पटियाला में हुई घटना सरकार की प्रशासनिक लापरवाही-सुखबीर सिंह बादल
पटियाला में हुई घटना सरकार की प्रशासनिक  लापरवाही-सुखबीर सिंह बादल

पटियाला में हुई घटना सरकार की प्रशासनिक लापरवाही-सुखबीर सिंह बादल

पटियाला में हुई घटना सरकार की प्रशासनिक लापरवाही-सुखबीर सिंह बादल

सदियों से दी कुर्बानियों से कायम की अमन-शांति और भाईचारक सांझ को आम आदमी पार्टी की सरकार ने  कुछ हफ्तों में ही खतरे में डाल दिया

खुद नैतिक तथा राजनीतिक जिम्मेदारी लेने की जगह  अफसरों पर इल्जाम थोपकर  भगवंत मान अपनी कर्तव्यों  से भाग रहे

पंजाब ने कुछ गैर-पंजाबी राजनीतिज्ञों की अवसरवादिता के कारण पहले ही संताप भोगाः  उसे न दोहराओ तथा सीमावर्ती राज्य पर मौकापरस्ती न करें - सरदार सुखबीर सिंह बादल ने  केजरीवाल से कहा

शांति के लिए पंजाबी एकता पहली जरूरतः अमन-शांति तथा भाईचारक सांझ के लिए हम सब इकटठेः राजनीति बाद में होती रहेगी: शिरोमणी अकाली दल अध्यक्ष का ऐलान

चंडीगढ़/30अप्रैल: शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष सरदार सुखबीर सिंह बादल ने आज पंजाब में अमन-कानून तथा भाईचारक सांझ की बिगड़ती स्थिति पर गहरी चिंता प्रकट करते हुए कहा है कि पटियाला में हुए घटना सीधे तौर पर प्रशासनिक लापरवाही तथा गैर-जिम्मेदार राजनीति तथा मौकापरस्ती का परिणाम है जो कि आम आदमी पार्टी तथा उसकी पंजाब में सरकार की कार्यशैली की पहचान बन चुकी है।

उन्होने कहा कि ‘‘ पंजाब में सालों से बेशुमार कुर्बानियों से कायम किए अमन, शांति और भाईचारक सांझ के माहौल को आम आदमी पार्टी की सरकार द्वारा पिछले कुछ हफ्तों के दौरान गंभीर खतरा पैदा हो गया है’’।

 सरदार बादल ने मुख्यमंत्री पंजाब को आश्वासन दिया कि शिरोमणी अकाली दल पंजाब की एकता, अमन तथा भाईचारक सांझ को बरकरार रखने के लिए सरकार द्वारा मुख्यमंत्री द्वारा की जाने वाली हर सार्थक पहलकदमी का पूरा समर्थन करेगा।

सरदार बादल ने कहा कि ‘‘ हमारे कितने ही मतभेद क्यों न हों, पर पंजाब में अमन -शांति तथा भाईचारक सांझ के सामने यह सब कुछ बहुत छोटा है। राजनीति बाद में होती रहेगी। पंजाब के अमन के लिए  एकता पहली जरूरत है तथा अमन-शांति की दोबारा बहाली के लिए हम पंजाब सरकार को हर तरह से सहयोग की पेशकश करते हैं’’।

सरदार बादल ने आशा जाहिर की कि कम से कम इस नाजुक अवसर पर इस गंभीर मसले पर आम आदमी पार्टी तथा इस पार्टी की मौजूदा पंजाब सरकार  सभी पार्टियों को साथ लेकर चलने वाली नीति अपनाएगी।

