Human Image of Tricolor: सीयू के 5885 से ज्यादा छात्रों ने रचा इतिहास, तिरंगे की मानव छवि के साथ बनाया गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड

Punjab CM

Human Image of Tricolor: सीयू के 5885 से ज्यादा छात्रों ने रचा इतिहास, तिरंगे की मानव छवि के साथ बनाया गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड

Human Image of Tricolor

Human Image of Tricolor: सीयू के 5885 से ज्यादा छात्रों ने रचा इतिहास, तिरंगे की मानव छवि के साथ बना

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया विश्व कीर्तिमान स्थापित, सेक्टर 16 के चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम में ऐतिहासिक आयोजन
प्रशासक बनवारी लाल पुरोहित, केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी थे कार्यक्रम का हिस्सा

चंडीगढ़,13 अगस्त (साजन शर्मा): Human Image of Tricolor: आज़ादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत चल रहे हर घर तिरंगा अभियान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाते हुए, एनआईडी फाउंडेशन(NID Foundation) और चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी ने शनिवार को सेक्टर 16 के चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम में एक अनोखे कार्यक्रम के दौरान लहराते झंडे की सबसे बड़ी मानव छवि बनाते हुए गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड कायम किया।चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी और अन्य स्कूल, कॉलेजों के 5885 से ज्यादा छात्रों के साथ-साथ एनआईडी फाउंडेशन के स्वयंसेवकों ने चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम में इक_ा होकर इतिहास रच दिया। यह कार्यक्रम आज़ादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किए गए हर घर तिरंगा अभियान को सफल बनाने के उद्देश्य से चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी, घड़ूआं और एनआईडी फाउंडेशन द्वारा आयोजित किया गया था। छात्रों सहित 25 हजार से ज्यादा शहरवासियों की भागीदारी के साथ यह आयोजन देश भर में अपनी तरह का पहला कार्यक्रम साबित हुआ, जिसने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हर घर तिरंगा अभियान को प्रतिबिंबित कर एक नया मील का पत्थर स्थापित किया है।

चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान पंजाब के राज्यपाल और  नगर प्रशासक बनवारीलाल पुरोहित बतौर मुख्यातिथि तथा केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि पहुंची थी। इस दौरान चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी(Chandigarh University) के चांसलर और एनआईडी फाउंडेशन के चीफ पैट्रन सतनाम सिंह संधू, प्रशासक के सलाहकार धर्मपाल, डीसी विनय प्रताप सिंह, मेयर सरबजीत कौर, एनआईडी फाउंडेशन की संस्थापक प्रो हिमानी सूद तथा यूटी प्रशासन के अन्य शीर्ष अधिकारियों के अलावा 25 हजार से अधिक लोग कार्यक्रम के दौरान विशेष तौर पर मौजूद रहे।

देशभक्ति के जोश और उत्साह से लबरेज दिखे लोग

चंडीगढ़ क्रिकेट स्टेडियम में देशभक्ति का खूब जोश और उत्साह देखने को मिला, जहां 25 हजार से अधिक लोगों की भागीदारी के साथ 5885 से ज्यादा युवा लडक़ों और लड़कियों ने एक लहराते हुए राष्ट्रीय ध्वज की दुनिया की सबसे बड़ी मानव छवि बनाते हुए एक नया विश्व कीर्तिमान स्थापित किया। पूरा स्टेडियम राष्ट्रभक्ति के नारों से गूंज उठा। इस दौरान गिनीज वल्र्ड रिकॉर्ड(Guinness World Record) बनाया गया तथा गिनीज रिकॉर्ड्स के एक आधिकारिक जज  स्वप्निल डांगरीकर ने वल्र्ड रिकॉर्ड को सत्यापित किया। ध्वज के तीन रंगों का प्रतिबिंब 5885 छात्रों ने बनाया, जबकि   बनवारीलाल पुरोहित,मीनाक्षी लेखी, सतनाम सिंह संधू, धर्म पाल और अन्य गणमान्य लोग भी ध्वज के स्तंभ के रूप में ध्वज निर्माण का हिस्सा बने। इस महान राष्ट्र के नागरिकों के बीच देशभक्ति और राष्ट्रवाद की भावना को प्रज्वलित करने के अलावा, यह आयोजन भारत सरकार के 20 करोड़ घरों में तिरंगा फहराने के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में भी एक बड़ा मील का पत्थर साबित होगा।

