नशों के विरुद्ध जंग-पंजाब पुलिस ने एक सप्ताह में 155 किलो हेरोइन की बरामदगी की
नशों के विरुद्ध जंग-पंजाब पुलिस ने एक सप्ताह में 155 किलो हेरोइन की बरामदगी की

नशों के विरुद्ध जंग-पंजाब पुलिस ने एक सप्ताह में 155 किलो हेरोइन की बरामदगी की

नशों के विरुद्ध जंग-पंजाब पुलिस ने एक सप्ताह में 155 किलो हेरोइन की बरामदगी की

नशा विरोधी चल रही मुहिम के दौरान पुलिस टीमों ने हेरोइन के अलावा 16.29 लाख रुपए की ड्रग मनी, 15 किलो अफ़ीम, 37 किलो गांजा, 16 क्विंटल भुक्की, 64000 नशीली गोलियाँ बरामद

चंडीगढ़, 18 जुलाई:
नशों के विरुद्ध जारी जंग के दौरान पंजाब पुलिस ने पिछले हफ़्ते दो अंतर-राज्यीय ऑपरेशनों के दौरान गुजरात और महाराष्ट्र दोनों राज्यों में से 147. 5 किलोग्राम हेरोइन बरामद करने में कामयाबी हासिल की है। इन दो बरामदगियों के अलावा राज्य में से पिछले सप्ताह 7.89 किलोग्राम हेरोइन बरामद की गई, जिससे हेरोइन की कुल बरामदगी 155.39 किलोग्राम हो गई है। यह जानकारी आज यहाँ इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (आईजीपी) हैडक्वाटर सुखचैन सिंह गिल ने दी। 
जि़क्रयोग्य है कि 12 जुलाई को ए. टी. एस. गुजरात के साथ सांझा ऑपरेशन के दौरान, पंजाब पुलिस ने गुजरात की मुन्दरा बंदरगाह पर कंटेनर में से 75 किलोग्राम हेरोइन बरामद की थी, जबकि 15 जुलाई को महाराष्ट्र पुलिस के साथ मिल कर मुम्बई के नाहवा शेवा पोर्ट पर कंटेनर में से 72.5 किलोग्राम हेरोइन बरामद की गई थी। 
नशों की बरामदगी सम्बन्धी अपनी साप्ताहिक प्रैस कान्फ्ऱेंस को संबोधन करते हुये आईजीपी ने बताया कि पंजाब पुलिस ने राज्य भर में पिछले एक सप्ताह के दौरान नारकोटिक ड्रग्गज़ एंड साईकोट्रोपिक सब्स्टैंस ( एनडीपीएस) एक्ट के अंतर्गत 34 व्यापारिक ऐफआईआरज़ समेत 453 ऐफआईआरज़ दर्ज करके 565 नशा तस्करों/ सप्लायरों को गिरफ़्तार किया है। 
उन्होंने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान की तरफ से पंजाब पुलिस को नशों के विरुद्ध जंग के लिए पूरी छूट देने के उपरांत पंजाब पुलिस द्वारा सरहदी राज्य पंजाब में से नशों की बीमारी को ख़त्म करने के लिए व्यापक नशा विरोधी मुहिमें चलाईं जा रही हैं। 
हेरोइन की बड़ी खेप बरामद करने के अलावा, पुलिस ने घेराबन्दी और तलाशी मुहिमें चला कर और संवेदनशील रूटों पर नाके लगा कर नशा प्रभावित क्षेत्रों में 16.29 लाख रुपए ड्रग मनी, 15 किलो अफ़ीम, 37 किलो गाँजा, 16 क्विंटल भुक्की और 64000 नशीली गोलियां/ कैपसूल समेत अन्य नशीले पदार्थ भी बरामद किये हैं। उन्होंने कहा कि पिछले सप्ताह ऐनडीपीऐस मामलों में 10 भगौड़े भी गिरफ़्तार किये गए हैं। 
नशा तस्करी के रुझान पर बात करते हुये आईजीपी सुखचैन गिल ने कहा कि अपने आप को गिरफ़्तारी से बचाने के लिए आजकल नशा तस्कर पैदल ही नशों की तस्करी करने को प्राथमिकता देरहे हैं। उन्होंने कहा कि नशा तस्कर कम मात्रा में नशा बेच रहे हैं जिससे पकड़े जाने पर भी उनके मामले को व्यापारिक नज़रिए से न समझा जाये। उन्होंने आगे कहा कि नशा तस्कर छापे के दौरान बरामदगी से बचने के लिए अपने घरों में नशीले पदार्थों की खेप छिपाने की बजाय, इसको छप्पड़ों और खेतों में छिपाने को प्राथमिकता दे रहे हैं। 
उन्होंने बताया कि पकड़े गए नशा तस्करों से यह पता लगा कि नशे की सप्लाई पठानकोट के साथ लगते इलाके हिमाचल प्रदेश के गाँव छन्नी-बेली या जम्मू- कश्मीर के पड़ोसी कठुआ जिले से होती है, इसलिए सरहदी जिलों के एस. एस. पीज़ को इन पड़ोसी राज्यों की पुलिस के साथ तालमेल रखने के लिए कहा गया है। 
आईजीपी ने बताया कि मालेरकोटला में नशा तस्करी का नया ढंग सामने आया है जहाँ नशा तस्कर रोहित साही उर्फ गोल्डी निवासी अमरगढ़ फ़ौज की वर्दी में हेरोइन बेचता पाया गया। पुलिस ने उसकी कार में से 50 ग्राम हेरोइन भी बरामद की है। 
उन्होंने कहा कि डीजीपी की तरफ से सभी सीपीज़/ एसएसपीज़ को सभी नामी नशा तस्करों को काबू करने और अपने अधिकार क्षेत्रों में नशा तस्करी वाले संवेदनशील स्थानों की शिनाखत करके नशा तस्करों पर नकेल कसने और नशा बेचने/ तस्करी करने वाले सभी व्यक्तियों को काबू करने के लिए तलाशी मुहिम शुरू करने के सख़्त हुक्म दिए गए हैं। उन्होंने पुलिस मुखियों को यह भी हिदायत की कि पकड़े गए सभी नशा तस्करों की जायदाद ज़ब्त की जाये जिससे उनसे नाजायज धन बरामद किया जा सके।