यमुनानगर में बिजली संकट, 67 लाख यूनिट की रोजाना खपत, मिल रही सिर्फ 50 लाख यूनिट बिजली
यमुनानगर में बिजली संकट

यमुनानगर में बिजली संकट, 67 लाख यूनिट की रोजाना खपत, मिल रही सिर्फ 50 लाख यूनिट बिजली

यमुनानगर में बिजली संकट, 67 लाख यूनिट की रोजाना खपत, मिल रही सिर्फ 50 लाख यूनिट बिजली

राकेश भारतीय /यमुनानगर

हरियाणा में इन दिनों जहां बिजली का संकट छाया हुआ है तो वही यमुनानगर जिला भी अछूता नहीं है। जिले के गांव से लेकर शहरी इलाकों और इंडस्ट्री एरिया में बिजली कटों की वजह से बड़ी परेशानी हो रही है । बिजली विभाग के अनुसार यमुनानगर को इन दिनों रोजाना 66 लाख बिजली यूनिट की जरूरत है तो वही जिले को सिर्फ 50 से 52 लाख यूनिट बिजली ही मिल पा रही है ।

हरियाणा में गर्मी की शुरुआत से ही बिजली की खपत बढ़ने के चलते बिजली कटों से जनता परेशान है. यमुनानगर जिले का भी ऐसा ही हाल है. जहां इन दिनों पारा 40 डिग्री को पार कर रहा है तो वही बिजली के कटों ने परेशान कर दिया है. इसके बारे में जानकारी देते हुए बिजली विभाग के अधिकारी ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले इस साल 7 लाख की खपत ज्यादा बढ़ गई है. बीते साल जहां 60 लाख यूनिट बिजली की खपत थी तो वहीं इस साल 67 लाख यूनिट की जरूरत है लेकिन यमुनानगर जिले को सिर्फ 50 लाख यूनिट बिजली ही मिल पा रही है. उन्होंने बताया कि फरीदाबाद में गैस प्लांट में बनने वाली बिजली गैस का रॉ मैटेरियल ना होने की वजह से नहीं बन पा रही और गुजरात से आने वाली बिजली भी अचानक बंद होने की वजह से प्रदेश में यह संकट आया है उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार और विभाग की गुजरात स्थित अदानी पावर प्लांट के साथ बात चल रही है. जहां से बिजली मिलते ही यह संकट खत्म हो जाएगा

 राजिंद्र, कार्यकारी अभियंता यमुनानगर

आपको बता देंगे कि यमुनानगर में भी दीनबंधु छोटूराम थर्मल पावर प्लांट है जो 600 मेगावाट बिजली का उत्पादन करता है लेकिन फिर भी यमुनानगर को पर्याप्त मात्रा में बिजली नहीं मिल पा रही. वही हाल ही में सरकार ने कहा था कि बिजली की समस्या का स्थाई समाधान करने के लिए यमुनानगर में 750 मेगावाट का नया पावर प्लांट लगाया जाएगा. इसके लिए प्रक्रिया पूरी की जा रही है. यह पावर प्लांट लग जाने के बाद 750 मेगावाट अतिरिक्त बिजली का उत्पादन होगा. सरकार ने कहा कि निगम द्वारा बिजली उत्पादन के साथ-साथ ट्रांसमिशन सिस्टम को भी दुरूस्त किया जा रहा है ताकि प्रदेश में बिजली की कोई कमी नहीं रहे.