गिनीज वल्र्ड रिकार्ड की हुई पुष्टि

गिनीज रिकॉर्ड्स के एक आधिकारिक जज स्वप्निल डांगरीकर ने एनआईडी फाउंडेशन और चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के इस रिकॉर्ड की पुष्टि करते हुए कहा कि एनआईडी फाउंडेशन और चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के इस समारोह में लहराते तिरंगे की सबसे बड़ी मानव छवि के निर्माण के साथ अब भारत ने संयुक्त अरब अमीरात को पीछे छोड़ते हुए एक नया विश्व कीर्तिमान स्थापित किया है। इस दौरान जज स्वप्निल डांगरीकर ने वल्र्ड रिकॉर्ड के सर्टिफिकेट की कॉपी बनवारी लाल पुरोहित और सतनाम सिंह संधू को सौंपते हुए उन्हें शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) ने साल 2017 में 4130 लोगों के साथ लहराते हुए राष्ट्रीय ध्वज की सबसे बड़ी मानव छवि का रिकॉर्ड हासिल किया था। हालांकि, भारत ने आराम से यह रिकॉर्ड तोड़ दिया है।

75वीं वर्षगांठ पर दुनिया को महान संदेश

इस अवसर पर पंजाब के राज्यपाल और  नगर प्रशासक बनवारीलाल पुरोहित ने कहा कि  चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी और एनआईडी फाउंडेशन द्वारा बनाए गए विश्व रिकॉर्ड के सफल निर्माण के साथ, चंडीगढ़ ने भारत के स्वतंत्रता दिवस की 75 वीं वर्षगांठ पर पूरी दुनिया को एक महान संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि यह कार्यक्रम मेरी कल्पना से भी बड़ा रहा। उन्होंने चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के चांसलर और एनआईडी फाउंडेशन के प्रमुख संरक्षक सतनाम सिंह संधू को हार्दिक बधाई दी और कहा कि इनकी टीम ने यह उपलब्धि हासिल की है। पुरोहित ने देश भर के नागरिकों को 15 अगस्त को देश और राष्ट्र निर्माण के लिए खुद को समर्पित करने का संकल्प लेने का आग्रह किया।

पूरे देश में इससे बेहतर दृश्य नहीं हो सकता: लेखी

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने कहा कि कि हमारे हजारों युवा हमारे तिरंगे की लहराती छवि बनाने के लिए यहां एकत्र हुए, पूरे देश में इससे बेहतर दृश्य नहीं हो सकता है, जो आज यहा देखा गया है। उन्होंने प्रसन्नता जताई कि इस सपने को साकार करने के लिए एनआईडी फाउंडेशन, चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी आगे आई। लोगों को राष्ट्रीय ध्वज फहराने की अनुमति देने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय को धन्यवाद देते हुए लेखी ने कहा कि तिरंगा हर भारतीय की पहचान है। उन्होंने कहा कि 75वें स्वतंत्रता दिवस(75th Independence Day) पर लोगों से और भी बेहतर भारत के लिए संकल्प लेने की अपील करती हूं और प्रतिज्ञा करने की अपील की कि वे अगले 25 वर्षों में विश्व गुरु बनने के भारत के संकल्प में अपना पूर्ण योगदान देंगे। सतनाम सिंह संधू ने सभी प्रतिभागियों को बधाई दी और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भारत की आज़ादी के अमृत महोत्सव का जश्न मनाने तथा जन-जन तक राष्ट्रभक्ति की भावना को जागृत करने के लिए हर घर तिरंगा अभियान का आरंभ किया। एनआईडी फाउंडेशन और चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी का यह प्रयास भारत की स्वतंत्रता के जश्न के लिए एक बड़े स्तर पर लोगों को अपने साथ लाया है।  तिरंगा भारत की एकता, अखंडता और विविधता का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि इस एेतिहासिक उपलब्धि को हासिल करने में चंडीगढ़ प्रशासन के समर्थन के हम शुक्रगुजार हैं।