रिषभ पंत ने तोड़ा 72 साल पुराना रिकार्ड, इंग्लैंड की धरती पर एक टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले विदेशी विकेटकीपर बने
रिषभ पंत ने तोड़ा 72 साल पुराना रिकार्ड

रिषभ पंत ने तोड़ा 72 साल पुराना रिकार्ड, इंग्लैंड की धरती पर एक टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले

रिषभ पंत ने तोड़ा 72 साल पुराना रिकार्ड, इंग्लैंड की धरती पर एक टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले विदेशी विकेटकीपर बने

एजबेस्‍टन: ऋषभ पंत ने इंग्‍लैंड के खिलाफ बर्मिंघम टेस्‍ट की पहली पारी में शतक जमाया और फिर दूसरी पारी में भी दमदार खेलते हुए अर्धशतक जड़ा। ऋषभ पंत ने इसी के साथ 72 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया है। दरअसल, ऋषभ पंत ऐसे मेहमान विकेटकीपर बललेबाज बन गए हैं, जिन्‍होंने इंग्‍लैंड में एक टेस्‍ट मैच में सबसे ज्‍यादा रन बनाने के रिकॉर्ड बनाया है। 

ऋषभ पंत ने वेस्‍टइंडीज के पूर्व विकेटकीपर क्‍लाइड वॉलकोट का रिकॉर्ड तोडा,  जिनके नाम पहले यह रिकॉर्ड दर्ज था। क्‍लाइड वॉलकोट ने 1950 में इंग्‍लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में 14 और 168* रन बनाए थे। पंत ने दूसरी पारी में 36वां रन बनाते ही यह रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। पंत ने एमएस धोनी के इंग्‍लैंड के खिलाफ बर्मिंघम टेस्‍ट में 151 रन के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया। धोनी ने 77 और 74* रन की पारी खेली थी। भारतीय विकेटकीपर बल्‍लेबाज ऋषभ पंत ने इंग्‍लैंड के खिलाफ एजबेस्‍टन टेस्‍ट की दूसरी पारी में शानदार अर्धशतक जमाया। पहली पारी में 146 रन बनाने वाले 24 साल के ऋषभ पंत ने दूसरी पारी में 86 गेंदों में 8 चौके की मदद से 57 रन बनाए। दूसरी पारी में अर्धशतक जमाकर ऋषभ पंत ने पूर्व भारतीय विकेटकीपर बल्‍लेबाज फारुख इंजीनियर के 49 साल पुराने रिकॉर्ड की बराबरी की।

ऋषभ पंत एक टेस्‍ट मैच में शतक और अर्धशतक जमाने वाले भारत के दूसरे विकेटकीपर बल्‍लेबाज बन गए हैं। फारुख इंजीनियर के बाद पंत ने ही टेस्‍ट क्रिकेट में यह कमाल करके दिखाया है। पार्सी समुदाय की तरफ से भारतीय क्रिकेट टीम में खेलने वाले आखिरी क्रिकेटर 84 साल के फारुख इंजीनियर ने 1973 में मुंबई में इंग्‍लैंड के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल की थी। तब इंजीनियर ने 121 और 66 रन बनाए थे। 

पंत ने सोमवार को इंग्‍लैंड के खिलाफ टेस्‍ट मैच में इस रिकॉर्ड की बराबरी की। पहली पारी में शतक के साथ ही पंत टेस्‍ट क्रिकेट में सबसे तेज 2000 रन पूरे करने वाले भारतीय विकेटकीपर बल्‍लेबाज बने। इस आंकड़ें को पार करने के लिए पंत को केवल 31 मैच लगे।