42 children admitted to hospital after eating Prasad in Rajasthan
BREAKING
Haryana: आसमानी बिजली गिरने से बाबैन के गांव खिड़की वीरान में खेत में सरसों काट रहे मां सरोज बाला व बेटे रमन सैनी की मौके पर हुई मौत BJP के लोकसभा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी; PM मोदी यहां से लड़ेंगे चुनाव? जानिए कहां से कौन उम्मीदवार खड़ा BJP के एक और सांसद ने सक्रिय राजनीति से संन्यास लिया; जेपी नड्डा को लिखा पत्र, इससे पहले गौतम गंभीर ऐसा ही कर चुके भारत में स्पेन की महिला का गैंगरेप; झारखंड में घूमने आई थी, रात में दरिंदों ने मारपीट कर जिस्म नोचा, अस्पताल में इलाज चल रहा युवराज सिंह ने कहा- मैं गुरदासपुर से चुनाव नहीं लड़ रहा; BJP के टिकट पर लड़ने की चर्चा थी, सनी देओल को साइड कर रही पार्टी

राजस्थान में प्रसाद खाने के बाद 42 बच्चे अस्पताल में भर्ती, नाबालिग लड़की की मौत

42 children admitted to hospital after eating Prasad in Rajasthan

42 children admitted to hospital after eating Prasad in Rajasthan

42 children admitted to hospital after eating Prasad in Rajasthan- जयपुर। राजस्थान के झालावाड़ जिले के झालरापाटन में एक स्थानीय मेले में भंडारे में प्रसाद खाने और पानी पीने के बाद एक नाबालिग लड़की की मौत हो गई, जबकि 42 बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया।

मृतक बच्ची की पहचान अजय कश्यप की बेटी तन्वी कश्यप (7) के रूप में हुई है। अजय ने बताया कि मेले से लौटने के बाद तन्वी को उल्टी-दस्त की शिकायत हुई। इसके बाद हम उसे मंगलवार को डॉक्टर के पास ले गए। उसकी तबीयत बेहतर हो रही थी लेकिन फिर उसे उल्टी-दस्त शुरू हो गए। फिर हम उसे अस्पताल ले गए, जहां उसकी हालत बिगड़ गई। बुधवार को उसकी मौत हो गई।

झालावाड़ अस्पताल के बाल रोग विभाग के प्रमुख डॉ. गौतम नागौरी ने कहा कि फूड पॉइजनिंग की शिकायत वाले कम से कम 42 बच्चे अस्पताल में भर्ती किए गए। इनमें से 16 बच्चे पीआईसीयू, 6 बच्चे वार्ड और 3 बच्चे इमरजेंसी में भर्ती थे। ये सभी बच्चे खतरे से बाहर हैं।

डॉ. गौतम नागौरी ने कहा कि पानी के नमूने ले लिए गए हैं और रिपोर्ट आने के बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। सभी बच्चों को ड्रिप लगाई गई है। फिलहाल कोई मेडिकल इमरजेंसी नहीं है। माना जा रहा है कि इन बच्चों ने दूषित भोजन या पेय पदार्थ का सेवन किया है।

ऐसे और भी बच्चे थे, जिन्होंने मेले में कुछ नहीं खाया, बल्कि या तो पानी पीया या नदी के पानी से हाथ-मुंह धोये। कुछ बच्चों ने भंडारे का प्रसाद भी खाया था।

सीएमएचओ डॉ. जीएम सैयद ने बताया कि मंगलवार को बच्चों ने वहां लगे हैंडपंप से पानी पी लिया था और बालाजी मंदिर के भंडारे से प्रसाद लिया था।

कुछ बच्चों ने गोलगप्पे भी खाए। जिसके बाद उनकी तबीयत बिगड़ गई। किसी भी बच्चे की हालत गंभीर नहीं है। अधिकारियों ने कहा कि परिवार के सदस्यों द्वारा बताए गए जल स्रोतों से सात नमूने लिए गए।

अधिकारी ने कहा कि इनमें से चार नमूने नदी घाटों से, एक नमूना ट्यूबवेल से और दो नमूने हैंडपंप से लिए गए हैं। इन्हें जांच के लिए पीएचईडी लैब में भेजा गया है। उन्होंने कहा कि मेला समिति की बैठक भी बुलाई गई है और सभी को साफ-सफाई तथा ताजा खाद्य सामग्री रखने का निर्देश दिया गया है।