हरियाणा के आईएएस अधिकारी बने अध्यापक
हरियाणा के आईएएस अधिकारी बने अध्यापक

हरियाणा के आईएएस अधिकारी बने अध्यापक

हरियाणा के आईएएस अधिकारी बने अध्यापक

बच्चों को पीसीएम की निशुल्क कोचिंग दे रहे प्रभजोत सिंह
यू ट्यूब चैनल शुरू कर डाल रहे हैं लैक्चर

चंडीगढ़। आमतौर पर आपने आईएएस अधिकारियों को फाइलों में उलझे हुए देखा होगा लेकिन हरियाणा के एक आईएएस अधिकारी ऐसे भी हैं अपने दफ्तरी काम के बाद समय मिलते ही बच्चों को पढ़ाने में जुट जाते हैं। वह न केवल बच्चों को पढ़ाते हैं बल्कि उन्हें प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए उन्हें मोटीवेशनल स्पीच भी देते हैं। 
आईएएस प्रभजोत सिंह 12वीं के गोल्ड मैडलिस्ट हैं। उनका आईएएस में 16वां रैंक आया था। वह इसरो में वैज्ञानिक भी रह चुके हैं। इसके अलावा वे क्रिकेट और बैडमिंटन के भी अच्छे खिलाड़ी हैं। वर्ष 2010 बैच के आईएएस प्रभजोत सिंह हरियाणा में इस समय एनएचएम में मिशन निदेशक और एचएमएससीएल के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ आयुष्मान भारत की बतौर वरिष्ठ अधिकारी के तौर पर जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। दफ्तरी कामकाज के बाद जैसे ही उन्हें समय मिलता है तो वह 11वीं और 12वीं के साइंस संकाय के विद्यार्थियों को सोशल मीडिया के सबसे बड़े प्लेटफार्म यूटयूब के माध्यम से निशुल्क कोचिंग उपलब्ध करवाते हैं। जिसके लिए उन्होंने यूटयूब पर ‘पीसीएम कंस्पट्स मोटिवेशनल टॉकस’ के नाम से चैनल भी बनाया हुआ है। जिस पर वह फिजिक्स और मैथ के एक-एक चैप्टर को पूरे कंसैप्ट के साथ क्लीयर करके अपलोड करते हैं।

कैसे आया बच्चों को पढ़ाने का विचार 
आईएएस प्रभजोत सिंह के अनुसार उन्हें किताबें पढऩे का काफी शौंक है और वह अपने जीवन में किसी न किसी चुनौती को साथ लेकर चलते हैं ताकि उनकी कार्यशैली के साथ-साथ जज्बे में भी निखार आए। बस, बुक्स पढऩे के इसी शौंक से उनके मन में विचार आया कि क्यों न बुक्स से अर्जित किए गए ज्ञान को बच्चों के बीच बांटा जाए। 
इसी विचार को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कई साथियों से विचार विमर्श के बाद सोशल मीडिया के सबसे बड़े प्लेटफार्म यूटयूब पर ‘प्रभजोत सिंह आईएएस पीसीएम कंस्पट्स मोटिवेशनल टॉकस’ के नाम से एक चैनल क्रिएट किया। जिस पर वह 11वीं और 12वीं के साइंस संकाय के बच्चों के फिजिक्स और मैथ के एक-एक चैप्टर से जुड़े कंस्पट्स को क्लीयर करके वीडियो के साथ अपलोड करते हैं। अभी तक वे फिजिक्स के और मैथ के तीन चैप्टर को क्लीयर करके अपलोड कर चुके हैं।