Historical importance of today's date '24 June'

Punjab CM

आज की तारीख '24 जून ' का ऐतिहासिक महत्व

Historical importance of today's date '24 June'

Historical importance of today's date '24 June'

Historical importance of today's date – प्रत्येक दिन विश्व में कुछ न कुछ ऐसा होता है जो की एक महत्वपूर्ण इतिहास (Important History) बन जाता है जैसे, खेल जगत में रिकॉर्ड बनना, किसी प्रसिद्द व्यक्ति का जन्म व् मृत्यु, आज के दिन के महत्वपूर्ण दिवस, विज्ञान में अविष्कार, आदि । भारत (India) और विश्व (World) में आज के दिन बहुत सी ऐसी प्रमुख ऐतिहासिक घटनायें (Historical Events) हुई जिनका जिक्र आज भी इतिहास (History) के पन्नो में किया गया है । 

1206- दिल्ली सल्तनत के पहले सुल्तान कुतबुद्दीन ऐबक की लाहाैर (अब पाकिस्तान) में ताजपोशी हुई।

1793- फ्रांस ने पहली बार रिपब्लिकन संविधान को अपनाया।

1961- भारत के पहले स्वदेशी एचएफ 24 सुपरसोनिक लड़ाकू विमान ने उड़ान भरी।

1963- डाक एवं टेलिग्राफ विभाग ने राष्ट्रीय टेलेक्स सेवा की शुरूआत की।

1966- मुम्बई से न्यूयार्क जा रहे एयर इंडिया के विमान के स्विट्ज़रलैण्ड के माउंट ब्लैंक में दुर्घटनाग्रस्त होने से 117 लोगों की मौत।

1975- न्यूयॉर्क के जेएफके हवाई अड्डे पर ईस्टर्न 727 विमान दुर्घटना में 113 लोग मारे गये।

1980- भारत के चौथे राष्ट्रपति वीवी गिरि का निधन।

1885 - प्रसिद्ध राजनीतिज्ञ तथा कट्टर सिक्ख नेता तारा सिंह का जन्म।

1986- भारत सरकार ने अविवाहित महिलाओं के लिए भी मातृत्व लाभ को स्वीकृति दी।

1989 - बोफोर्स तोप सौदे को लेकर कैग रिपोर्ट के मुद्दे पर कई विपक्षी सदस्यों ने लोकसभा से इस्तीफा दिया।

2002- अफ्रीकी देश तंजानिया में ट्रेन दुर्घटना में 281 लोगाें की मौत।

2004 - न्यूयॉर्क में मौत की सजा को असंवैधानिक घोषित किया गया।

2005 - अमेरिका ने भारत की सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता की दावेदारी का समर्थन करने की घोषणा की।

2008 - नेपाल के प्रधानमंत्री गिरिजा प्रसाद कोइराला ने अपने पद से इस्तीफा दिया।

2010 - जूलिया गिलार्ड ऑस्ट्रेलिया की पहली महिला प्रधान मंत्री बनी।

2012- मुस्लिम ब्रदरहुड के नेता मोहम्मद मुर्सी मिस्र के राष्ट्रपति बने।

2013 - पूर्व इतालवी प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी को अपनी शक्ति का दुरुपयोग करने और एक यौनकर्मी के साथ संबंध रखने के मामले में दोषी पाये जाने पर सात साल की सजा सुनाई गयी।