सरिता मलिक द्वारा रचित हिन्दी काव्य संग्रह स्वेटर का विमोचन एवं परिचर्चा
सरिता मलिक द्वारा रचित हिन्दी काव्य संग्रह स्वेटर का विमोचन एवं परिचर्चा

सरिता मलिक द्वारा रचित हिन्दी काव्य संग्रह स्वेटर का विमोचन एवं परिचर्चा

सरिता मलिक द्वारा रचित हिन्दी काव्य संग्रह स्वेटर का विमोचन एवं परिचर्चा

सरिता सरीन मलिक के हिंदी काव्य संग्रह स्वेटर का विमोचन प्रैस क्लब चंडीगढ़ में हुआ। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रसिद्ध रंग निर्देशक, लेखक, अनुवादक एवं शिक्षाविद डॉ कैलाश आहलूवालिया ने की और मुख्य अतिथि थे जाने माने लेखक, अनुवादक एवं पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ के रशियन विभाग के पूर्व अध्यक्ष एवं डीन डॉ पंकज मालवीय।
प्रसिद्ध लेखक, अनुवादक, रंगकर्मी, अभिनेता एवं निर्देशक विजय कपूर, विख्यात लेखिका, शिक्षाविद एवं समाजसेवी डॉ शशिप्रभा, एवं डॉ कैलाश आहलूवालिया ने पुस्तक के संदर्भ में पत्र पढा। मंच संचालन का कार्यभार विजय कपूर ने बखूबी सम्भाला। लेखिका ने अपनी लेखन यात्रा के बारे में बात करते हुए कहा कि 13 साल की उम्र से जो लिखने का सिलसिला शुरु हुआ वो अनवरत जारी है।कविता को वे भावों की सहज एवं त्वरित अभिव्यक्ति मानती हैं।कविता में वो ताकत होती है जो कम से कम शब्दों में बड़ी से बड़ी बात कह देती है।कविता की चादर ही इतनी बड़ी होती है जिसमे सब सपनो के पैर समा जाते हैं। उनकी कविताओ में स्वयं का भोगा यथार्थ भी है और समाज मे व्याप्त विषमताओं के प्रति रोष भी। कविता उनके लिये निरंतर अनुभव समेटती स्वयं से स्वयं की यात्रा है।