Bloody Skirmish: पंजाब में टेंपो की लाइट टूटने को लेकर हुई खूनी झड़प, चार गंभीर जख्मी
Bloody Skirmish: पंजाब में टेंपो की लाइट टूटने को लेकर हुई खूनी झड़प

Bloody Skirmish: पंजाब में टेंपो की लाइट टूटने को लेकर हुई खूनी झड़प, चार गंभीर जख्मी

Bloody Skirmish: पंजाब में टेंपो की लाइट टूटने को लेकर हुई खूनी झड़प, चार गंभीर जख्मी

डेराबस्सी। Bloody Skirmish: डेराबस्सी के निकटवर्ती गांव फतेहपुर बेहडा में झगड़े के दौरान दो पक्षों के चार लोग घायल हो गए। उन्हें डेराबस्सी सिविल अस्पताल से चंडीगढ़ के सेक्टर 32 में भर्ती कराया गया। घायलों में रंजीत सिंह, गुरविंदर सिंह, अमन पुत्र मनजीत सिंह और सुखविंदर सिंह सुखा पुत्र रणजीत सिंह शामिल हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

Bloody Skirmish: ये है मामला

 गुरदीप सिंह पुत्र दल सिंह ने बताया कि वह रात को टेम्पु से भैंस उतार रहा था। गुरदीप सिंह के मुताबिक रात करीब साढ़े नौ बजे गांव के सुखविंदर सिंह सुखा ट्रैक्टर ट्रॉली लेकर आ रहे थे जिसने उसकी गाड़ी के साइड में टक्कर मार  लाइट तोड़ दी। गुरदीप सिंह का आरोप है कि सुखा शराब के नशे में धुत था जिसने बहस के बाद अपने भाई सोनी, पिता रणजीत सिंह और मां को बुलाकर उनके साथ हाथापाई शुरू कर दी। जब भाई गुरविंदर सिंह उसकी मदद के लिए आया तो उसकी भी बुरी तरह पीटाई कर दी गई। मौके की नजाकत देखते वे घर चले गए। उन्होंने घर पर हमला कर ट्रैक्टर से घर का गेट तोड़ दिया और अंदर घुस गए और उनकी पिटाई कर दी।  

Bloody Skirmish: दुसरे पक्ष का बयान

दूसरे पक्ष के रिश्तेदार सोनी पुत्र जोगा सिंह वासी सुधराना ने सभी आरोपों से इनकार किया और कहा कि उन्होंने कुछ नहीं किया। उनके रिश्तेदारों ने किसी के घर पर हमला नहीं किया। ट्रैक्टर से उनके टेम्पु की टक्कर के दौरान झगड़ा बढ़ गया। जिसमें उनके पक्ष के सदस्य अमन पर गंडासे से हमला कर उनका कान फाड़ दिया। उनकी पार्टी के अमन और सुखविंदर का चंडीगढ़ में इलाज चल रहा है। मामले के जांच अधिकारी सुखदेव सिंह ने बताया कि पुलिस ने मामला दर्ज करने के लिए कार्रवाई शुरू हुई॥