हरियाणा सरकार जैम व जीआरआईएचए प्रमाणित इमारतों का बढ़ाएगी तीन प्रतिशत एफएआर:देवेंद्र सिंह
हरियाणा सरकार जैम व जीआरआईएचए प्रमाणित इमारतों का बढ़ाएगी तीन प्रतिशत एफएआर:देवेंद्र सिंह

हरियाणा सरकार जैम व जीआरआईएचए प्रमाणित इमारतों का बढ़ाएगी तीन प्रतिशत एफएआर:देवेंद्र सिंह

हरियाणा सरकार जैम व जीआरआईएचए प्रमाणित इमारतों का बढ़ाएगी तीन प्रतिशत एफएआर:देवेंद्र सिंह

पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आर्किटेक्ट्स ने किया आर्किटेक्चर कॉन्क्लेव का आयोजन
पिंजौर में 400 एकड़ की परियोजना बिजली-पानी में होगी आत्मनिर्भर:जोशी

चंडीगढ़। मजबूत व टिकाऊ भवन बुनियादी ढांचे का भविष्य हैं। ऐसे भवन जहां पर्यावरण के अनुकूल हैं वहीं इनमें ऊर्जा की भी कम खप्त होती है। उक्त विचार टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव आईएएस दविंदर सिंह ने पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स तथा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आर्किटेक्ट्स द्वारा आयोजित आर्किटेक्चर कॉन्क्लेव में आर्किटेक्ट्स को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा प्रदेश में भविष्य की जरूरतों तथा प्राकृतिक आपदाओं को ध्यान में रखकर बनाई जाने वाली ग्रीन रेटिंग इंटीग्रेटिड हैबीटेट एसेसमेंट (जीआरआईएचए) इमारतों के जैम प्रमाणित इमारतों के लिए एफएआर को तीन प्रतिशत बढ़ाने पर विचार कर रही है। हरियाणा में बन रही इमारतों को इंटीग्रेटिड हरियाणा बिल्डिंग कोड के अनुसार बनवाया जा रहा है।
इस अवसर पर बोलते हुए हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के मुख्य प्रशासक आईएएस अजीत बाला जी जोशी ने आर्किटेक्ट्स को टिकाऊ इमारत निर्माण और विकास के लिए एचएसवीपी द्वारा लागू की गई विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार पिंजौर में करीब 400 एकड़ की बुनियादी ढांचा परियोजना विकसित कर रही है। यह परियोजना बिजली व पानी की आवश्यकताओं के मामले में आत्मनिर्भर होगी।
कार्यक्रम के दौरान इंडियन इंस्टीट््यूट ऑफ आर्किटेक्ट्स हरियाणा चैप्टर के पुनीत सेठी ने टिकाऊ आर्किटेक्चर के विषय पर अपनी प्रस्तुति दी।
इससे पहले आए हुए अतिथियों का स्वागत करते हुए पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स की अंतरराष्ट्रीय मामलों बारे समिति के दक्षिण एशिया अध्यक्ष नवीन सरदाना ने कहा कि भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखकर टिकाऊ इमारत निर्माण जरूरी है। इस अवसर पर हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के चीफ आर्किटेक्ट एच.आर. यादव, आईआईए पंचकूला के पूर्व अध्यक्ष अनिल वालिया, उपाध्यक्ष सुकुमार, पीएचडी चैंबर ऑफ कामर्स हरियाणा चैप्टर के पूर्व अध्यक्ष प्रणव गुप्ता समेत कई गणमान्यों ने अपने विचार व्यक्त किए।