हरियाणा में बिजली संकट के समाधान को सीएम ने संभाला मोर्चा
हरियाणा में बिजली संकट के समाधान को सीएम ने संभाला मोर्चा

हरियाणा में बिजली संकट के समाधान को सीएम ने संभाला मोर्चा

हरियाणा में बिजली संकट के समाधान को सीएम ने संभाला मोर्चा

तुरंत नौ सौ मेगावाट बिजली की व्यवस्था करने के आदेश
हाइडल पावर प्रोजैक्ट से बिजली लेगा हरियाणा
जल्द दोबारा चालू होगा खेदड़ पावर प्लांट

चंडीगढ़, 25 अप्रैल। हरियाणा में चल रहे बिजली संकट के समाधान के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खुद फील्ड में उतर गए हैं। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को चंडीगढ़ में अधिकारियों की बैठक लेकर बिजली आपूर्ति सुचारू बनाने तथा बिजली की उपलब्धता को बढ़ाने पर मंथन किया। इस मैराथन बैठक में अधिकारियों ने बिजली को लेकर अपनी-अपनी रिपोर्ट पेश की। बैठक में प्रदेश के बिजली मंत्री चौधरी रणजीत सिंह भी मौजूद रहे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मानसून आने के बाद बिजली खप्त में कुछ कमी आएगी तब तक 3000 मेगावाट अतिरिक्त बिजली की आवश्यकता होगी। इसके लिए सरकार द्वारा आवश्यक प्रबंध किए जा रहे हैं । लगभग 400 मेगावाट बिजली कम अवधि प्रक्रिया से शीघ्र ही मिलने वाली है। इसके साथ ही लंबी अवधि प्रक्रिया भी की जा रही है। इससे भी 500-500 मेगावाट बिजली मिलेगी। इसके अलावा हाईडल पावर प्लांट से बिजली लेने की प्रक्रिया पूरी की जा रही है जिसे शीघ्र ही पूरा कर लिया जाएगा। इस प्रकार बिजली कट समस्या का स्थाई समाधान किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के नागरिकों को निर्बाध रूप से बिजली उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके लिए बिजली निगम की ओर से स्थाई उपाय किए जा रहे हैं । प्रदेश में लगने वाले बिजली कट की समस्या का जल्द ही समाधान किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि गर्मी के मौसम में बिजली की खपत बढ जाती है। इसके लिए बिजली निगम महंगी दर पर बिजली खरीद कर उपभोक्ताओं को मुहैया करवा रहा है। उन्होंने कहा कि गर्मी के मौसम में बिजली की बढती खपत को पूरा करने के लिए खेदड़ के पावर प्लांट में आने वाली समस्या का भी समाधान किया जा रहा है। खेदड पावर प्लांट को शीघ्र ही चालू किया जाएगा।
बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव पी के दास, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी उमाशंकर, एमडी बिजली वितरण निगम डॉ.साकेत कुमार, चीफ इंजिनियर बिजली पावर परचेज रणदीप सिंह सहित कई बिजली निगम के अधिकारी मौजूद रहे।
बाक्स---  
यमुनानगर में लगेगा नया पावर प्लांट
बैठक के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि बिजली की समस्या का स्थाई समाधान करने के लिए यमुनानगर में 750 मेगावाट का नया पावर प्लांट लगाया जाएगा। इसके लिए प्रक्रिया पूरी की जा रही है। यह पावर प्लांट लग जाने के बाद 750 मेगावाट अतिरिक्त बिजली का उत्पादन होगा। उन्होंने कहा कि निगम द्वारा बिजली उत्पादन के साथ साथ सम्प्रेषण प्रणाली को भी दुरूस्त किया जा रहा है ताकि प्रदेश में बिजली की कोई कमी नहीं रहे।