तो हरियाणा में इस दिन होगा Nayab Saini Cabinet का विस्तार, क्या आचार संहिता बनेगी बाधा?
BREAKING
जोशी ने गांव बड़ी करौर में रेत माफिया के हमले में घायल लोगों का कुशल-क्षेम जाना एमटीवी स्प्लिट्सविला एक्स 5 - एक्सयूज़ मी प्लीज़ के प्रतियोगी लक्ष्य, उन्नति और दिग्विजय राठी चंडीगढ़ में अपने फैन्स से मिले!* चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा गांव रायपुर खुर्द में चलाई जा रही अवैध निर्माण पर कार्रवाई का स्थानीय लोगों द्वारा जबरदस्त विरोध केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद का यूपी में एक्सीडेंट; अपने संसदीय क्षेत्र के दौरे पर निकले थे, तेज रफ्तार गाड़ी ने पीछे से मारी कार में टक्कर गुजरात के स्कूल में खौफनाक हादसा; क्लासरूम में लंच कर रहे थे बच्चे, अचानक गिर पड़ी दीवार, वीडियो में कैद पूरा मंजर देखिए

तो हरियाणा में इस दिन होगा Nayab Saini Cabinet का विस्तार, क्या आचार संहिता बनेगी बाधा?

Nayab Saini Cabinet

Nayab Saini Cabinet

चंडीगढ़। Nayab Saini Cabinet: नायब सिंह सैनी (Nayab Singh Saini) की सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार (saini cabinet expansion) में चुनावी आचार संहिता किसी बाधा नहीं है। प्रदेश सरकार चुनाव आचार संहिता (Election code of conduct) के चलते भी मंत्रिमंडल विस्तार कर सकती है। इस संबंध में राज्य सरकार केंद्रीय चुनाव आयोग और कानून विशेषज्ञों से राय ले चुकी है। ऐसे में मंत्रिमंडल का विस्तार किसी भी समय हो सकता है।

संभावना 19 मार्च के बाद की जताई जा रही है। राज्यपाल हैदरावाद चले गए, वहां से आने के बाद तारीख लेकर मंत्रिमंडल विस्तार किया जाएगा। 19 मार्च को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) हरियाणा (Haryana News) के दौरे पर आएंगे। मुख्यमंत्री नायब सैनी और पूर्व सीएम मनोहर लाल (Manohar Lal) मिलकर करनाल संसदीय क्षेत्र के घरौंडा में 19 मार्च को लोकसभा का चुनाव प्रचार आरंभ करेंगे।

जेपी नड्डा उनके साथ होंगे। ऐसे में बुधवार के बाद राज्यपाल से तारीख मिलने पर नये मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। सूत्रों के अनुसार शनिवार को मंत्रिमंडल विस्तार कुछ गलतफहमियों व पक्की सूचनाओं के अभाव में टला है। सरकार को आभास था कि आचार संहिता लगने पर तीन बजे के बाद मंत्रिमंडल विस्तार नहीं हो सकता।

इसलिए पूरी प्रशासनिक मशीनरी को अलर्ट रखा था। राजभवन को संदेश नहीं गया था कि शनिवार को हर हालत में मंत्रिमंडल विस्तार होगा। मुख्यमंत्री कार्यालय और मुख्य सचिव कार्यालय के दो अधिकारियों ने प्रशासनिक मशीनरी के साथ राजभवन को भी अलर्ट मोड पर कर दिया था, जिसका मतलब यह निकाल लिया गया कि शनिवार को हर सूरत में सरकार मंत्रिमंडल विस्तार कराएगी।

इसके टलने के पीछे भले ही राजनीतिक कारणों की संभावना से इन्कार नहीं किया जा सकता, लेकिन सरकार ने जब केंद्रीय नेतृत्व, चुनाव आयोग और कानून विशेषज्ञों की राय ली तो पता चला कि चुनाव आचार संहिता मंत्रिमंडल विस्तार में बिल्कुल भी बाधा नहीं है। इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट समेत कई विधि सम्मत संस्थाओं के पूर्व में फैसले आ चुके हैं।

आठ मंत्री ले सकेंगे शपथ

मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी अपने मंत्रिमंडल में आठ मंत्रियों को शपथ दिला सकते हैं। इसके लिए नामों को शार्ट लिस्ट कर लिया गया है। यह सभी नाम हाईकमान के पास भी पहुंच चुके हैं। अभी पांच मंत्री शपथ ले चुके हैं, जिनमें कंवरपाल गुर्जर, रणजीत चौटाला, बनवारी लाल, जेपी दलाल और पंडित मूलचंद शर्मा शामिल हैं। मंत्रिमंडल विस्तार में पूर्व गृह मंत्री अनिल विज का नाम भी शामिल रहेगा। वे शपथ लेते हैं या नहीं, यह उनके अपने फैसले पर निर्भर रहेगा।

मंत्रिमंडल विस्तार का विषय चुनाव आचार संहिता से जुड़ा नहीं है। फिर भी यदि सरकार हमसे अनुमति मांगेगी तो हम प्रस्ताव को केंद्रीय चुनाव आयोग के पास भेज देंगे। बिना अनुमति के भी मंत्रिमंडल विस्तार होता है तो कुछ गलत नहीं है।

इसके बावजूद कोई इसे चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन मानता है तो शिकायत को केंद्रीय चुनाव आयोग के पास भेज दिया जाएगा। इस पूरी प्रक्रिया में हमारा यही रोल है। -अनुराग अग्रवाल, मुख्य निर्वाचन अधिकारी, हरियाणा

यह पढ़ें:

नायब सिंह सैनी से मिले संजय टंडन उज्जवल भविष्य के लिए दी शुभकामनाएं

रेवाड़ी की लाइफ लॉन्ग फैक्ट्री में फटा बॉयलर, 40 से ज्यादा कर्मचारी बुरी तरह झुलसे

Haryana: अंबाला लोकसभा सीट पर राजनीतिक सरगर्मियां तेज, आरक्षित सीट पर पार्टियों का महिला प्रत्याशियों को लेकर हो रहा विश्लेषण