बच्चों का पालन-पोषण करने के लिए न हों तनावग्रस्त - Arth Parkash
Tuesday, November 13, 2018
Breaking News
Home » लाइफ स्टाइल » बच्चों का पालन-पोषण करने के लिए न हों तनावग्रस्त
बच्चों का पालन-पोषण करने के लिए न हों तनावग्रस्त

बच्चों का पालन-पोषण करने के लिए न हों तनावग्रस्त

बच्चों की परवरिश को लेकर लोगों के मन में कई तरह के सवाल होते हैं। उनकी हमेशा यही कोशिश होती है कि अपनी संतान की देखभाल में कहीं से भी कोई कमी न रह जाए। इसके लिए वे अपनी कोशिशों में कोई कसर नहीं छोड़ते। फिर भी छोटी-छोटी बातों को लेकर कुछ पेरेंट्स जदा ही परेशान हो जाते हैं। इसका उनके आपसी संबंधों पर  नकारात्मक असर पड़ता है। ऐसे में बच्चे को अच्छी परवरिश देना बहुत मुश्किल हो जाता है। उसके संतुलित विकास के लिए उसकी सभी ज़रूरतों का खयाल रखना हर माता-पिता की पहली प्राथमिकता है लेकिन इसके लिए हमेशा चिंतित रहने की कोई आवश्यकता नहीं है। स्वयं पर बिना कोई अतिरिक्त दबाव महसूस किए भी पेरेंटिंग से जुड़ी सभी जि़म्मेदारियों को सहज और सही ढंग से निभाया जा सकता है।

अच्छी नहीं है जल्दबाजी

घर में नए शिशु के आते ही माता-पिता उसे अच्छे ढंग से पालने की कवायद में जुट जाते हैं। वे उसके शारीरिक-मानसिक विकास को लेकर अनावश्यक ढंग से सजग रहते हैं। रोना-चिल्लाना, चीज़ें बिखेरना और जि़द करना जैसी बातें बच्चों की आदतों में सहज रूप से शामिल होती हैं। इसे लेकर चिंतित होना व्यर्थ है। कुछ पेरेंट्स अपने बच्चों के शारीरिक-मानसिक विकास की गति को लेकर बेवजह तनावग्रस्त रहते हैं। वे अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और पड़ोसियों के हमउम्र बच्चों से अकसर उसकी तुलना करते हैं। दांत निकलने, चलना या बोलना सीखने के मामले में हर बच्चे के विकास की गति दूसरे से अलग हो सकती है।

अगर किसी दूसरे बच्चे की तुलना में आपका बेटा/बेटी दो-तीन महीने बाद चलना या बोलना शुरू करता/करती है तो इसके आधार पर अपने मन में यह नकारात्मक धारणा बना लेना अनुचित है कि मेरे बच्चे का शारीरिक-मानसिक विकास धीमी गति से हो रहा है। यह बात हमेशा याद रखें कि हर बच्चे की शारीरिक-मानसिक संरचना दूसरे से अलग होती है। इसलिए तुलना के आधार पर अपने बच्चे को कमतर समझना अनुचित है। हर बच्चा अपने आप में $खास होता है। इसलिए बेहतर यही है कि उसमें $खामियां ढूंढने के बजाय आप उसकी खूबियों को पहचानने की कोशिश करें।

खेल-खेल में सीखना

बच्चे अपने आसपास मौज़ूद हर चीज़ से कुछ न कुछ सीखने की कोशिश में जुटे रहते हैं। चीज़ें उठाना और उन्हें तोडऩा-गिराना जैसी हरकतों को अनुशासनहीनता समझकर उन्हें रोकने की कोशिश न करें। दरअसल इसी बहाने वे बहुत कुछ सीख रहे होते हैं। तीन साल की उम्र से पहले बच्चे को अनुशासित करने की कोशिश व्यर्थ है। हां, उसके तीसरे जन्मदिन के बाद आप उसे प्यार से समझाते हुए उसकी ऐसी आदतों को धीरे-धीरे नियंत्रित करना शुरू करें लेकिन यह संभव नहीं है कि पहली बार में ही वह आपकी हर बात मान ले। अगर किसी एक $गलती के लिए बच्चे को कई बार टोकना पड़े तो इसे अपनी पेरेंटिंग की नाकामी न मानें क्योंकि यह एक ऐसी प्रक्रिया है, जिससे हर अभिभावक को दो-चार होना पड़ता है। हो सकता है, इससे आपको थोड़ी झल्लाहट हो पर अपने गुस्से को नियंत्रित रखना भी पेरेंटिंग का ज़रूरी हिस्सा है। अगर आप अपना मन शांत रखेंगे तो बच्चों की छोटी-छोटी शरारतें आपको जऱा भी परेशान नहीं करेंगी।

जरूरत आपसी सहयोग की

भारतीय समाज में आज भी ऐसा माना जाता है कि बच्चे की देखभाल मां की जि़म्मेदारी है लेकिन महानगरों के एकल परिवारों में रहने वाले कामकाजी दंपतियों की स्थिति थोड़ी अलग होती है। चूंकि पत्नी घर संभालने के साथ ऑफिस भी जाती है। ऐसे में बच्चे की अच्छी परवरिश के लिए पति का सहयोग ज़रूरी हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share