Home » चंडीगढ़ » It’s important for peoples: आकाशीय बिजली की चपेट में आने से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय

It’s important for peoples: आकाशीय बिजली की चपेट में आने से बचने के लिए अपनाएं ये उपाय

चंडीगढ़(शिवा तिवारी): जब भी घने काले बादल छाते हैं तो आकाश में चमक-गरज शुरू हो जाती है।दरअसल, यह आकाशीय बिजली होती है।इसकी चमक बड़ी जोरदार होती है और डरावनी भी।वहीं, यह गरजती तो ऐसे है जैसे मानो बादल को फाड़कर रखे दे रही है।इसके अलावा इस दौरान यह कभी-कभी धरती का भी दौरा कर लेती है।मसलन, आकाश से टूटकर जमीन को आकर छूती है और इस बीच इसकी चपेट में न जाने कितने बेजुबान जानवर, पेड़, घर और लोग आ जाते हैं।

इधर, अब तो बरसात का मौसम भी आ गया है ऐसे में इसके गिरने का खतरा ज्यादा रहता है क्योंकि रोज बादल आने हैं बारिश होनी है और इसके साथ बिजली तो चमके और कड़केगी ही।फिलहाल, इससे बचना कैसे है आज हम आपको यह बताने जा रहे हैं।

ध्यान रहे कि जब भी बिजली कड़के तब आप अगर कहीं खुले स्थान पर हैं तो आपको किसी भी बहुत ऊंची चीज के पास नहीं बैठना और खड़ा होना है।बिजली गिरने का खतरा पेड़, पानी, खंभे और टावर पर, के पास सबसे ज्यादा होता है।

आप बिजली कड़कने पर किसी मजबूत छत के नीचे चले जाएं।अगर यह मुमकिन नहीं है तो जमीन पर स्थिर बैठ जाइये।इस दौरान आपके दोनों पैर की एड़ियां आपस में मिलती हुई होनी चाहिए।इसके साथ ही अपने दोनों हाथों से अपने दोनों कानों को बन्द कर लीजिए।इसप्रकार की स्थिति में बिजली गिरने का खतरा कम होता है।

कहते तो ये भी हैं कि मोबाइल फोन भी आकाशीय बिजली को आकर्षित कर लेता है इससे निकलने वाली इलेक्ट्रो मैग्नेटिक तरंगे आकाशीय बिजली के संपर्क में आ जाती हैं खासकर जब आप मोबाइल पर किसी से बात कर रहे होते हैं।वहीं अगर आप मोबाइल स्विच ऑफ भी कर देते हैं तो यह खतरा कम जरूर हो जाता है लेकिन टलता नहीं।इसलिए बारिश के मौसम में अगर आप खुले स्थान पर हैं या घर पर भी हैं तो सावधानी बरतें।हालांकि, दूरसंचार शोधकर्ताओं का दावा है कि मोबाइल फोन कम क्षमता के उपकरण हैं इसमें आकाशीय बिजली को आकर्षित करने के गुण नहीं होते हैं।

फिलहाल देखें यह वीडियो….

 

Check Also

शहरवासियों ने दिशानिर्देश नहीं माने तो लगेगा वीकेंड कर्फ्यु

चंडीगढ़। शहर में तेजी से बढ़ते कोरोना के केसों पर चिंता जताते हुए प्रशासक वीपी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Share
See our YouTube Channel