रितु का कड़क अंदाज: सदन में बोलीं, प्रोफेसर रही हूं, अनुशासन प्राथमिकता', सुर्खियों में प्रदेश की पहली महिला स्पीकर
रितु का कड़क अंदाज: सदन में बोलीं

रितु का कड़क अंदाज: सदन में बोलीं, प्रोफेसर रही हूं, अनुशासन प्राथमिकता', सुर्खियों में प्रदेश की पह

रितु का कड़क अंदाज: सदन में बोलीं, प्रोफेसर रही हूं, अनुशासन प्राथमिकता', सुर्खियों में प्रदेश की पहली महिला स्पीकर

चार दिन के उत्तराखंड विधानसभा बजट सत्र में बतौर विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी भूषण पर सबकी निगाहें थीं. उनके लिए यह एक नया अनुभव जरूर है लेकिन उन्होंने अपने अलग अंदाज से छाप छोड़ी है. उनका कहना है कि विधानसभा सदन की अपनी गरिमा है. इसलिए सदन में अनुशासन को ही प्राथमिकता देना पसंद करती रहेंगी. विधानसभा अध्यक्ष ऋतु खंडूरी भूषण ने अनिश्चितकाल के लिए सत्र स्थगित होने के बाद खुलकर अपने अनुभव साझा किए. उन्होंने कहा कि उनका मकसद था कि सत्र ज्यादा से ज्यादा समय तक चलता. कई नए विधायक हैं, उन्हें बोलने का बेहतर मौका मिल सकता था. देखिए ये वीडियो.