आजमगढ़ व रामपुर सीटों के लिए मतदान आज, 35 लाख से ज्यादा वोटर चुनेंगे अपना सांसद
आजमगढ़ व रामपुर सीटों के लिए मतदान आज

आजमगढ़ व रामपुर सीटों के लिए मतदान आज, 35 लाख से ज्यादा वोटर चुनेंगे अपना सांसद

आजमगढ़ व रामपुर सीटों के लिए मतदान आज, 35 लाख से ज्यादा वोटर चुनेंगे अपना सांसद

यूपी में आज गुरुवार को आजमगढ़ और रामपुर में लोकसभा उपचुनाव है। सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक वोटिंग होगी। आजमगढ़ में 13 तो रामपुर में 6 उम्मीदवार मैदान में हैं। दोनों जगहों पर करीब 35 लाख वोटर इन प्रत्याशियों के लिए वोट करेंगे। कुल 3,809 बूथ बनाए गए हैं। आजमगढ़ से सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और रामपुर में आजम खान के इस्तीफे के बाद यह दोनों सीट खाली हुई थी। भाजपा ने दोनों सीटों पर जीत के लिए पूरी ताकत झोंकी है, वहीं सपा का दावा है कि वे फिर से जीतेंगे।

आजमगढ़ में मुकाबला त्रिकोणीय है। यहां सपा ने धर्मेंद्र यादव, तो भाजपा ने भोजपुरी स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ को प्रत्याशी बनाया है। बसपा ने शाह आलम उर्फ गुड्डू जमाली को मैदान में उतारा है। रामपुर में लड़ाई सपा और भाजपा के बीच है। सपा ने आजम खान के करीबी असीम राजा पर दांव लगाया है।

वहीं, भाजपा से घनश्याम लोधी मैदान में हैं। घनश्याम लोधी भी आजम खान के करीबी रहे हैं। वह 2022 के विधानसभा चुनाव से दो महीने पहले ही भाजपा में शामिल हुए थे। बसपा ने रामपुर में चुनाव नहीं लड़ रही है

आजमगढ़ में हार के बाद दोबारा मैदान में हैं निरहुआ
2019 में हुए लोकसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने भाजपा के दिनेश लाल यादव निरहुआ को ढाई लाख से अधिक वोट से हराया था। अखिलेश को 6 लाख 21 हजार वोट मिले थे। वहीं, निरहुआ 3 लाख 61 हजार वोट ही हासिल कर पाए थे। मगर, इस बार लड़ाई में बसपा भी है और लड़ाई त्रिकोणीय हो गई है। लिहाजा पूरा फोकस जातीय वोट समीकरण पर अटका है।

आजमगढ़ लोकसभा सीट में मेंहनगर, आजमगढ़ सदर, मुबारकपुर, सगड़ी और गोपालपुर विधानसभा सीटें आती हैं। मेंहनगर विधानसभा सीट अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित है। यहां एक लाख से ज्यादा दलित वोटर हैं। इसके अलावा 70 हजार से ज्यादा यादव वोटर भी हैं। राजभर और चौहान मतदाताओं की संख्या भी 35 हजार से अधिक है। इस सीट पर मुस्लिम वोटरों की संख्या भी 20 हजार से ज्यादा है। आजमगढ़ सदर सीट पर सबसे ज्यादा 75 हजार से अधिक यादव वोटर हैं। दलित और मुस्लिम मतदाताओं की संख्या भी 60 हजार के करीब है।

रामपुर लोकसभा सीट सपा के लिए है महत्वपूर्ण
रामपुर लोकसभा सीट में 5 विधानसभा सीटें आती हैं। यहां की दो विधानसभा सीटों पर भाजपा का, जबकि तीन पर सपा का कब्जा है। यहां की तीन विधानसभा सीटों पर जीत-हार का अंतर 50 फीसदी से ज्यादा मुस्लिम मतदाता तय करते हैं। इसके अलावा लोध जाति के मतदाताओं का भी इलाके में खासा वर्चस्व है। सभी विधानसभा सीटों की अगर बात करें, तो पिछले चुनाव में सपा को 5 लाख 40 हजार से ज्यादा वोट मिले थे। जबकि भाजपा को सभी विधानसभा इलाकों में साढ़े 4 लाख वोट ही मिले थे। इस लोकसभा सीट के कुल वोटरों की संख्या करीब 16 लाख है।

आजमगढ़ में वेब कैमरे से रखी जाएगी नजर
आजमगढ़ में 5 विधानसभा क्षेत्रों में 2176 पोलिंग बूथ बनाए हैं। जिला निर्वाचन अधिकारी विशाल भारद्वाज ने बताया कि वेब कैमरे से बूथों पर नजर रखी जाएगी। 1 हजार 633 बूथों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई है। जबकि 385 बूथों पर वेब कैमरा लगाया गया है। 245 बूथों पर माइक्रो ऑब्जर्वर तैनात किए गए हैं।

पैरामिलिट्री के साथ पुलिस फोर्स तैनात
एसपी अनुराग आर्य का कहना है कि हर बूथ पर पैरामिलिट्री के साथ ही पुलिस फोर्स को भी तैनात किया गया है। थाने पर आठ क्लस्टर मोबाइल टीमें लगाई गई हैं। एक मोबाइल टीम 8 से 10 मतदान केंद्रों को कवर करेगी। आजमगढ़ में कुल 18 लाख 38 हजार 930 मतदाता हैं। इनमें 9 लाख, 70 हजार, 935 पुरुष, 8 लाख 67 हजार 968 महिला और 27 मतदाता थर्ड जेंडर के हैं।

कड़ी सुरक्षा में हो रहा रामपुर में मतदान
रामपुर में कुल 17 लाख 6 हजार 590 मतदाता हैं। इनमें 9 लाख 7 हजार 93 पुरुष और 7 लाख 99 हजार 306 महिला मतदाता हैं। मतदान के लिए 1123 मतदान केंद्र और 2058 मतदेय स्थल बनाए गए हैं। 1544 मतदेय स्थलों की वेबकास्टिंग कराई जा रही है। यानी जिले के 70% मतदेय स्थल सीधे भारत चुनाव आयोग की नजर में हैं। मतदान केंद्रों पर 7 सुरक्षा घेरे बनाए गए हैं।

SP एके शुक्ला ने बताया कि 1982 डिजिटल वालंटियर तैनात किए गए हैं। साथ ही हर बूथ पर, हर गांव के 10 लोग हर वक्त डिजिटली कनेक्ट रहेंगे। इससे किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना पर फौरन कार्रवाई कर अंकुश लगाया जा सके।