खराब राशन मामले में गिरी गाज, सुपरवाइजर सस्पेंड
खराब राशन मामले में गिरी गाज

खराब राशन मामले में गिरी गाज, सुपरवाइजर सस्पेंड

खराब राशन मामले में गिरी गाज, सुपरवाइजर सस्पेंड

: डीपीओ, सीडीपीओ सेवा नियम 8 के तहत चार्जशीट, भूमिका की होगी जांच

: कैथल के पाडला सर्कल मामले पर राज्यमंत्री कमलेश ढांडा ने दिए थे कार्रवाई के आदेश

चंडीगढ। महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा द्वारा कैथल जिला के पाडला सर्कल के आंगनवाडी केंद्र पर खराब राशन वितरण मामले में कडी कार्रवाई के आदेश के बाद महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सुपरवाइजर को सस्पेंड कर दिया गया है। यही नहीं विभाग द्वारा जिला परियोजना अधिकारी, कैथल व महिला एवं बाल विकास परियोजना अधिकारी गुहला (अतिरिक्त प्रभार, कैथल ग्रामीण) को सेवा नियम 8 के तहत चार्जशीट करते हुए उनकी भूमिका की जांच की जाएगी।

गौरतलब है कि 12 अप्रैल को कैथल जिला के पाडला सर्कल के एक आंगनवाडी केंद्र पर खराब राशन वितरण किए जाने का मामला सामने आया था। इस पर महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने संज्ञान लेते हुए महिला एवं बाल विकास विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव एवं महानिदेशक को पूरे मामले की 3 कार्यदिवस में जांच कराते हुए कडी कार्रवाई करने के आदेश दिए गए थे। महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा करवाई गई प्राथमिक जांच के बाद बुधवार शाम पाडला सर्कल की सुपरवाइजर कुसुम को सस्पेंड कर दिया गया है। सस्पेंशन पीरियड के दौरान उन्हें पंचकुला मुख्यालय तैनाती दी गई है। 

यही नहीं विभाग ने जिला कार्यक्रम अधिकारी, कैथल तथा महिला एवं बाल विकास परियोजना अधिकारी गुहला (तत्कालीन अतिरिक्त प्रभार, कैथल ग्रामीण) को सेवा नियम 8 के तहत चार्जशीट किया है और जांच समिति बनाकर उनकी भूमिका की जांच कराने के आदेश दिए गए हैं।

राज्यमंत्री कमलेश ढांडा ने पुनः दोहराया है कि नौनिहालों, गर्भवती महिलाओं, दूध पिलाने वाली माताओं के पोषण स्तर को बेहतर करना हम सभी की जिम्मेदारी है। इसमें विभाग द्वारा चलाई जा रही योजना में अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक, यदि कोई भी लापरवाही बरतेगा, तो उसके खिलाफ कडी से कडी कार्रवाई की जाएगी।