The officers of PSPCL can't even beat the lineman!
Electricity1

The officers of PSPCL can't even beat the lineman!

पीएसपीसीएल के अधिकारी तो क्या लाइनमैन तक नहीं मात!

बिजली गुल रहने व ट्रांसफार्मरों पर फेज उडऩे से लाइमैनों की चांदी, पैसा लेकर कर रहे शिकायत का निपटारा

मोहाली। एक और जहां सूबे में पड़ रही तेज गर्मी के चलते बिजली कटों ने पूरे पीएसपीसीएल महकमे को बदनाम कर रखा है तो वहीं दूसरी ओर कारपोरेशन से जुड़े अधिकारियों व लाइनमैनों ने भी बदनामी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। बिजली जाने पर न तो अधिकारी फोन उठाते हैं, न ही संंबंधित डिवीजन के कर्मचारी। 1912 पर कंप्लेंट करो तो उपभोक्ता को उसके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर मैसेज भेज कर शिकायत नंबर भेजा जाता है। संबंधित डिवीजन का नंबर भी भेजा जाता है। बावजूद इसके डिवीजन के कर्मचारी फोन उठाने को ही तैयार नहीं। गलती से अगर उठा भी लें तो शिकायत का निपटारा कराने में इनकी कोई रुचि नहीं। बहुत सी शिकायतों पर तो उपभोक्ताओं को रिसॉल्व यानि निपटारा हो गया का मैसेज भेज दिया जाता है हालांकि शिकायत जस की तस रहती है। मोहाली जिले के जीरकपुर इलाके में इस तरह की सैकड़ों शिकायतें मिल रही हैं। संपूर्ण मामले में कोई शिकायत सुनने को तैयार नहीं। लाइनमैन शिकायत के बाद एक मर्तबा उपभोक्ता को फोन तो करते हैं लेकिन कई कई घंटे तक शिकायतकर्ता तक नहीं पहुंचते। मनमाने तरीके से ये लाइनमैन ट्रांसफार्मर पर ज्यादा लोड की वजह से उड़े फेज को ठीक करते हैं। इसका कोई स्थाई समाधान नहीं निकाला जा रहा बल्कि पैसे लेकर फेज जोड़े जा रहे हैं। कई इलाकों में तो खुद लाइनमैनों ने कुंडियां लगवा रखी हैं। जीरकपुर के ममता इन्क्लेव, ढक़ोली, लक्ष्मी इन्क्लेव, शांति इन्क्लेव, एमएस इन्क्लेव इलाके में इस तरह की बहुत शिकायतें मिल रही हैं। लोग इसका जबरदस्त विरोध भी कर रहे हैं और बिजली दफतर के बाहर प्रदर्शन की योजना बना रहे हैं। सबसे अहम बात जो लोग बता रहे हैं वो ये है कि शिकायत जब घंटों तक रिसॉल्व नहीं होती तो बिजली बोर्ड के जेई, एसडीओ या एक्सईएन तक फोन करते हैं लेकिन ये फोन उठाने को ही तैयार नहीं।

जीरकपुर इलाके में ज्यादा परेशानी

जीरकपुर इलाके में एक तो बिजली गुल रहने से धमाचौकड़ी मची हुई है वहीं दूसरे शिकायतों का निपटारा करने जा रहे लाइनमैन मात नहीं आ रहे। बिना पैसा लिये ये शिकायतों का निपटारा नहीं कर रहे। 1912 पर शिकायत करने के बावजूद कई कई घंटे यह शिकायतकर्ता उपभोक्ता तक नहीं पहुंचते। इनके रवैये से बिजली विभाग का हर उपभोक्ता परेशान है। लाइनमैनों की अधिकारियों की ओर से कोई जवाब देही तय नहीं है। ऐसे में इनकी मनमानी पर लोग अंकुश लगाने की मांग कर रहे हैं। लाइनमैन हवाला देते हैं कि उनके पास कई जगह की शिकायतें हैं और मुलाजिम कम हैं जिसकी वजह से शिकायत का निपटारा करने में दिक्कत होती है। दूसरा शिकायतें निपटाने को उनके पास जरूरी उपकरण भी नहीं हैं।

मोहाली, जीरकपुर इलाके में जबरदस्त कट

पंजाब के साथ साथ मोहाली जिले में भी बिजली के बुरे हालात हैं। कई कई घंटे के कटों ने लोगों को परेशान कर रखा है।  बिजली जाने का कोई घोषित समय नहीं है। गर्मी ज्यों-ज्यों बढ़ती है, त्यों-त्यों ही कट लगने शुरू हो जाते हैं। खासतौर से रात को लगे कटों से लोग परेशान हैं क्योंकि इससे उनकी नींद में जबरदस्त खलल पड़ रहा है। तीन फेज के मीटरों वाले उपभोक्ताओं के एक या दो फेज अक्सर उड़ रहे हैं। ट्रांसफार्मरों पर एयर कंडीशन चलने से ज्यादा लोड पड़ गया है और इससे फेज उड़ रहे हैं। ऐसे में लाइनमैनों की पूरी चांदी हो रखी है। लाइनमैन पैसे लेकर उपभोक्ताओं की शिकायतों का निपटारा कर रहे हैं।