अनिल विज के बनाए विकास परिषद की मान्यता रद्द
अनिल विज के बनाए विकास परिषद की मान्यता रद्द

अनिल विज के बनाए विकास परिषद की मान्यता रद्द

अनिल विज के बनाए विकास परिषद की मान्यता रद्द

चुनाव आयोग ने गैरपंजीकृत दलों की सूची से किया बाहर
इस बैनर पर विज ने संघर्ष तो किया पर कभी चुनाव नहीं लड़ा

चंडीगढ़, 17 जून। चुनाव आयोग ने हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज के छावनी आवास के पते पर पंजीकृत गैर मान्यताप्राप्त राजनीतिक पार्टी विकास परिषद का पंजीकरण रद्द कर दिया है। आयोग ने हाल ही में ऐसे 87 दलों का नाम आयोग की सूची से हटा दिया है। आयोग की आधिकारिक वेबसाइट पर उपरोक्त सभी दलों के नाम और उनके मुख्यालय के पते का ब्यौरा अपलोड कर दिया गया है।
पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार ने बताया कि चुनाव चिह्न (आरक्षण एवं आवंटन) आदेश, 1968 के अंतर्गत भारतीय चुनाव आयोग द्वारा देश में मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय दलों और हर राज्य में क्षेत्रीय दलों और उनके लिए आरक्षित चुनाव-चिन्हों की सूची एवं साथ ही रजिस्टर्ड गैर-मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों एवं उन्हें चुनावों के दौरान प्रदान किये जाने वाले फ्री सिम्बल्स की सूची जारी की जाती है एवं समय समय पर उसे अपडेट और उसमें संशोधन भी किया जाता है,जिसे भारत सरकार के गजट में नोटिफाई भी किया जाता है।

हेमंत ने बताया कि गत माह 25 मई को भारतीय चुनाव आयोग ने एक आदेश जारी कर वर्तमान में देश में करीब तीन हजार रजिस्टर्ड गैरमान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों, जिसमें से अधिकांश लोक प्रतिनिधित्व कानून, 1951 की धारा 29 ए,बी,सी के प्रावधानों के अंतर्गत वैधानिक (कानूनी ) तौर पर अनिवार्य औपचारिकताएं पूर्ण नहीं कर रही हैं, उन पर नकेल कसने का निर्णय लिया था।

आयोग द्वारा ऐसे 87 रजिस्टर्ड गैर-मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों की पहचान की गई है जिनके वास्तविक रजिस्टर्ड पते और उसमें किये गए परिवर्तन के बार में आयोग को समय पर सूचित नहीं किया गया है। आयोग द्वारा जब ऐसे 87 दलों की संबंधित राज्यों के सीईओ द्वारा फिजिकल वेरिफिकेशन करवाई गई तो उन दलों द्वारा दिए गए पते पर वह क्रियाशील/एक्टिव नहीं मिले।

इस प्रकार उन सभी का नाम आयोग द्वारा रजिस्टर्ड गैर-मान्यता राजनीतिक दलों की सूची में से हटाने (डिलीट ) करने का निर्णय लिया गया। उपरोक्त 87 रजिस्टर्ड गैर-मान्यता राजनीतिक दलों की सूची में 85 वें नंबर पर विकास परिषद का नाम है जिसका मुख्यालय अम्बाला कैंट में 62 ए शास्त्री कॉलोनी दर्शाया जा रहा है। यह पता कैंट विधानसभा सीट से लगातार तीसरी बार भाजपा से और कुल छठी बार विधायक बने अनिल विज का है। विज हरियाणा की वर्तमान सरकार में गृह, स्वास्थ्य, तकनीकी शिक्षा आदि कुल छह विभागों के कैबिनेट मंत्री हैं, का आधिकारिक निवास है।

विज मई 1990 में हुए अम्बाला कैंट उपचुनाव में भाजपा के टिकट पर पहली बार विधायक निर्वाचित हुए थे। उसके बाद वर्ष 1991 विधानसभा आम चुनावो में विज ने फिर भाजपा से चुनाव लड़ा परन्तु वह कांग्रेस के बृज आनंद से हार गए थे। इसके कुछ वर्षों बाद उन्होंने भाजपा छोड़ दी एवं वर्ष 1996 एवं 2000 हरियाणा विधानसभा आम चुनाव में वह निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर अम्बाला कैंट से लगातार दो बार विधायक निर्वाचित हुए थे हालांकि वर्ष 2005 विधानसभा चुनाव में निर्दलयी प्रत्याशी के तौर पर विज कांग्रेस के देवेंद्र बंसल से 615 वोटों से हार गए थे। इसके बाद अक्टूबर 2007 में विज ने भारतीय चुनाव आयोग से विकास परिषद नाम की राजनीतिक पार्टी रजिस्टर करवाई हालांकि उन्होंने कभी इसके नाम से कोई चुनाव नहीं लड़ा। वर्ष 2009 में विधानसभा आम चुनावों से ठीक पहले विज फिर भाजपा में शामिल हो गए थे एवं तब से आज तक वह भाजपा में ही हैं। भाजपा में आने के बाद विज ने भारतीय चुनाव आयोग को लिख कर दे दिया था कि वह विकास परिषद पार्टी का भाजपा में ही विलय कर रहे हैं। जिसके बाद अब इसे रद्द कर दिया गया है।