिए पार्षद आंखें बंद करके किसी भी कागज पर हस्ताक्षर क्यों करेंगे।
प्रेम गर्ग ने कहा कि पार्षद रामचंद्र यादव ठेकेदार प्रदीप बंसल को कह चुके थे कि फर्नीचर का भुगतान करने के मामले में उनकी कोई भूमिका नहीं है। फिर भी ठेकेदार मिलने के लिए दबाव बना रहे थे। 
जबकि फर्नीचर में काफी खामियां थीं। रामचंद्र यादव सिर्फ सामान ठीक करवाने के लिए एसडीओ को कह रहे थे।पार्षद ने कभी भी ठेकेदार से कोई बात नहीं की। इस संबंध में भी उन्होंने निगम के अधिकारियों से बात की थी। वह सीधे ठेकेदार से कोई बात भी नहीं करना चाहते थे। ठेकेदार को किसी बात को लेकर कोई समस्या थी तो निगम के अधिकारियों को साथ लेकर पार्षद से मिलने जाना चाहिए थे। पार्षद से सीधे मिलने जाने का कोई मतलब नहीं था। ठेकेदार अपनी गलती से बचने के लिए जितने भी आरोप लगा लें, लेकिन गलत बात के आगे आप पार्षद झुकेंगे नहीं। 

आम आदमी पार्टी ने पार्षद पर पुलिस के द्वारा द्वारा केस दर्ज किए जाने पर सख़्त आपत्ति ज़ाहिर की है और यह भी माँग की है कि जब पार्षद ने पुलिस में ठेकेदार के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज करवाई थी तो पुलिस ने उस शिकायत का संज्ञान क्यों नहीं लिया और भाजपा के दबाव में आकर पार्षद के ख़िलाफ़ रिपोर्ट दर्ज की है। 

प्रेम गर्ग ने ये भी माँग की है कि इस ठेकेदार के द्वारा जितनी भी आज तक सप्लाई हुई है उसकी गुणवत्ता की पूरी तरह से जाँच की जाए। ठेकेदार को दिए गए सारे टेंडर और उसको किए गए भुगतान का ऑडिट किया जाए।

अगर पार्षद की शिकायत पर ठेकेदार के ख़िलाफ़ रिपोर्ट दर्ज नहीं की जाती तो आम आदमी पार्टी इसका पुरज़ोर विरोध करेगी और धरना और प्रदर्शन करेगी।