BREAKING
Haryana: आसमानी बिजली गिरने से बाबैन के गांव खिड़की वीरान में खेत में सरसों काट रहे मां सरोज बाला व बेटे रमन सैनी की मौके पर हुई मौत BJP के लोकसभा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी; PM मोदी यहां से लड़ेंगे चुनाव? जानिए कहां से कौन उम्मीदवार खड़ा BJP के एक और सांसद ने सक्रिय राजनीति से संन्यास लिया; जेपी नड्डा को लिखा पत्र, इससे पहले गौतम गंभीर ऐसा ही कर चुके भारत में स्पेन की महिला का गैंगरेप; झारखंड में घूमने आई थी, रात में दरिंदों ने मारपीट कर जिस्म नोचा, अस्पताल में इलाज चल रहा युवराज सिंह ने कहा- मैं गुरदासपुर से चुनाव नहीं लड़ रहा; BJP के टिकट पर लड़ने की चर्चा थी, सनी देओल को साइड कर रही पार्टी

AAP सांसद राघव चड्ढा को राहत; 115 दिन बाद संसद सदस्यता बहाल, निलंबन रद्द हुआ तो फिर लौटे राज्यसभा, VIDEO जारी कर यह बात कही

AAP Rajya Sabha MP Raghav Chadha Suspension Revoked Update

AAP Rajya Sabha MP Raghav Chadha Suspension Revoked Update

Raghav Chadha Suspension Revoked: आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा की संसद सदस्यता बहाल हो गई है। सदन में फर्जीवाड़े के आरोप में राघव चड्ढा को 11 अगस्त को राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया था। निलंबित होने के बाद वह राज्यसभा की कार्रवाई में शामिल नहीं हो पाये। फिलहाल, अब करीब 115 दिन बाद राघव चड्ढा को उनकी राज्यसभा सदस्यता वापस मिल गई है। जिसके चलते वह काफी खुश नजर आ रहे हैं। निलंबन रद्द होने पर राघव चड्ढा ने एक वीडियो भी जारी किया है। जिसमें उन्होने सुप्रीम कोर्ट और राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ को धन्यवाद दिया है।

AAP सांसद राघव चड्ढा ने कहा कि 11 अगस्त को मुझे राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया था। मैं अपने निलंबन को रद्द कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट गया...सुप्रीम कोर्ट ने इस पर संज्ञान लिया और अब 115 दिनों के बाद मेरा निलंबन रद्द कर दिया गया है...मुझे खुशी है कि मेरा निलंबन वापस ले लिया गया है और मैं सुप्रीम कोर्ट और राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ को धन्यवाद देना चाहता हूं। राघव चड्ढा ने कहा कि जब मैं 115 दिन सदन के बाहर रहा तो इस दौरान मैं लोगों के हक की बात नहीं कर पाया, उनके अधिकार की लड़ाई नहीं लड़ पाया लेकिन देर आए दुरुस्त आए। अंततः राज्यसभा में मेरा निलंबन समाप्त हुआ और न्याय हुआ।

 

क्या था वो फर्जीवाड़ा?

दरअस, अगस्त में दिल्ली सेवा विधेयक से संबंधित एक प्रस्ताव पर राज्यसभा में चर्चा चल रही थी। इस दौरान राघव चड्ढा पर पांच सांसदों के फर्जी हस्ताक्षर करने का आरोप लगा था। इसके बाद सांसदों की बिना सहमति के प्रस्ताव पर नाम लेने के आरोप में उन्हें राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया था।