उत्तरी वजीरिस्तान में बंदूकधारियों ने कार पर की अंधाधुंध फायरिंग, 4 सामाजिक कार्यकर्ताओं की मौत
उत्तरी वजीरिस्तान में बंदूकधारियों ने कार पर की अंधाधुंध फायरिंग

उत्तरी वजीरिस्तान में बंदूकधारियों ने कार पर की अंधाधुंध फायरिंग, 4 सामाजिक कार्यकर्ताओं की मौत

उत्तरी वजीरिस्तान में बंदूकधारियों ने कार पर की अंधाधुंध फायरिंग, 4 सामाजिक कार्यकर्ताओं की मौत

पेशावरः पाकिस्तान के उत्तरी वाजिरिस्तान में रविवार को एक कार पर अंधाधुंध फायरिंग  से एक संगठन के चार सामाजिक कार्यकर्ताओं की मौत हो गई। मृतक कार्यकर्ता यूथ आफ वजीरिस्तान नामक संगठन से जुड़े हुए थे।  'डान' की रिपोर्ट के मुताबिक अज्ञात बंदूकधारियों ने  कार पर गोलीबारी की जिससे एक सामाजिक संगठन के चार सदस्यों की मौत हो गई। जिला पुलिस और स्थानीय लोगों ने बताया कि मिराली तहसील के हैदरखेल इलाके में दो मोटरसाइकिलों पर अज्ञात लोगों ने चलती कार पर अंधाधुंध फायरिंग की थी।

सभी मृतक कार्यकर्ता सामाजिक संगठन यूथ आफ वजीरिस्तान के सदस्य थे। इन सभी की पहचान वकार अहमद डावर, सुनैद अहमद डावर, आमद डावर और असदुल्ला के रूप में हुई है। शवों को मिराली शहर के एक अस्पताल में शिफ्ट कर दिया गया है। जर्ब-ए-अज्ब सैन्य अभियान के बाद गठित युवा संगठन ने आतंकवाद प्रभावित क्षेत्र में शांति बहाली के लिए काम किया है। डान की रिपोर्ट के अनुसार, संगठन ने लक्षित हत्याओं के खिलाफ विरोध और धरना भी दिया है। करीब दो साल पहले सुरक्षा एजेंसियों ने यूथ आफ वजीरिस्तान द्वारा आयोजित धरना के खिलाफ कार्रवाई की और इसके संस्थापक अध्यक्ष नूर इस्लाम डावर को गिरफ्तार कर लिया।

हाल ही में, पाकिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्रों में विशेष रूप से उत्तरी वजीरिस्तान जिले में आतंकवादी गतिविधियां तेज हो गई हैं।  मिराली कस्बे में एक और मामला दर्ज किया गया है, जहां एक बाजार से अगवा किए गए दो लोगों के गोलियों से छलनी शव टोची नदी के पास पाए गए । मिराली कस्बे के निवासियों ने बताया कि अज्ञात बंदूकधारियों ने खादी बाजार से दो लोगों का अपहरण कर लिया था।अभी तक किसी भी समूह ने इस हत्या की जिम्मेदारी नहीं ली है।

मृतक लक्की मारवात जिले का रहने वाला था।  घटना रविवार की है जब दक्षिण वजीरिस्तान में दो लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। एक घटना खैसूर गांव की है, जहां बंदूकधारियों ने अब्दुर रहमान की गोली मारकर हत्या कर दी। मृतक रहमान की गांव में मोबाइल फोन की दुकान थी। एक अन्य घटना में जिले के शकतोई इलाके में एक अज्ञात हमलावर ने एक व्यक्ति की हत्या कर दी। पाकिस्तानी पुलिस भी आतंकियों का मुख्य निशाना बनती जा रही है।