संगरूर लोकसभा सीट से AAP को लगा बड़ा झटका, SAD-A के सिमरनजीत सिंह मान की 8101 वोट से जीत
संगरूर लोकसभा सीट से AAP को लगा बड़ा झटका

संगरूर लोकसभा सीट से AAP को लगा बड़ा झटका, SAD-A के सिमरनजीत सिंह मान की 5822 वोट से जीत

संगरूर लोकसभा सीट से AAP को लगा बड़ा झटका, SAD-A के सिमरनजीत सिंह मान की 5822 वोट से जीत

पंजाब के संगरूर लोकसभा (Sangrur Election Results) सीट पर हुए उपचुनाव में आम आगमी पार्टी को तगड़ा झटका लगा है. यहां पार्टी के उम्मीदवारगुरमेल सिंह शिरोमणि अकाली दल के उम्मीदवार सिमरनजीत सिंह मान से 5822 वोटों से हार गए हैं. अकाली दल (अमृतसर) (Akali Dal (Amritsar) Won Sangrur ByElection) की तरफ से खुद पार्टी प्रमुख सिमरनजीत सिंह मान मैदान में थे. राज्य का संगरूर लोकसभा सीट भगवंत मान के सीएम बनने के बाद खाली हो गया था जहां 23 जून को उपचुनाव हुए थे – और यहां आज सुबह से वोटों की गिनती चल रही है.

माना जा रहा है कि यह चुनाव आम आदमी पार्टी (Aam Admi Part – AAP) की लोकप्रियता भी साबित करेगा. संगरूर सीएम भगवंत मान (Bhagwant Singh Mann) का पूर्व संसदीय क्षेत्र होने के नाते खासा आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है. यह उपचुनाव ऐसे समय में हुआ है जब राज्य में मशहूर गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moosewala) की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या किए जाने पर विपक्षी में उबाल है. विपक्षी दल इस उपचुनाव के लिए राज्य में क़ानून व्यवस्था की ख़राब हालत के आरोपों के साथ मैदान में थे. जबकि आम आदमी पार्टी का दावा है कि उसकी सरकार ने पंजाब में माफिया और अपराध पर नकेल कसने का काम किया है.

सत्तारूढ़ AAP ने संगरूर उपचुनावों (Sangrur Bypolls) से पहले सिद्धू मूसेवाला की हत्या के संबंध में कुछ बड़े कदम उठाए थे. मान सरकार ने हत्या की उच्च स्तरीय जांच शुरू की और कई राजनीतिक नेताओं की सुरक्षा भी बहाल कर दी थी, जिन्हें पहले हटा दिया गया था।

भगवंत मान संगरूर सीट से 2014 और 2019 में सांसद चुने गए थे. अब राज्य में भगवंत मान की अगुवाई में आम आदमी पार्टी की नई नवेली सरकार है और माना जा रहा है कि इस उपचुनाव की हार या जीत मान सरकार की लोकप्रियता साबित करेगा.

संगरूर उपचुनाव की वोटिंग में रिकॉर्ड गिरावट

संगरूर सीट पर हुए उपचुनाव में रिकॉर्ड कम वोटिंग दर्ज की गई थी. यहां लोकसभा चुनाव में हुए मतदान के मुक़ाबले सिर्फ 45.3 फीसदी ही मतदान हुए. जबकि 2019 के चुनाव में यहां 72 फीसदी से ज़्यादा वोटिंग हुई थी, वहीं 2014 में 76.7 फीसदी वोटिंग हुई थी. संसदीय क्षेत्र संगरूर में 9 विधानसभा क्षेत्र हैं जहां दिनभर धीमी और कम वोटिंग दर्ज की गई थी.

संगरूर उपचुनाव के उम्मीदवार

आम आदमी पार्टी की तरफ से पार्टी के ज़िला प्रभारी गुरमेल सिंह मैदान में थे. वहीं मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने पूर्व विधायक दलवीर सिंह गोल्डी और भाजपा ने बरनाला के पूर्व विधायक केवल सिंह ढिल्लों जो कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गए थे – को उम्मीदवार बनाया था.

वहीं शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी ने आम सहमति से पंजाब के मुख्यमंत्री रहे बेअंत सिंह हत्याकांड में सज़ायाफ्ता बलवंत सिंह की बहन राजोआना सिंह को उम्मीदवार बनाया था, जबकि शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) की तरफ से पार्टी प्रमुख सिमरनजीत सिंह कौर को खुद उम्मीदवार थे.