चतुर्थ श्रेणी कर्मी ने पीटा डाक्टर औट थाना में दर्ज हुआ मामला
चतुर्थ श्रेणी कर्मी ने पीटा डाक्टर औट थाना में दर्ज हुआ मामला

चतुर्थ श्रेणी कर्मी ने पीटा डाक्टर औट थाना में दर्ज हुआ मामला

चतुर्थ श्रेणी कर्मी ने पीटा डाक्टर औट थाना में दर्ज हुआ मामला

मंडी, राजन पुंछी 


चतुर्थ श्रेणी महिला कर्मी ने अपने ही अस्पताल के एक डॉक्टर को पीट डाला है। मामला टकोली पशु चिकित्सालय का है। पीड़ित डॉक्टर ने अपने साथ हुई इस घटना की पुलिस में एफआईआर भी दर्ज करवा डाली है। 

द्रंग विधानसभा क्षेत्र के तहत मंडी कुल्लू के बीच बसे टकोली कस्बे के पशु चिकित्सालय में तैनात पशु चिकित्सक को उसी अस्पताल में तैनात चतुर्थ श्रेणी महिला कर्मी ने पीट डाला। इस बारे में पीड़ित डाक्टर ने औट थाना में एफआईआर दर्ज करवा दी है।  भादंसं की धारा 353ए 504 व 506 के तहत दर्ज मामले के अनुसार यहां पर तैनात डॉ शुभम ठाकुर ने आरोप लगाया कि 15 सितंबर की शाम को चार बजे जब वह लंपी बीमारी से ग्रस्त पशुओं को देखने के लिए दौरान पर जा रहे थे तो अस्पताल में तैनात चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भागो देवी ने उसके साथ गाली गलौज कियाए यहां तक कि वह हाथापाई पर उतर आई और उसे थप्पड़ भी मार दिया। यही नहीं उसने उसकी पत्नी जो वहां परिसर में बने आवास में रहती हैं के साथ भी बदतमीजी की और जान से मारने की धमकी देने के साथ साथ यह भी धमकी दी कि वह उसे किसी भी केस में फंसा देगी। अपनी शिकायत में डाक्टर ने कहा है कि इससे पहले भी भागो देवी इस तरह की घटना को अंजाम दे चुकी है। वह सरकारी काम में बाधा पैदा करती है। जब यह सब वाक्या घटित हुआ तो कई और लोग भी मौका पर मौजूद थे। नाउ पंचायत की प्रधान के पति ने भी उसे बचाने की कोशिश की मगर उसने किसी की नहीं मानी। यही नहीं उसकी इस हरकत की उसने विडियो भी बना ली ताकि सबूत के तौर पर वह काम आए। उसे डर है कि कहीं वह उसे किसी झूठे केस में न फंसा दे। इसमें यह भी आरोप लगाया है कि भागो देवी अपनी ड्यूटी को सही तरीके से नहीं निभाती। अक्सर कुर्सी पर बैठी रहती है। किसी के आदेश के पालन नहीं करतीए उसकी इसी आदत से विभाग ने उसका वेतन भी बंद कर रखा है। उसके खिलाफ कार्रवाई भी चल रही है। इधरए डाक्टर शुभम ठाकुर के साथ मारपीर व दुर्व्यवहार से जिला पशु चिकित्सक संघ गुस्से में है। संघ के जिला प्रधान डॉ राकेश शर्मा व सचिव डाक्टर प्रतीक कश्यप ने कहा कि एक और जहां विभाग लंबी बीमारी से जूझ रहा हैए यह रोग उफान पर है वहीं दूसरी ओर फील्ड में दिन रात काम में जुटे पशु चिकित्सकों के साथ मारपीट व दुर्व्यवहार की घटनाएं बढ़ रही हैं। पशु चिकित्सालय टकोली में जिस तरह से डाक्टर के साथ मारपीट हुई है यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। जिला प्रशासन व विभाग को इसका कड़ा संज्ञान लेकर कार्रवाई करनी चाहिए ताकि लंबी बीमारी से निपटने में लगे पशु चिकित्सक व अन्य स्टाफ बेखौफ होकर काम कर सके। संघ ने सचिव पशुपालन विभाग व निदेशक पशु पालन  से मांग की है कि वह इस बारे में तुरंत हस्तक्षेप करके बिगडैल कर्मचारियों के खिलाफ अनुशासनहीनता की कार्रवाई करें।