himachal election

Punjab CM

himachal election:: हिमाचल में क्या इस बार भी कांगड़ा दिखा पाएगा अपना रंग, अभी तक होता रहा है यह   

Kangra

himachal election

शिमला  Himachal Election हिमाचल में वर्ष 1998 से अभी तक चुनाव-दर-चुनाव हिमाचल की सियासत Politics of Himachal में यह ट्रेंड चलता आ रहा है  की बारी-बारी प्रदेश की सत्ता संभालते आए भाजपा और कांग्रेस  काँगड़ा  के इस जिले से 9 से लेकर 11 सीटें जीतकर प्रदेश की सियासत के सिरमौर बनते रहे हैं। सत्ता से जुड़ी इस गणित को समझ कर भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों और उसके नेताओं का ज्यादा फोकस भी कांगड़ा की जंग पर रहता आया है। अभी तक देखा जाए तो  सियासत में कांगड़ा जिला (Kangra District) ही राजनीतिक दलों के लिए सत्ता की राह तैयार करता रहा है। माना जाता है कि कांगड़ा से जिस दल की जितनी ज्यादा सीटें, उतनी ही उसके सत्ता में आने की गारंटी पक्की। इसी कड़ी में वर्ष 2022 की चुनावी जंग में भी दोनों दलों ने ध्यान केंद्रित कर अपने-अपने प्रत्याशियों के लिए दिन-रात पसीना बहाया है। 

जानकारी के अनुसार जिला कांगड़ा में 16 विधानसभा 16 assembly क्षेत्र होते थे। वर्ष 2012 में पुनर्सीमांकन के बाद थुरल विधानसभा क्षेत्र खत्म हो गया। थुरल सीट के इलाकों को आसपास की विधानसभा में समायोजित किया गया। तबसे जिला कांगड़ा में 15 सीटें हैं। वर्ष 1998 के विधानसभा चुनाव में कांगड़ा जिले से भाजपा ने 10 सीटों के साथ बड़ी जीत दर्ज की। कांग्रेस पार्टी को पांच सीटें मिली थीं। एक निर्दलीय प्रत्याशी को जीत मिली थी। कांगड़ा ने सत्ता की राह तैयार की और प्रदेश में भाजपा की सरकार बनी। वर्ष 2003 के विधानसभा चुनाव में कांगड़ा से कांग्रेस को 11 और भाजपा को चार सीटों पर विजय मिली। एक निर्दलीय उम्मीदवार ने जीत दर्ज की। कांगड़ा में आगे रहने वाली कांग्रेस के पास सत्ता की चाबी आ गई।

कांगड़ा जिले से शांता कुमार Shanta Kumar रहे हैं मुख्यमंत्री
प्रदेश के सबसे बड़े और सबसे ज्यादा विधानसभा सीटों वाले जिला कांगड़ा से एक ही बार मुख्यमंत्री बना है। वर्ष 1977 में शांता कुमार मुख्यमंत्री बने थे। प्रदेश की राजनीति में बड़ी भूमिका होने के बावजूद कांगड़ा को शांता कुमार के बाद दूसरा मुख्यमंत्री नहीं मिला है। 

सियासत का महाभारत कनेक्शन
कांगड़ा को प्राचीन समय में त्रिगर्त नाम से जाना जाता रहा है। यहां की राजनीतिक और सांस्कृतिक विरासत भी बहुत पुरानी है। त्रिगर्त के राजा रहे सुशर्मा का जिक्र महाभारत में भी आता है। सुशर्मा ने कौरव पक्ष की ओर से महाभारत का युद्ध लड़ा था। इस तरह से देश की प्राचीन राजनीति में भी कांगड़ा की भूमिका रही है।

2007 में भाजपा BJP के नौ और कांग्रेस के चार प्रत्याशी जीत
2007 में भाजपा के नौ और कांग्रेस के चार प्रत्याशी जीते। बसपा का एक और एक निर्दलीय जीतकर विधानसभा पहुंचे थे। तब सरकार भाजपा की बनी। 2012 में फिर कांग्रेस की सरकार बनी, उस दौरान भी कांगड़ा जिले से 10 सीटें कांग्रेस, भाजपा की तीन और दो निर्दलीय की रहीं। 2017 के विधानसभा चुनाव में 11 सीटें भाजपा, चार कांग्रेस को मिलीं। एक निर्दलीय उम्मीवार जीता। ऐसे में प्रदेश में अभी भाजपा की सरकार है। अब वर्ष 2022 चुनावी जंग निपट चुकी है और इंतजार आठ दिसंबर को आने वाले नतीजों का है। अब यह देखना दिलचस्प रहेगा कि इस बार कांगड़ा जिला किस पार्टी के लिए सत्ता की राह को तैयार करता है।

यह पढ़ें