आजमगढ़ में सपा नेता की गोलियों से भूनकर हत्‍या, मर्डर के सिलसिले में खाई थी जेल की हवा
BREAKING
जम्मू-कश्मीर में सेना ने आतंकियों का बड़ा हमला रोका; फटाफट एक्शन में आए जवान, ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं, एनकाउंटर जारी सुप्रीम कोर्ट से योगी सरकार को बड़ा झटका; दुकानों पर 'नेम प्लेट' लगाने वाले आदेश पर रोक लगाई, UP समेत 3 राज्यों को नोटिस जारी RSS की गतिविधियों में अब शामिल हो सकेंगे सरकारी कर्मचारी; केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 58 साल पुराना प्रतिबंध हटाया, कांग्रेस हमलावर "ढाई घंटे तक देश के प्रधानमंत्री का गला घोंटा गया''; संसद के बजट सत्र पर PM मोदी का बयान, पहले ही दिन विपक्ष पर जमकर बरसे चमत्कारिक है भगवान शिव का यह नाम जप; प्रेमानंद महाराज ने बताया- कैसे दिखाता है प्रभाव, महादेव के इस मंत्र को न जपने की दी चेतावनी

आजमगढ़ में सपा नेता की गोलियों से भूनकर हत्‍या, मर्डर के सिलसिले में खाई थी जेल की हवा

SP leader shot dead in Azamgarh

SP leader shot dead in Azamgarh

मार्टीनगंज (आजमगढ़) : SP leader shot dead in Azamgarh: बरदह थाना क्षेत्र के सैयद बहाउद्दीनपुर सोनहरा गांव निवासी सपा कार्यकर्ता व पूर्व ग्राम प्रधान रणविजय यादव की दुस्साहसिक तरीके से बेसो नदी पुल के पास गुरुवार की शाम करीब छह बजे गोली मारकर हत्या कर दी गई। उसकी कनपटी, सीना, पीठ व पेट में कुल छह गोलियां दागी गईं हैं। वारदात को तब अंजाम दिया गया जब वह अपनी बुलेट से मार्टीनगंज बाजार से सब्जी लेकर घर वापस जा रहे थे।

हत्या के बाद आरोपी फरार

हत्या के बाद हमलावर मार्टीनगंज की तरफ फरार हो गए। आक्रोशित लोगों को पुलिस ने समझा-बुझाकर शांत कराया। एसपी अनुराग आर्य ने मौके का मुआयना किया। बेलवाना गांव के पास भट्ठा के सामने एक बाइक पर सवार दो बदमाश पीछे से ओवरटेक कर गोली मार दिए। इससे रणविजय गिरकर छटपटाने लगा। आसपास के लोगों ने शोर मचाते हुए पीछा करना चाहा तो हमलावर फायर करते हुए वहां से मार्टीनगंज की तरफ भाग निकले।

इसके बाद लोगों ने स्वजन को सूचना दी। आनन-फानन उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मार्टीनगंज ले जाया गया जहां डाक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया। पूर्व प्रधान रणविजय यादव एक बार अपने गांव के प्रधान रहे हैं, जबकि एक बार उनकी पत्नी रही हैं।

वह पांच भाई बहनों में सबसे बड़े थे। इनके दो पुत्र और तीन पुत्रियां हैं। दो बेटियों की शादी हो चुकी है। स्वजन और पत्नी सावित्री का रो-रोकर बुरा हाल है। पीड़ित परिवार में हत्या के बाद कोहराम मचा रहा। पत्नी व परिवार की महिलाएं चुनावी रंजिश को हत्या का कारण बताते हुए विलाप कर रहीं थीं।

आक्रोशित लोगों को पुलिस ने समझाकर मामला कराया शांत

मृत सोनहरा के पूर्व प्रधान व सपा नेता रणविजय यादव उर्फ रन्नू यादव की मौत की पुष्टि होते ही स्वजन व ग्रामीण आक्रोशित हो उठे। उन्होंने पीएचसी पर ही हंगामा शुरू कर दिया। एएसपी सिटी शैलेंद्र लाल, सहायक पुलिस अधीक्षक शुभम अग्रवाल ने आक्रोशित लोगों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया। रणविजय का मुंबई व दिल्ली में कपड़े का कारोबार है। भाई और बड़ा बेटा इसे संभालता है।

25 साल के आसपास रही होगी दोनों की उम्र, पुलिस ने उठाया

वारदात को अंजाम देने वाले बाइक सवार दोनों हत्यारोपितों की उम्र करीब 25 साल के आसपास रही होगी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक दोनों ने बकायदा उतरकर मौत की पुष्टि करने के बाद फरार हुए। दोनों में से किसी ने चेहरा नहीं ढका था। ऐसे में आशंका जताई जा रही है कि हत्यारे भाड़े के रहे होंगे।

उधर, पुलिस ने तीन संदिग्धों को उठाया है। उनसे देर रात तक पूछताछ होती रही। लोगों को हिरासत में लिया है। ईंट-भट्ठे के कुछ मजदूर ईंट-पत्थर लेकर दौड़ाना चाहे, लेकिन फायरिंग की वजह से वह हिम्मत नहीं जुटा सके।

हत्या, लूट रंगदारी सहित कई मामले दर्ज

सपा कार्यकर्ता रणविजय खुद अपराधी था। उस पर बरदह थान में हत्या, अपहरण, दुष्कर्म, धोखाधड़ी, मारपीट, गाली-गलौज, धमकी, बलवा, लूट, रंगदारी सहित कई मामले दर्ज हैं।

29 मार्च 2021 में होली के दिन हुई गांव के ही अनिल यादव की हत्या में आरोपित रणविजय यादव अभी कुछ ही महीने पहले छूट कर आया था। उस पर कई मुकदमे दर्ज हैं। मौके पर लोगों की भीड़ लगी रही।

यह पढ़ें:

सोनाक्षी सिन्हा के नाम पर लाखों रुपये की धोखाधड़ी का मामला, 3 लोगों के खिलाफ कुर्की का आदेश

हार्ट अटैक से पत्नी की मौत, सदमे में पति ने भी तोड़ दिया दम, एक साथ जलीं दोनों की चिताएं

विधानसभा में सीएम योगी का बड़ा बयान, 'पांडवों ने पांच गांव मांगे थे, हमें तो सिर्फ '3' ही चाहिए'