चंद्रबाबू का दिमागी चिकित्सा की जरूरत है कहा मंत्री बोत्सा ने,,,
चंद्रबाबू का दिमागी चिकित्सा की जरूरत है कहा मंत्री बोत्सा ने

चंद्रबाबू का दिमागी चिकित्सा की जरूरत है कहा मंत्री बोत्सा ने,,,

चंद्रबाबू का दिमागी चिकित्सा की जरूरत है कहा मंत्री बोत्सा ने,,,

( अर्थ प्रकाश/ बोम्मा रेडड्डी)

 विजयवाड़ा :: (आंध्रा प्रदेश)  शिक्षा मंत्री बोत्सा सत्यनारायण ने ताडेपल्ली मैं आयोजित प्रेस वार्ता में कहा कि राष्ट्रीय राजनीति में चंद्रबाबू जैसा भ्रष्ट नेता नहीं है इसके बाद भी भविष्य में भी चंद्रबाबू जैसा भ्रष्ट नेता नहीं दिखेगा कहा ।

  चंद्रबाबू के इस बात से सभी नाराज थे कि " बैजूस " जैसी शिक्षण संस्थान पूरी दुनिया में ऑनलाइन कोचिंग के लिए विश्व स्तर पर नंबर एक पर है कई देश के लोग इस संस्थान की कोचिंग से जुड़े हैं किंतु चंद्रबाबू नायडू के नजर में यह एक घटिया सा स्थान है कहा ? 
  चंद्रबाबू अपने जिंदगी में केवल झूठी आलोचना तक ही सीमित रह गए है किसी भी राजनीतिक दल से पूछो राष्ट्रीय स्तर पर सभी यही कहते हैं कि चंद्रबाबू दोगली और झूठा व्यक्ति है । 

 ताडेपल्ली में के प्रेस कॉन्फ्रेंस में मंत्री बोत्सा ने मीडिया से बात की और चंद्रबाबू ने तु बैजुस संस्थान  के बारे में व्यंग्य किया लेकिन बैजूसं संस्थान के बारे में एबीसीडी पता नहीं है ।  क्या चंद्रबाबू बैजूस कंपनी के बारे में जानते हैं .?. व्यंग कसते हुए कहा कि बाबू का बेटा इंग्लिश मीडियम में क्यों पढ़ता था ?  चंद्रबाबू के परिवार के सदस्यों ने अंग्रेजी माध्यम में पढ़ना जरूरी है लेकिन  गरीबों को अंग्रेजी माध्यम में पढ़ना पढ़ाना चंद्रबाबू को पचता नहीं है मैं हमेशा गरीबों को निम्न स्तर के समझते हैं कहा ? 

     आओ जो भी बहस में आए.. हम तैयार हैं।  35 लाख विद्यार्थियों के साथ बैजूस् का शिक्षण प्रयोग बहुत अच्छा वा नेक है कहा।  

मंत्री बोत्सा ने कहा कि चंद्रबाबू पागल हो गए हैं कुछ भी अनाप-शनाप बोलते हैं  "चंद्रबाबू को सामाजिक न्याय पर बोलने का कोई अधिकार नहीं है इनको दिमाग ठीक करवा लेना चाहिए का। 

विशाखापत्तनम का विकास स्वर्गीय मुख्यमंत्री वाईएस राज्सेखर रेड्डी के शासन दौरान हुआ था।  चंद्रबाबू की बातों पर विश्वास खत्म हो चुका हैं। हमने वह दिन भी देखा है जब चंद्रबाबू जैसे सरकारी हजारों संख्या में पब्लिक स्कूलों को बंद करवाया था क्योंकि उनके सरकार में शिक्षा मंत्री एक प्राइवेट स्कूल चलाने वाली संस्थान से जुड़े थे इस तरह की घटिया राजनीति करने वाले देश में कोई नहीं होगा कहा। 

हम आज क्रांतिकारी योजनाओं को लागू कर रहे हैं पूरे देश के विभिन्न राज्यों में प्रशंसा हो रही है और उनकी चंद्रबाबू यहां निंदा करते हैं क्योंकि इनका राजनीतिक स्वार्थ इस चरम पर आ चुका है कि लोग उसे पागल करार कर रहे हैं कहां।

  शिक्षा मंत्री बोत्सा ने आगे कहा कि छात्रों का सरकारी स्कूलों में भर्ती होना और पढ़ाई में अत्यधिक प्रतिशत लाना भी राष्ट्रीय स्तर में एक विशेष बात कहा है  हमारे सरकार के फैसलों के साथ शिक्षा में वृद्धि हुई  है ।