कांगड़ा में बढ़ेगा महिलाओं का वर्चस्व
कांगड़ा में बढ़ेगा महिलाओं का वर्चस्व

कांगड़ा में बढ़ेगा महिलाओं का वर्चस्व

कांगड़ा में बढ़ेगा महिलाओं का वर्चस्व

22 सितंबर के बाद कांगड़ा में होगा बड़ा राजनीतिक उलटफेर: पंडित डोगरा

ऊना। वशिष्ठ ज्योतिष सदन के अध्यक्ष एवं जाने माने अंक ज्योतिषाचार्य पंडित शशिपाल डोगरा ने कांगड़ा जिला को लेकर बड़ी भविष्यवाणी की है। उनके मुताबिक प्रदेश के सबसे बड़े कांगड़ा जिले में 22 सितंबर 2022 के बाद किसी बड़ी राजनीतिक हलचल का योग बन रहा है। इसके बाद जिले में महिलाओं का वर्चस्व बढ़ेगा। 
पंडित डोगरा के मुताबिक कांगड़ा जिले की 15 विधानसभा हैं। 1 + 5 = 6 अंक, जो शुक्र का अंक है। राज्य में 2022 में चुनाव होने हैं। 2 + 0 + 2 + 2 = 6 अंक, भी शुक्र का अंक है। शुक्र स्त्री कारक ग्रह है। ऐसे में इस जिला में महिलाओं का वर्चस्व बढ़ेगा। उनके मुताबिक कांगड़ा का 2 + 1 + 5 + 7 + 9 + 1 = 25 = 2 + 5 = 7 अंक है, जो केतु का अंक है। केतु बिना सिर का ग्रह है और यह दिशाहीन भी करता है। वहीं, केतु अचानक राजनीति का कारक भी है। 6 अंक शुक्र का प्रभाव अधिक होने के कारण कांगड़ा में महिलाओं की अचानक ही राजनीति में वर्चस्व बढ़ सकता है।
पंडित डोगरा ने कहा कि गणना के मुताबिक कांगड़ा जिले में महिलाएं कुछ दिग्गजों के लिए परेशानी का कारण बन सकती हैं। इस कारण राजनीति में उलटफेर हो सकता है, क्योंकि महिलाओं को रोकने की कोशिश की जाएगी। उन्होंने कहा कि 2022 का 6 अंक व कांगड़ा का 7 अंक है। 6 + 7 = 13 = 1 + 3 = 4 अंक राहु का अंक राहु, जो षड्यंत्र का कारक है। यह झूठ, धोखे और विरोध का कारक है। वहीं, भीतरघात का योग भीलबन रहा है। साथ ही किसी बड़ी अनहोनी की आशंका बन रही है और दुर्घटना का योग बन रहा है। साथ ही कहा कि राहु के कारण शमशान योग भी बनता है। बाकि सर्वज्ञ तो ईश्वर है।