Indian Navy Soldiers in Qatar- कतर में भारत सरकार का कमाल; जेल से छोड़ दिए गए Navy के 8 पूर्व सैनिक, 7 लौटे भारत
BREAKING
Haryana: आसमानी बिजली गिरने से बाबैन के गांव खिड़की वीरान में खेत में सरसों काट रहे मां सरोज बाला व बेटे रमन सैनी की मौके पर हुई मौत BJP के लोकसभा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी; PM मोदी यहां से लड़ेंगे चुनाव? जानिए कहां से कौन उम्मीदवार खड़ा BJP के एक और सांसद ने सक्रिय राजनीति से संन्यास लिया; जेपी नड्डा को लिखा पत्र, इससे पहले गौतम गंभीर ऐसा ही कर चुके भारत में स्पेन की महिला का गैंगरेप; झारखंड में घूमने आई थी, रात में दरिंदों ने मारपीट कर जिस्म नोचा, अस्पताल में इलाज चल रहा युवराज सिंह ने कहा- मैं गुरदासपुर से चुनाव नहीं लड़ रहा; BJP के टिकट पर लड़ने की चर्चा थी, सनी देओल को साइड कर रही पार्टी

कतर में भारत सरकार का कमाल; जेल से छोड़ दिए गए Navy के 8 पूर्व सैनिक, 7 लौटे भारत, बोले- PM मोदी के चलते यहां खड़े हैं

8 Former Indian Navy Soldiers Released From Qatar Jail And Return India

8 Former Indian Navy Soldiers Released From Qatar Jail And Return India

Indian Navy Soldiers in Qatar: कतर में भारत सरकार ने कमाल कर दिया है। भारत सरकार ने कूटनीतिक तरीके से कतर जेल में बंद Navy के अपने 8 पूर्व सैनिकों को रिहा करा लिया है। वहीं 8 में से 7 पूर्व सैनिक सुरक्षित भारत वापस लौट आए हैं। जेल से आजाद होने और मौत के मुंह से वापस आने की खुशी सभी पूर्व सनिकों में देखते ही बन रही है। पूर्व सनिकों ने इसके लिए पीएम मोदी और भारत सरकार से तह दिल से आभार जताया है।

उनका कहना है कि, आज जब हम सकुशल और जीवित भारत में खड़े हैं तो ये सब प्रधानमंत्री मोदी के हस्तक्षेप से हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी के व्यक्तिगत हस्तक्षेप के बिना यह संभव नहीं होता. पीएम मोदी और भारत सरकार द्वारा हमें सुरक्षित करने का निरंतर प्रयास किया गया। हम भारत सरकार द्वारा किए गए हर प्रयास के लिए तहे दिल से आभारी हैं। हमने भारत वापस आने के लिए लगभग 18 महीने तक इंतजार किया है।

जासूसी के आरोप में गिरफ्तार हुए, मौत की सजा मिली

भारत के इन सभी 8 पूर्व सैनिकों पर दोहा स्थित अल दहरा ग्लोबल टेक्नोलॉजीज के साथ काम करते हुए जासूसी करने का आरोप लगा था और ये अगस्त 2022 में गिरफ्तार कर लिए गए थे और इन्हें सजा सुनाई गई थी। इसके बाद अक्टूबर 2023 में कतर कोर्ट ने इन सभी पूर्व सैनिकों को मौत की सजा सुना दी। कतर कोर्ट ने इन्हें फांसी देने का फैसला किया। वहीं अपने पूर्व सैनिकों को फंसी की सजा मिलने पर भारत सरकार ने तत्काल प्रभाव से कतर कोर्ट के इस फैसले पर हैरानी व्यक्त की थी और इस संबंध में अपना आधिकारिक बयान जारी किया था। भारत सरकार ने अपने पूर्व सैनिकों को बचाने के लिए जद्दोजहद शुरू कर दी थी। भारत सरकार की जद्दोजहद का ही असर रहा कि सभी पूर्व सैनिकों की फांसी पर रोक लगा दी गई थी।

28 दिसंबर को फांसी पर रोक लगी थी

पिछले साल 28 दिसंबर को कतर समीक्षा कोर्ट ने भारत के 8 पूर्व नेवी सैनिकों को बड़ी राहत देते हुए उनकी फांसी की सजा रोक दी थी। भारत सरकार की कानूनी अपील के बाद कतर कोर्ट ने यह फैसला सुनाया था। जिसके बाद भारत के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए कहा था कि कतरी अधिकारियों के साथ इस मामले पर आगे लगातार बातचीत जारी रहेगी। भारत सरकार की कोशिश होगी कि इन्हें किसी तरह से भारत लाया जा सके। विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया था कि हम मामले की शुरुआत से ही अपने पूर्व नेवी सैनिकों और उनके परिवार के साथ खड़े हैं और हम सभी कानूनी सहायता देना जारी रखेंगे।

कौन है Navy के वो पूर्व सैनिक, जो कतर जेल से रिहा हुए

भारतीय नौसेना के जो 8 पूर्व सैनिक कतर जेल से रिहा हुए हैं उनमें कैप्टन नवतेज गिल, कैप्टन सौरभ वशिष्ठ, कमांडर पूर्णेंदु तिवारी,कमांडर अमित नागपाल, कमांडर एसके गुप्ता, कमांडर बीके वर्मा, कमांडर सुगुनाकर पकाला और नाविक रागेश जैसे सैनिक शामिल हैं। अब जब इन्हें कतर जेल से रिहा कर दिया गया है तो ऐसे में भारत सरकार ने कतर के फैसले का स्वागत किया है। आज 12 फरवरी को, विदेश मंत्रालय ने एक आधिकारिक बयान जारी कर कहा कि हम क़तर के फैसले की सराहना करते हैं। जिससे दहरा ग्लोबल कंपनी के लिए काम करने वाले आठ भारतीय नागरिकों की रिहाई हो पाई है और वह घर वापसी को सक्षम हुए हैं।