बलराम जी दास फाउंडेशन ने जरूरतमंद महिलाओं को वितरित किया राशन
BREAKING
जम्मू-कश्मीर में सेना ने आतंकियों का बड़ा हमला रोका; फटाफट एक्शन में आए जवान, ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं, एनकाउंटर जारी सुप्रीम कोर्ट से योगी सरकार को बड़ा झटका; दुकानों पर 'नेम प्लेट' लगाने वाले आदेश पर रोक लगाई, UP समेत 3 राज्यों को नोटिस जारी RSS की गतिविधियों में अब शामिल हो सकेंगे सरकारी कर्मचारी; केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 58 साल पुराना प्रतिबंध हटाया, कांग्रेस हमलावर "ढाई घंटे तक देश के प्रधानमंत्री का गला घोंटा गया''; संसद के बजट सत्र पर PM मोदी का बयान, पहले ही दिन विपक्ष पर जमकर बरसे चमत्कारिक है भगवान शिव का यह नाम जप; प्रेमानंद महाराज ने बताया- कैसे दिखाता है प्रभाव, महादेव के इस मंत्र को न जपने की दी चेतावनी

बलराम जी दास फाउंडेशन ने जरूरतमंद महिलाओं को वितरित किया राशन

Balram Ji Das Foundation

Balram Ji Das Foundation

गरीबों की मदद सबसे बड़ी मानव सेवा : संजय टंडन   

चंडीगढ़, 07 जुलाई। Balram Ji Das Foundation: बलराम जी दास चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा 89 जरूरतमंद  विधवा महिलाओें को आज मासिक राशन वितरित किया गया। 

ये जानकारी संस्था के संस्थापक संजय टंडन ने प्रदान की । उन्होंने कहा कि गरीबों की मदद सबसे बड़ी समाज सेवा है। खासकर, अन्न के जरिये की गई मदद का सबसे ज्यादा पुण्य मिलता है।

उन्होंने कहा कि उनके पिता बलराम जी दास टंडन से उन्हें राजनीति के साथ जनसेवा विरासत में मिली है। उन्हीं के संस्कारों को आगे बढ़ाते हुए शहर की जरूरतमंद  महिलाओं को राशन वितरित किया जा रहा है। बता दें कि छत्तीसगढ़ के पूर्व राज्यपाल स्व बलराम जी दास टंडन की याद में टंडन परिवार ने उनके नक्शे कदम पर चलते हुए वर्ष 2020  मेंसमाज कल्याण के लिए संस्था की शुरुआत की और संस्था के माध्यम से जरूरतमंद  विधवा महिलाओं और उनके परिवार के पालन पोषण के लिए राशन सामग्री को मुहैया करवाने का बीड़ा उठाया ।  

संस्था अध्यक्ष संजय टंडन ने कहा कि कोरोना काल के दौरान लॉकडाउन में भी गरीबों को राशन देने का सिलसिला नहीं थामा। हालांकि कुछ चुनौतियों का सामना जरूर करना पड़ा, लेकिन जनसेवा के पथ पर सफर निरंतर जारी रहा। जरूरतमंद  महिलाओं ने संजय टंडन के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि  संस्था के माध्यम से जिस प्रकार से वे लोग लगातार जरूरतमंद  विधवाओं के लिए राशन उपलब्ध करवाते हैं, ये एक पुण्य का कार्य है और उनकी आभारी भी है ।