Discussion about the ranking of the pack: Assurance given to remove many flaws soon
There was a discussion about the ranking of the pack, see what was the assurance

There was a discussion about the ranking of the pack, see what was the assurance

पैक की रैंकिंग को लेकर हुई चर्चा, देखें क्या मिला आश्वासन

चंडीगढ़ (साजन शर्मा)। भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के उच्च शिक्षा विभाग द्वारा हाल ही में जारी राष्ट्रीय संस्थागत रैंकिंग फ्रेमवर्क, भारत रैंकिंग 2022 में पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज (डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटी) की रैंकिंग की समीक्षा के लिए यूटी सचिवालय भवन में एक बैठक आयोजित की गई । बैठक का संचालन प्रशासक के सलाहकार धर्मपाल, पूर्वा गर्ग, शिक्षा सचिव की अध्यक्षता में किया गया । अमनदीप सिंह भट्टी, निदेशक तकनीकी शिक्षा, राजीव कालिया, अध्यक्ष सीआईआई,  सुमन प्रीत सिंह, निदेशक सीआईआई और पीईसी की एनआईआरएफ रैंकिंग के विश्लेषण पर एक प्रस्तुति प्रो. (डॉ.) बलदेव सेतिया, निदेशक पीईसी द्वारा प्रस्तुत की गई।

प्रस्तुति की शुरुआत प्रो. (डॉ.) बलदेव सेतिया, निदेशक पीईसी ने एनआईआरएफ रैंकिंग प्रक्रिया के सदस्यों को, रैंकिंग को प्रभावित करने वाले मापदंडों और रिकॉर्ड के तहत अवधि और अवधि से अवगत कराते हुए की। इसके एक भाग के रूप में निदेशक ने देश के शीर्ष दस संस्थानों, क्षेत्र के अन्य शीर्ष संस्थानों के साथ पीईसी का तुलनात्मक विश्लेषण प्रस्तुत किया और पिछले पांच वर्षों के दौरान पीईसी के विभिन्न मानकों की सूक्ष्म तुलना भी की गई।

विश्लेषण में पाया गया कि संस्थान में फैकल्टी की कमी है। यही सबसे महत्वपूर्ण कारक है जो रैंकिंग के सभी मापदंडों को प्रभावित करता है, निदेशक ने उल्लेख किया कि पीईसी ने पहले ही कमी की दिशा में काम करना शुरू कर दिया है और 58 रिक्त पदों के लिए नियमित संकाय भर्ती शुरू कर दी है, जिसके लिए 1973 में आवेदन प्राप्त हुए थे।

निदेशक ने कुछ सुधारों, कदमों और पहलों को भी प्रस्तुत किया जो पीईसी द्वारा अपनी रैंकिंग में सुधार के लिए उठाए जा रहे हैं। इसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों का आयोजन, नियमित आधार पर छात्रों के लिए कार्यशालाएं, मुख्य विषयों के प्रति अधिक केंद्रित दृष्टिकोण रखने के लिए एमटेक कार्यक्रमों के संशोधित पाठ्यक्रम पाठ्यक्रम शामिल हैं। अधिक शोध करने और अधिक पेपर प्रकाशित करने के लिए संकाय सदस्यों को भी वित्तीय रूप से प्रोत्साहित किया जाता है। अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए छात्रों और शिक्षकों के लिए एक केंद्रीय अनुसंधान सुविधा का निर्माण किया जा रहा है। संस्थान मौजूदा केंद्रों के पुनरुद्धार, छात्रों के लिए छात्रावास सुविधाओं और संकाय के लिए आवासीय सुविधाओं का विस्तार करके भौतिक बुनियादी ढांचे को मजबूत करने पर भी ध्यान केंद्रित कर रहा है। श्छात्र आवास की स्थिति को आसान बनाने के लिए ज्वालामुखी छात्रावास के मुद्दों को उठाने पर सहमति व्यक्त की। संस्थान ने बाहरी सहकर्मी समीक्षा के लिए जाने का भी फैसला किया है। शिक्षकों की स्वीकृत संख्या को बढ़ाने का अनुरोध किया गया ताकि न्यूनतम वांछित संकाय छात्र अनुपात 1:15 प्राप्त किया जा सके। प्रशासन इस मुद्दे को गृह मंत्रालय, भारत सरकार के साथ आगे बढ़ाने पर सहमत हुआ।

इसके अलावा एनआईआरएफ रैंकिंग की नियमित निगरानी के लिए उच्च शिक्षा और तकनीकी शिक्षा विभाग में एक एनआईआरएफ परियोजना प्रबंधन इकाई (पीएमयू) स्थापित करने का निर्णय लिया गया। साथ ही सभी एचईआई और तकनीकी संस्थानों में एनआईआरएफ सेल की स्थापना की जाएगी।