पंजाब के कनाडा में पढ़ रहे विद्यार्थियों की हुल्लड़ बाजी का खामियाजा भारत के सभी विद्यार्थियों को भुगतना पड़ सकता हैं
पंजाब के कनाडा में पढ़ रहे विद्यार्थियों की हुल्लड़ बाजी  का खामियाजा भारत के सभी  विद्यार्थियों को भुगतना पड़ सकता हैं

पंजाब के कनाडा में पढ़ रहे विद्यार्थियों की हुल्लड़ बाजी का खामियाजा भारत के सभी विद्यार्थियों को

पंजाब के कनाडा में पढ़ रहे विद्यार्थियों की हुल्लड़ बाजी का खामियाजा भारत के सभी विद्यार्थियों को भुगतना पड़ सकता हैं

 चंडीगढ़।
 बीते दिनों में कनाडा के सरी में पंजाब के 40 विद्यार्थियों द्वारा अपनी गाड़ी में ऊंची आवाज से गाने लगा कर घूमना शुरू कर दिया। जब उनको कनाडा की पुलिस ने रोका तो उन्होंने पुलिस के साथ झगड़ा करते हुए गानों की आवाज को और ऊंचे स्वर में कर दिया जिसका नोटिस कनेडा सरकार ने लेते हुए इस हरकत को कानून व्यवस्था की   उल्लंघना करार दे दिया है । और एस घटना के विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है । हो सकता है के कनाडा सरकार आने वाले समय में इन स्टूडेंट्स को वापस भेज कर,और कनाडा जाने वाले विद्यार्थियों से सख्त रवैया अख्तियार कर ले ।जो बहुत चिंताजनक है। ऐसी घटना पहली नहीं,इससे पहले 1909 में ऑस्ट्रेलिया में पंजाब के विद्यार्थियों द्वारा सरकार के विरुद्ध धरना लगाकर शोर शराबा कर दिया ।  जिस का ऑस्ट्रेलिया सरकार ने  सख्त नोटिस लेते हुए भारत के विद्यार्थियों को सजा देने के लिए कानून सख़्त बना दिया था । जिससे पंजाब के विद्यार्थियों को 15:15 साल तक पी आर ना मिलने के कारण खजल खुवारअब तक होना पढ़ा रहा है । वो अब तक मुसीबतें झेल रहे हैं। क्योंकि इन देशों में हमारे विद्यार्थी घुटने टेक कर वीजा लेते हैं। और इन देशों पर हमारा या हमारे विद्यार्थियों का कोई अधिकार या एहसान नहीं होता। इसलिए मां बाप और विद्यार्थियों को इस प्रकार की घटनाओं से सावधान रहना चाहिए।