OTP है बैंक खाते की चाभी, इसे ना दें किसी को-DSP सुरेंदर सिंह, स्टेट क्राइम ब्रांच
OTP है बैंक खाते की चाभी

OTP है बैंक खाते की चाभी, इसे ना दें किसी को-DSP सुरेंदर सिंह, स्टेट क्राइम ब्रांच

OTP है बैंक खाते की चाभी, इसे ना दें किसी को-DSP सुरेंदर सिंह, स्टेट क्राइम ब्रांच

पंचूकला। साइबर अपराधी दिन प्रतिदिन नए नए तरीके इस्तेमाल में लाते जा रहे है. हमें इस मोडस ऑपरेंडी को समझने की ज़रूरत है. श्री सुरेंदर सिंह, DSP स्टेट क्राइम ब्रांच, राज्य अपराध शाखा, हरियाणा ने आज राजकीय छात्रा उच्च माध्यमिक विद्यालय और राजकीय छात्र उच्च माध्यमिक विद्यालय, बरवाला, पंचकूला में आयोजित साइबर जागरूकता कार्यक्रम में ये बातें कही. उन्होंने बताया की वर्तमान में सबसे अधिक साइबर अपराध के शिकार स्कूली छात्र हो रहे है और साइबर अपराध से बचने के लिए उसे समझना बहुत ज़रूरी है. बच्चों को इस प्रोग्राम में बताया गया की सोशल मीडिया का उपयोग सावधानी से किया जाना चाहिए. आपके फ़ोन पर आने वाला OTP (वन टाइम पासवर्ड) किसी को ना दें और ना किसी प्रकार के बहकावे में आएं. 

OTP है बैंक खाते की चाभी, इसे ना दें किसी को-DSP सुरेंदर सिंह, स्टेट क्राइम ब्रांच
इसके अतिरिक्त सोशल मीडिया पर आने वाले किसी भी लिंक पर ना क्लिक करें और ना ही अंजान व्यक्तियों से दोस्ती करें.  इसके अलावा, भारत सरकार एक साइबर हेल्पलाइन 1930 की शुरुवात की गयी है जिसपर साइबर अपराध होने की स्तिथि में अपनी शिकायत की जा सकती है. जितनी जल्दी शिकायत की जाएगी उतना जल्दी ही पुलिस पैसे बचा पायेगी. 

OTP है बैंक खाते की चाभी, इसे ना दें किसी को-DSP सुरेंदर सिंह, स्टेट क्राइम ब्रांच
इसके अतिरिक्त  छात्रों के सवालों के जवाब देते हुए बताया की सोशल मिडिया पर अपनी पर्सनल फोटोज ना पोस्ट करें और ना ही किसी अन्य अनजान व्यक्ति से अपनी जानकारी साझा करें. इसके अलावा संदेहजनक लिंक किसी ना किसी के पास भेजें और ना ही क्लिक करें. 
इसके अलावा छात्रों की विभिन्न साइबर से संबंधित समस्याओं का निदान किया गया. 
इस अवसर पर करीबन 500 छात्र उपस्तिथ रहे जिन्हें साइबर अपराधों की जानकारी दी गयी. 
इस मौके पर प्रिंसिपल श्री मुकेश एंव श्रीमती कलावती, श्री वीरेंद्र सिंह, शिक्षक विभाग के साइबर जागरूकता कार्यक्रम नोडल अधिकारी, सन्नी पाराशर, मिडिया ब्रांच, राज्य अपराध शाखा व अन्य शिक्षक भी उपस्तिथ रहे. सभी प्रधानाध्यापकों ने स्टेट क्राइम ब्रांच, हरियाणा का धन्यवाद दिया और बताया की इस तरह के जागरूकता कार्यक्रमों की छात्रों को आवश्यकता है.