शिरोमणी अकाली दल द्वारा मुख्यमंत्री से सहकारी चीनी मिलों को गन्ना किसानों का 331 करोड़ रूपये का बकाया तत्काल जारी करने की अपील
शिरोमणी अकाली दल द्वारा मुख्यमंत्री से सहकारी चीनी मिलों को गन्ना किसानों का 331 करोड़ रूपये का बकाया तत्काल जारी करने की अपील

शिरोमणी अकाली दल द्वारा मुख्यमंत्री से सहकारी चीनी मिलों को गन्ना किसानों का 331 करोड़ रूपये का बकाया

शिरोमणी अकाली दल द्वारा मुख्यमंत्री से सहकारी चीनी मिलों को गन्ना किसानों का 331 करोड़ रूपये का बकाया तत्काल जारी करने की अपील

कहा कि निजी मिलों को भी किसानों  की बकाया राशि ब्याज सहित   जारी करने का निर्देश दिया जाए : सरदार सिकंदर सिंह मलूका

 

चंडीगढ़/11जून: शिरोमणी अकाली दल ने आज मुख्यमंत्री भगवंत मान से राज्य सहकारी चीनी मिलों को गन्ना किसानों का 331 करोड़ रूपया का बकाया तुरंत जारी करने की अपील की है।

 

यहां एक प्रेस बयान जारी करते हुए अकाली दल किसान विंग के अध्यक्ष सिकंदर सिंह मलूका ने कहा कि गन्ना किसानों का बकाया जारी करने में देरी से कृषि क्षेत्र में संकट पैदा होगा। ‘‘ किसान पहले से ही कर्ज में डूबे हुए हैं और अगर बकाया राशि तुरंत जारी नही की गई तो किसान और कर्जदार हो जाएंगें। अकाली नेता ने कहा कि गेंहू-धान के चक्र से हटाकर किसानों को गन्ने की ओर ले जाने का प्रयास भी इस तरह की लापरवाही के कारण बेकार हो जाएगा’’।

 

सरदार मलूका ने कहा कि गन्ना किसानों का बकाया चुकाने में विफल रहने पर निजी चीनी मिलों पर भी कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होने कहा कि अनुमान के मुताबिक निजी मिलों पर किसानों का 343 करोड़ रूपया बकाया है। उन्होने कहा कि सहकारी और निजी दोनों चीनी मिलोें को ब्याज सहित पुराना बकाया राशि देने के स्पष्ट निर्देश जारी किया जाना चाहिए।

 

अकाली नेता ने कहा कि गन्ना निंयत्रण आदेश और गन्ना खरीद और विनियमन अधिनियम के क्लॉज 3(3) के अनुसार चीनी मिलों को खरीद के चौदह दिनों के भीतर भुगतान करना होगा। ‘‘ आप पार्टी की सरकार को इस अधिनियम को अक्षरशः लागू करना चाहिए’’।

 

सरदार मलूका ने गन्ना उत्पादकों के साथ एकजुटता व्यक्त की जो मिल प्रबंधन के खिलाफ अपना बकाया जारी करने से इंकार करने के लिए विरोध कर रहे हैं, हालांकि अधिकांश ने चीनी को निजी बाजार में बेच दिया है। उन्होने कहा कि यदि आप पार्टी की सरकार गन्ना बकाया जारी करने में विफल रही है तो अकाली दल प्रभावित किसानों को न्याय सुनिश्चित करने के लिए आंदोलन शुरू करेगा।