Breaking News
Home » Photo Feature » तीखी धूप और प्रशासन की अव्यवस्था में भी जमे रहे मतदाता

तीखी धूप और प्रशासन की अव्यवस्था में भी जमे रहे मतदाता

चंडीगढ़ (राहुल पाण्डेय)। पांच साल में आने वाले इस त्योहार को लेकर मतदाताओं में खासा उत्साह देखने को मिला। तेज गर्मी और प्रशासन की अव्यवस्था में भी जनता मतदान को लेकर डटी रही। दरअसल सुबह दस बजे के बाद ही तेज धूप निकल आई, जिसको लेकर एक दफा तो मतदाता ठिठके लेकिन फिर उन्होंने वोट देने का फैसला किया। धनास के जसविंद्र ने बताया कि तेज धूप है तो क्या वोट तो देना ही है।

वहीं प्रशासन की ओर से टेंट और पीने के पानी का पर्याप्त इंंतजाम न कराने से मतदाता परेशान रहे। लंबी लाइने तो लगीं लेकिन धूप से बचने को टेंट का इंतजाम नहीं किया गया। वोटर्स का कहना है कि पानी तो स्कूल के अंदर है बाहर जो पसीने से तरबतर हैं वह कहां जा कर पानी पिएं। बोतल पर भी पांबदी लगी है। लेकिन वोट तो देकर ही जाएंगे। वहीं कुछ पोलिंग बूथों पर तो लंबी लाइने के चलते बाहर का गेट तक बंद कर दिया गया।

कहां कहां किस वजह से देरी से शुरू हुआ मतदान

सेक्टर 29 ट्रिब्यून मॉडल स्कूल स्कूल के पोलिंग बूथ पर 41 नंबर ईवीएम खराब होने की वजह से वोटरों को इंतजार करना पड़ रहा है। इसके अलावा फेज 3बी2 में बूथ नंबर 134 में ईवीएम खराब हो गई। गलत सील लगाने से ऐसा हुआ है जिसके कारण 50 मिनट बाद पहला वोट डाला गया। वहीं इंडस्ट्रियल एरिया फेस 1 स्थित केवी स्टेशन में बने बूथ नंबर 261 पर लोगों ने पोलिंग एजेंट पर लगाया आरोप। सेक्टर 25 पोलिंग बूथ में पुलिस के साथ मतदाताओं की मामूली सी झड़प हुई।

यहां पर करीब 500 लोग मतदान बूथ के बाहर लाइनों में खड़े हुए हैं लोगों का कहना है कि सुबह 7.00 बजे से वह लाइन में खड़े हैं लेकिन काफी मतदान धीमी गति से हो रहा है। सेक्टर.19 के राजकीय हाई स्कूल के बूथ नंबर 144 में ईवीएम खराब होने के कारण लोगों ने काफी शोर मचाया जिसके बाद आधे घंटे बाद 7.30 बजे से मतदान शुरू हो पाया। मौलीजगरा के बूथ नंबर 477 पर मशीन खराब होने के कारण पोलिंग बूथ के बाहर लाइन लगाएं खड़े मतदाता काफी परेशान हुए जिसके बाद करीब 25 मिनट देरी से 7.25 पर मतदान प्रक्रिया शुरू हुई।

प्रशासक ने उठाया जमीन से पेपर

प्रशासक वीपी सिंह बदनोर एमएलए हॉस्टल में बने पोलिंग बूथ पर वोट डालने पहुंचे थे जब वह पोलिंग बूथ तक पैदल जा रहे थे तभी उनकी नजर सड़क पर पड़े एक पेपर पर गई तो वह उसे तुरंत उठाने लगे यह देख कर उनके सुरक्षाकर्मी ने तुरंत इस पेपर को उठा लिया

ईवीएम में बटन दबाने का वीडियो वायरल

चंडीगढ़ चुनाव आयोग समेत पुलिस अधिकारियों की ओर से सुरक्षा के बंदोबस्त के बड़े दावे किए गए थे। मोबाइल, पानी की बोतल से लेकर अन्य प्रतिबंधित वास्तुओं को पोलिंग बूथ तक न लाने के कड़े निर्देश दिए गए थे। कई जगह इस सख्ती से पालन किया गया। जिसके चलते मोबाइल लेकर आए कई मतदाताओं को परेशानी का सामना करना पड़। वहीं कुछ पोलिंग बूथों पर कर्मचारियों की लापरवाही के चलते मोबाइल पोलिंग बूथों से अंदर होते हुए ईवीएम मशीन तक जा पहुंचा। ऐसा ही एक वीडिया दोपहर के वक्त वायरल हो गया। इस वीडियो में एक शख्स राजनीति पार्टी के प्रत्याशी के सामने का बटन दबाते उसे वोट करता हुए वीडियो बना रहा है। कुछ ही देर में यह वीडियो वायरल हो जाता है।

कैप प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव आयोग को शिकायत

इंडस्ट्रियल एरिया फेस 1 स्थित केवी स्टेशन में बने बूथ नंबर 261 पर लोगों ने पोलिंग एजेंट पर आरोप लगाते हुए आयोग से शिकायत की है। जानकारी के अनुसार शिकायत में लिखा है कि अंदर बैठी एक महिला अविनाश सिंह शर्मा के निशान 4 नंबर पर वोट देने को कह रही है।

मतदान के बाद ट्रांसजेंडरों ने जताई खुशी

इस बार का मतदान ट्रांसजेंडर के लिए बेहद खास रहा। चंडीगढ़ में 21 ट्रांसजेंडर ने पहली बार मतदान किया। मतदान करने आई काजल और धनंजय ने मतदान के बाद अपनी खुशी जाहिर की। उनका कहना था कि अपने मताधिकार का प्रयोग करके आत्म संतुष्टि मिली है। उन्हें सही मायनों में आज भारत का नागरिक होने का गौरव मिला है।

597 बूथों पर वोटिंग

लोकेशन पर बनाए गए 597 बूथों पर शहर के 6 लाख 46 हजार 84 मतदाताओं ने मैदान में उतरे 36 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला किया है। शहर के कॉलोनी और ग्रामीण क्षेत्रों के पोलिंग सेंटर के बाहर सेक्टरों की तुलना में मतदाताओं की अधिक भीड़ देखने को मिली। करीब सात बजे शुरू हुई वोटिंग में मतदाताओं ने बढ़.चढ़कर हिस्सा लिया। हालांकि बहुत से मतदाताओं को मोबाइल फोन प्रतिबंधित होने के कारण काफी परेशानी का सामना भी करना पड़ा। यहां पर कुल 36 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। पिछली दफा से इस दफा दो गुने प्रत्याशी मैदान में हैं।

92 साल की स्वर्ण कौर ने खींची सेल्फी

92 साल की स्वर्ण कौर का उत्साह वोट डालने के बाद दिख रहा था। वोट लेने के बाद वह सेल्फी लेती नजर आई।

Check Also

इन वजहों से अपने बच्चों को मार देते हैं जानवर

मानव विज्ञानी और प्राइमेटोलॉजिस्ट सारा हर्डी अपनी बात शुरू करते हुए कहती हैं, “आम तौर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel