स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग, पंजाब द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया
स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग, पंजाब द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग, पंजाब द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया

चंडीगढ़, 31 मई : स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग, पंजाब द्वारा विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया गया। इस संबंध में डायरैक्टोरेट हैल्थ सर्विसस सैक्टर 34 में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर तंबाकू का सेवन ना करने की शपथ ली गई और और हस्ताक्षर अभियान की शुरूआत की गई। 

 इस दौरान स्वास्थ्य सचिव श्री अजॉय शर्मा द्वारा समूह सिविल सर्जन के साथ मीटिंग की। उन्होंने कहा कि एक सिगरेट में 69 तरह के हानीकारक तत्व होते हैं, जो कि मानव शरीर के लिए घातक हैं। तंबाकू का सेवन मानव शरीर के साथ साथ प्रकृति के लिए भी एक बड़ा खतरा है क्योंकि 300 सिगरेट बनाने के लिए एक पेड़ को काटा जाता है। एक सिगरेट को बनाने में 3.7 लीटर पानी का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए आज से ही धूम्रपान और तंबाकू का सेवन बंद कर देना चाहिए। इसलिए तंबाकू के खिलाफ लोगों को जागरूक करने के लिए तंबाकू विरोधी अभियान चलाया जा रहा है।

सचिव स्वास्थ्य ने बताया कि भारत में पंजाब दूसरा राज्य है, जहां पर हुक्का बार बंद करने के लिए कोट्पा एक्ट 2003 स्टेट सपेसिफिक एमैंडमैंट की गई है। पंजाब में 739 तंबाकू निषेध गांव हैं, जहां पर पंचायतों ने तंबाकू विरोधी रेजूलेशन पास किया है। उन्होंने बताया कि पंजाब में वर्ष 2022 में 13000 चालान काटे जा चुके हैं। 

इस अवसर पर डायरेक्टर स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. जीबी सिंह की तरफ से तंबाकू विरोधी पोस्टर जारी किया गया। उन्होंने कहा कि जो कोई व्यक्ति धूम्रपान छोड़ना चाहता है, वह पंजाब में खोले गए तंबाकू छोड़ो केंद्र से संपर्क कर सकता है। इन केंद्रों में तंबाकू विरोधी काउंसलिंग और दवाइयां मुफ्त दी जाती हैं। इस अवसर पर मिशन डायरेक्टर नेशनल हेल्थ मिशन पंजाब श्री टीपीएस फूल्का, नेशनल तंबाकू कंट्रोल प्रोग्राम की प्रोग्राम अफसर डॉ. जसकिरन कौर, स्टेट मास मीडिया व शिक्षा अफसर श्री जगतार बराड़ व डॉ. गुरमन सिंह भी विशेष रूप से उपस्थित रहे।