एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार पर विवादित ट्वीट कर फंसे फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा, लखनऊ में एफआइआर दर्ज
एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार पर विवादित ट्वीट कर फंसे फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा

एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार पर विवादित ट्वीट कर फंसे फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा, लखनऊ में एफआइ

एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार पर विवादित ट्वीट कर फंसे फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा, लखनऊ में एफआइआर दर्ज

फिल्म निर्माता राम गोपाल वर्मा (Ram Gopal Varma) के खिलाफ लखनऊ के हजरतगंज कोतवाली में रविवार को केस दर्ज किया गया है. दरअसल, उन पर ये आरोप लगाया गया है कि ट्विटर पर झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, पांडव और कौरव को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. एडीसीपी राघवेंद्र मिश्रा के मुताबिक, ये केस गंडबा के अर्जुन इन्क्लेव फेज 2 कुर्सी रोड पर रहने वाले मनोज कुमार सिंह की शिकायत पर किया गया है. राम गोपाल वर्मा पर आईटी एक्ट के तहत कई धाराओं में ये मुकदमा दर्ज किया गया है.

फिर दर्ज हुई राम गोपाल वर्मा पर FIR

दरअसल, राम गोपाल वर्मा ने महाभारत काल के दो नामों का सहारा लेते हुए झारखंड से आगामी राष्ट्रपति चुनाव में एक उम्मीदवार के तौर पर खड़ी पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को लेकर टिप्पणी की थी जिसके बाद ये विवाद खड़ा हो गया था. इस विवाद की वजह से उन पर मामला भी दर्ज किया गया था. हालांकि, इस पर सफाई देते हुए राम गोपाल वर्मा ने कहा था कि उनका इरादा किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का नहीं था.

द्रौपदी मुर्मू को लेकल राम गोपाल वर्मा ने अपनी टिप्पणी में कहा था कि, ‘अगर द्रौपदी राष्ट्रपति हैं, तो पांडव कौन हैं? और सबसे अहम बात ये है कि कौरव कौन हैं?’ उनकी इसी टिप्पणी को लेकर बीजेपी के नेता गुडूर नारायण रेड्डी और टी. नंदेश्वर गौड़ ने हैदराबाद के एबिड्स पुलिस स्टेशन में राम गोपाल वर्मा के खिलाफ अपनी शिकायत दर्ज करवाई थी. उन्होंने राम गोपाल वर्मा पर एससी-एसटी लोगों का अपमान करने का आरोप लगाया था.

अपने ट्वीट में राम गोपाल वर्मा ने दी थी सफाई

इस पर अपनी सफाई देते हुए राम गोपाल वर्मा ने ट्वीट करते हुए कहा था कि, ‘मैंने ऐसा सिर्फ गंभीर विडंबना के लिहाज से कहा था और इसका दूसरा कोई मकसद नहीं था. द्रौपदी ‘महाभारत’ में मेरा फेवरेट किरदार है लेकिन क्यूंकि ये नाम बहुत ही रेयर है, मुझे इससे जुड़े किरदार याद आ गए. किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने का मेरा कोई इरादा नहीं था.’

मनोज ने अपनी शिकायत में कहा कि, क्यूंकि इस समय राष्ट्रपति का चुनाव होना है और इस चुनाव में प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू हैं. ऐसे में जान बूझकर ट्वीट करना सही नहीं है. उनके इस ट्वीट से काफी लोग दुखी हो रहे हैं. उनका ये ट्वीट महिला को अपमानित करने वाला है. उन्होंने कौरवों और पांडवों को भी गलत तरीके से प्रस्तुत किया जिससे लोगों की धार्मिक भावनाएं भी आहत हुई हैं.