Cattle Breeders Will Be Able To Produce Calves : हिमाचल में अब पशुपालक अपनी इच्छा से पैदा करा पाएंगे बछियां
Cattle Breeders Will Be Able To Produce Calves

Cattle Breeders Will Be Able To Produce Calves

हिमाचल में अब पशुपालक अपनी इच्छा से पैदा करा पाएंगे बछियां

प्रदेश में अब हर जिले में मिलेंगे सेक्स सॉर्टेड सीमेन

15 सितंबर बद्दी (राजेन्द्र चौधरी)  गौ सेवा आयोग के उपाध्यक्ष अशोक  शर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय गोकुल मिशन के तहत हिमाचल प्रदेश में कृत्रिम गर्भाधान के लिए स्वदेशी सेक्स सॉर्टेड सीमेन योजना प्रदेश में शुरू कर दी है। इस योजना के तहत 8 करोड़ 41 लाख 65 हजार रुपये खर्च करके एक लाख 68 हजार 407 वीर्य तृण उपल्बध करवाए जाएंगे। जिनके उपयोग से एक लाख 3 हजार गायों में 60 हजार गर्भाधारण सुनिश्चित किये जाएंगे। 17 हजार वीर्य तृण प्रदेश में  उपलब्ध कराये गए है।


प्रेस को जारी बयान में उन्होंने कहा कि सरकार ने इस योजना लांच कर दिया है। अब पशुपालक अपनी मर्जी से थार पारकर,  साईवाल, जसरी और सिंधी प्रजाति के बछियां पैदा करा पा सकेंगे। इस सीमेन से केवल बछियां ही होगी। अक्सर देखा गया है कि बछड़े होने पर पशुपालन जब गाय दूध  देना बंद कर देती है तो उसे सडक़ों पर छोड़ दिया जाता है। वर्तमान में प्रदेश में 12 हजार गो वंश सडक़ों पर है। प्रदेश में 220 गौशालाएं और 8 गौ सेंचूरी चली हुई है। दो गो सेंचूरी अभी चलने वाली है। तीन से चार हजार  गौवंश अभी इन अभ्यारण्य केंद्र में रखे जा सकेंगे।


उन्होंने बताया कि सेक्स सॉर्टेड सीमेन को हर जिले में भेजा जाएगा। जहां पर किसान अपनी इच्छा से बछियों की प्रजाति पैदा करा पाएगा। इस सीमेन की कीमत 15 सौ रुपये है। लेकिन केंद्र सरकार ने इसे अनुदान देकर 250 रुपये रखा है। लेकिन प्रदेश सरकार ने 125 रुपये और अनुदान इस पर लगा दिया है जिससे अब यह पशुपालकों को मात्र 125 रुपये में उपल्बध होगा ।

पूरी खबर पढ़ें - हिमाचल में अब पशुपालक अपनी इच्छा से पैदा करा पाएंगे बछियां