यहां एक प्रेस बयान जारी करते हुए सरदार बादल ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत मान से अपील की है कि ‘‘ वह स्थिति की गंभीरता को समझें तथा गैर संजीदा तथा सस्ती शोहरत वाली बयानबाजी से उपर उठें तथा सभी पार्टियों को साथ लेकर पंजाब में अमन-शांति तथा भाईचारक सांझ के लिए पैदा हुए खतरों  को दूर करने के लिए पहलकदमी करें। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री तथा आम आदमी पार्टी द्वारा इस दुखदाई तथा खतरनाक घटनाक्रम पर राजनीति करने तथा नैतिक जिम्मेदारी अपने सिर लेने की जगह सिर्फ स्थानीय अफसरों पर जिम्मेदारी थोपकर अपने कर्तव्यों से भाग रहे हैं। इससे पंजाबियों के मनों में यह सवाल पैदा होना आवश्यक है कि उनका मुख्यमंत्री उसका गैर संजीदा टौला सीमावर्ती राज्य पंजाब में अमन-शांति तथा भाईचारक सांझ के मुददे की गंभीरता को समझते हैं कि नही?

शिरोमणी अकाली दल के अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान द्वारा पटियाला के घटनाक्रम पर राजनीतिक रोटियां सेकने वाले बयान को बेहद गैर -जिम्मेदाराना , निंदनीय तथा चिंताजनक करार दिया। जिसमें सरदार मान ने इस सारे घटनाक्रम के लिए विपक्षी पार्टियों को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होने कहा कि विपक्षी पार्टियों पर दोषारोपण करते समय मान साहिब भूल गए कि आज कुछ घंटे पहले वह खुद इन घटनाओं के लिए अपने ही अफसरों की प्रशासनिक लापरवाही को जिम्मेदार ठहरा चुके  तथा वह उन अफसरों के विरूद्ध प्रशासनिक कार्रवाई भी कर चुके हैं।    

सरदार बादल ने सवाल उठाया कि क्या मान साहिब को अभी भी यह भी पता नही लगा कि मुख्यमंत्री का पद तुच्छ दोषारोपण करके गैर संजीदा मनोरंजन करने करवाने का साधन नही, बल्कि यह पद करोड़ों लोगों की जिन्दगियां को बचाने तथा सुधारने के प्रति बेहद गंभीर तथा जिम्मेदारी की मांग करता है।

पंजाब में अमन-शांति तथा भाईचारक सांझ को अचानक हुए खतरे के कारणों के बारे एक अहम टिप्पणी करते हुए अकाली दल अध्यक्ष ने कहा, ‘‘ पिछले कुछ सालों में पंजाब ने कुछ गैर पंजाबी राजनीतिज्ञों तथा पार्टियों  द्वारा की गई मौकापरस्ती भरी राजनीति के कारण बहुत दुख झेला है तथा मैं  तथा पंजाबी आम आदमी पार्टी के संयोजक तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल से आशा रखते हैं कि कम से कम सीमावर्ती राज्य पंजाब की अमन शांति तथा भाईचारक सांझ की अहमियत तथा गंभीरता को समझेंगें तथा पंजाब समेत पूरे देश में भाईचारक एकजुटता के खिलवाड़ करने वाली राजनीति से गुरेज करेंगें , यह मेरी सबसे अपील है।

पटियाला में हुए घटनाक्रम के बारे सरदार बादल ने कहा कि पंजाबियों के लिए यह बेहद चिंता का विषय है कि सरकार में बैठे लोगों द्वारा अभी तक इस नाजुक समस्या की गंभीरता को समझने की कोशिश नही की गई है। उन्होने कहा कि यह बेहद चिंता की बात है कि सरकार द्वारा अभी तक राज्य की सभी पार्टियों तथा वर्गों को इकटठे करने के लिए कोई पहलकदमी नही की गई तथा सरकार चलाने की इस मौकापरस्त तथा टकराववादी पहुंच राज्य के अमन के लिए कोई अच्छा शगुन नही है।

सरदार बादल ने सभी वर्गों , राजनीतिक पार्टियों तथा संगठनों के साथ जड़े समुह पंजाबियों से पुरजोर अपील की है कि अमन-शांति तथा भाईचारक सांझ बनाए रखने के लिए हमें  भेदभाव से उपर उठकर काम करना चाहिए।