पिन्दा गैंग के बकाया सदस्यों को पुलिस ने किया काबू, गिरफ्तार किये 19 सदस्यों में से 13 शूटर
पिन्दा गैंग के बकाया सदस्यों को पुलिस ने किया काबू

पिन्दा गैंग के बकाया सदस्यों को पुलिस ने किया काबू, गिरफ्तार किये 19 सदस्यों में से 13 शूटर

पिन्दा गैंग के बकाया सदस्यों को पुलिस ने किया काबू, गिरफ्तार किये 19 सदस्यों में से 13 शूटर

दोषियों के पास से 11 हथियार, 2 वाहन और 8 लाख रुपए की विदेशी करैंसी की बरामद
गिरफ्तार किये व्यक्तियों में से 13 शूटर हैं हिस्ट्री-शीटर, जो जालंधर, कपूरथला, फिऱोज़पुर, तरन तारन और बठिंडा में  24 से अधिक फ़ौजदारी मुकदमों में वांछित हैं - एस. एस. पी. स्वप्न शर्मा

चंडीगढ़/ जालंधर, 24 जून:
    
तीन हफ्ते चले आपरेशन के बाद, जालंधर ग्रामीण पुलिस ने पिन्दा गैंग से जुड़े फिरौती और हथियारों की तस्करी के रैकेट का पर्दाफाश करते हुये गिरोह के 13 सदस्यों - सभी शार्प शूटर, इसके अलावा पनाह देने और लॉजिस्टिक सहायता मुहैया कराने वाले 6 अन्यों को गिरफ्तार किया है। यह जानकारी सीनियर पुलिस कप्तान ( एसएसपी) स्वप्न शर्मा ने शुक्रवार को सांझा की। 
 
गैंगस्टर विक्की गौंडर का करीबी साथी पलविन्दर सिंह उर्फ पिन्दा, जिसकी नाभा जेल ब्रेक में भी भूमिका सामने आई थी, को गैंग का सरगना बताया जाता है और ज़ाहिर तौर पर परमजीत उर्फ पम्मा, निवासी शाहकोट, जालंधर और जो कि मौजादा समय ग्रीस में रहता है, की मदद से गैंग को संभाल रहा था। 
 
गिरफ्तार किये गए 13 शूटरों की पहचान सुनील मसीह उर्फ जीउना, रविन्द्र उर्फ रवि, प्रदीप सिंह, मनजिन्दर उर्फ शवि और सुखमन सिंह उर्फ सभ्भा, सभी निवासी लोहियाँ, जालंधर; सन्दीप उर्फ दिल्ली, मेजर सिंह, अपरेल सिंह उर्फ शेरा, बलविन्दर उर्फ गुढ्ढा और सलिन्दर सिंह; सभी वासी नकोदर, जालंधर; सतपाल उर्फ सत्ता निवासी मक्खू, फिऱोज़पुर; दविन्दरपाल सिंह उर्फ दीपू और सतवंत सिंह उर्फ जग्गा निवासी शाहकोट, जालंधर के तौर पर हुई है। यह सभी गिरफ्तार व्यक्ति हिस्ट्री शीटर हैं और इन पर कत्ल, इरादातन कत्ल, जबरन वसूली और हथियारों की तस्करी समेत घृणित अपराधों से सम्बन्धित मामले दर्ज हैं। 
 
जबकि 6 अन्य व्यक्ति, जिनको पनाह देने और लॉजिस्टिक स्पोर्ट देने के दोष में गिरफ्तार किया गया है, की पहचान अमरजीत उर्फ अमर निवासी धर्मकोट; बलबीर मसीह, एरिक और बादल, तीनों ही निवासी लोहियाँ; हरविन्दर सिंह निवासी शाहकोट और बचित्तर सिंह निवासी कपूरथला के तौर पर हुई है। 
 
पुलिस ने दोषियों के पास से सात .32 बोर पिस्तौल, तीन .315 बोर पिस्तौल, एक .315 बोर की बंदूक और एक .12 बोर की बंदूक समेत 9 हथियार बरामद किये हैं और टोयटा इनोवा और महिंदरा ऐकसयूवी 500 समेत दो वाहनों के इलावा 8 लाख रुपए की विदेशी करैंसी भी बरामद की है। 

एस. एस. पी. ने बताया कि परमजीत उर्फ पम्मा गिरोह को फायनांस करता था और अमरजीत उर्फ अमर को हवाला के द्वारा विदेसी करैंसी भेजता था, जो आगे अलग-अलग अपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए गिरोह के सदस्यों में बाँटता था। 
 
उन्होंने बताया कि यह गिरोह पिछले छह सालों से सक्रिय है और मध्य प्रदेश से संगठित जबरन वसूली, हथियारबंद हाईवे डकैती, भू-माफिया और हथियारों की तस्करी में शामिल है। 
 
स्वप्न शर्मा ने कहा, ‘इस गिरोह की गिरफ्तारी से पुलिस की तरफ से जालंधर और बठिंडा में कत्ल, जबरन वसूली और हाईवे आम्र्ड डकैती समेत तीन बड़े मामलों को भी सुलझाने में कामयाबी हासिल की गई है।’ उन्होंने बताया कि गिरफ्तार किये कुल 19 व्यक्तियों में से कम से कम 12 व्यक्ति पुलिस को आठ अपराधिक मामलों में वांछित थे।