प्राइवेट स्कूल बोले पंद्रह मई से छुट्टियों के फैसले पर दोबारा विचार करे
प्राइवेट स्कूल बोले पंद्रह मई से छुट्टियों के फैसले पर दोबारा विचार करे

प्राइवेट स्कूल बोले पंद्रह मई से छुट्टियों के फैसले पर दोबारा विचार करे

प्राइवेट स्कूल बोले पंद्रह मई से छुट्टियों के फैसले पर दोबारा विचार करे

मोहाली। पंजाब सरकार द्वारा गर्मी की छुट्टियां पंद्रह मई से शुरू करने का फैसला ठीक नहीं है। इससे बच्चों की पंद्रह ‌दिन की पढ़ाई प्रभ‌ावित होगी। इसी चीज को लेकर पंजाब प्राइवेट स्कूल आरगेनाइजेशन के महासचिव तेज पाल स‌िंह ने मुख्यमंत्री भगवंत मान को पत्र लिखा है। उन्होंने पत्र में कहा कि इस फैसले से निजी स्कूलों को बाहर रखा जाए। क्योंकि निजी स्कूलों में मध्यमवर्गीय परिवारों के बच्चे शिक्षा लेते हैं। पेरेंट्स ने इसके लिए फीसे तक भरी होती है। तेजपाल ने पत्र में कहा है कि पहले ही कोरोना महामारी से बच्चों की पढाई प्रभावित हुई है। जबकि अब जल्दी छुट्टियां होने से पढ़ाई प्रभावित होगी। उन्होंने कहा कि निजी स्कूलों में पढ़ने विद्यार्थियों के परिजनों ने पढ़ाई के बदले फीस, दाखिला व परीक्षा फीस व बस फीस भरी हुई है। ए‌ेसे में वह अपनी भरपाई चाहते हैं। उन्होंने कहा कि निजी स्कूलों को छुट्टियों के घेरे में लाया जाता है तो कई प्रकार की दिक्कतें पैदा होंगी। प्राइवेट स्कूलों में बिजली, पानी, जेनरेटर, एसी, कूलर आदि के अपने स्तर पर इंतजाम किए जा रहे हैं। जबकि ऐसी सहुलियत सरकारी स्कूूूलों में कमी है। यह फैसला निली स्कूलों के लिए ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि स्कूलों को अपने तर्क सहित फैसले के लिए मजबूर न करे।