FPI की भारतीय इक्विटी में वापसी; जुलाई में 1,100 करोड़ रुपये का निवेश
FPI की भारतीय इक्विटी में वापसी; जुलाई में 1

FPI की भारतीय इक्विटी में वापसी; जुलाई में 1,100 करोड़ रुपये का निवेश

FPI की भारतीय इक्विटी में वापसी; जुलाई में 1,100 करोड़ रुपये का निवेश

नई दिल्ली। विदेशी निवेशकों (FPIs) की लगातार बिकवाली से राहत मिली है, क्योंकि वे इस महीने अब तक भारतीय शेयर बाजार में करीब 1,100 करोड़ रुपये के निवेश के साथ शुद्ध खरीदार बन गए हैं।विदेशी निवेशकों ने जून में इक्विटी से 50,145 करोड़ रुपये की शुद्ध निकासी की थी, जिसके बाद विदेशी निवेशकों की फिर से वापसी हुई है। डिपॉजिटरी के आंकड़ों से पता चलता है कि मार्च 2020 के बाद से यह सबसे अधिक नेट आउटफ्लो था, जब उन्होंने इक्विटी से 61,973 करोड़ रुपये निकाले थे। अक्टूबर 2021 से पिछले नौ महीनों में भारतीय इक्विटी बाजारों से विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) का पलायन हुआ है।

कोटक सिक्योरिटीज के हेड-इक्विटी रिसर्च (खुदरा) श्रीकांत चौहान ने कहा कि बढ़ती महंगाई और सख्त मौद्रिक नीति के संदर्भ में हम उम्मीद करते हैं कि एफपीआई प्रवाह अस्थिर रहेगा। डिपॉजिटरीज के आंकड़ों के मुताबिक, एफपीआई ने जुलाई 1-22 के दौरान भारतीय इक्विटी में 1,099 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया है। उन्होंने अपनी बिक्री को काफी धीमा कर दिया है और इस महीने कई दिनों तक खरीदार भी बने रहे हैं। पिछले कुछ हफ्तों में नेट आउटफ्लो में गिरावट का रुझान और कभी-कभार खरीदारी से यह संकेत मिलता है कि एफपीआई से नेट आउटफ्लो का स्तर नीचे आ गया है।

एक अन्य कारक जिसने शुद्ध प्रवाह में मदद की, वह अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा अपनी आगामी नीति बैठक में पहले की तुलना में कम आक्रामक दर वृद्धि की उम्मीद थी। मॉर्निंग स्टार इंडिया के एसोसिएट डायरेक्टर- मैनेजर रिसर्च हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि इससे डॉलर इंडेक्स में भी नरमी आई है, जो भारत जैसे उभरते बाजारों के लिए अच्छा संकेत है। उन्होंने कहा कि अमेरिका में भी मंदी की संभावना कम है या इसका असर कम होगा। इसके अलावा, बाजारों में हालिया सुधारों ने भी एफपीआई के लिए एक अच्छा खरीदारी अवसर प्रदान किया है।

इसी तरह के विचार व्यक्त करते हुए ट्रेडस्मार्ट के अध्यक्ष विजय सिंघानिया ने कहा कि अमेरिका में खराब आर्थिक आंकड़ों ने उम्मीद दी है कि फेडरल रिजर्व पहले की परिकल्पना की गई गति से दरों में वृद्धि नहीं कर सकता है। साथ ही उम्मीद से बेहतर कॉर्पोरेट परिणामों ने भी निवेशकों को बेहतर बनाने में मदद की है। उन्होंने कहा कि खाद्यान्न निर्यात के लिए सीमा खोलने का रूस-यूक्रेन सौदा भी एक बड़ा बढ़ावा है।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि INR मूल्यह्रास अभी के लिए लगभग समाप्त हो गया है। डॉलर इंडेक्स जो 109 से ऊपर चला गया था अब 107.21 पर आ गया है। यह उन कारकों में से एक है, जिन्होंने FPI रणनीति में बदलाव में योगदान दिया है। उन्होंने आगे कहा कि मौजूदा रुझान निकट भविष्य में जारी रहने की संभावना है। हालांकि, बहुत कुछ अर्थव्यवस्था और बाजारों से संबंधित अमेरिका की खबरों पर निर्भर करेगा।

इस साल अब तक एफपीआई ने इक्विटी से करीब 2.16 लाख करोड़ रुपये निकाले हैं। यह उनके द्वारा अब तक की सबसे अधिक शुद्ध निकासी थी। इससे पहले, उन्होंने पूरे 2008 में 52,987 करोड़ रुपये निकाले थे। मॉर्निंगस्टार इंडिया के श्रीवास्तव के अनुसार, एफपीआई द्वारा मौजूदा खरीदारी को रुझान में बदलाव के रूप में नहीं माना जा सकता है या कि एफपीआई ने पूरी तरह से वापसी की है। अगर यूएस फेड दर वृद्धि इस समय की तुलना में अधिक आक्रामक हो जाती है, तो यह प्रवाह प्रवृत्ति तेजी से उलट सकती है।

इक्विटी के अलावा, एफपीआई ने समीक्षाधीन अवधि के दौरान ऋण बाजार में 792 करोड़ रुपये की शुद्ध राशि का निवेश किया। भारत के अलावा, दक्षिण कोरिया और थाईलैंड में एफपीआई प्रवाह सकारात्मक था, जबकि समीक्षाधीन अवधि के दौरान ताइवान, इंडोनेशिया और फिलीपींस के लिए यह नकारात्मक था।