Eye Lens : क्या आप जानते है कि आपकी आंख में कितने Megapixel का कुदरती लेंस है?
human eye megapixels

Eye Lens: Do you know how many megapixels natural lens is in your eye?

Eye Lens : क्या आप जानते है कि आपकी आंख में कितने Megapixel का कुदरती लेंस है?

Eye Lense: हम सभी जानते है कि हमारी आखें हमारे शरीर में सबसे महत्वपूर्ण अंग मानी जाती है। इन आंखो से ही हम इस रंगीन दुनिया को देख पाते हैं वैसे जब हम किसी दुकान पर मोबाइल खरीदने जाते हैं तो मोबाइल के कैमरे का Megapixel जरुर देखते हैं और ज्यादा से ज्यादा मेगापिक्सल वाला कैमरा वाला मोबाइल खरीदने की कोशिश करते है लेकिन क्या आपको पता है कि हमारी आंख कितने मेगापिक्सल की होती है, जिससे हम हर चीज को देख पाते हैं? आइए बताते हैं.

मनुष्य की आंख में कितने मेगापिक्सल लेंस होता है ?
मानव शरीर का सबसे महत्वपूर्ण और कोमल अंग आंख होता है। आंखो से हम सब कुछ देख पाते है। आपको ये तो पता होगा कि हमारी आंख में लेंस लगा होता है, ये लेंस किसी कांच का नहीं बल्कि प्राकृतिक होता है। आंख कैमरे की तरह चीजों को कैप्चर कर लेती है और इससे हम रंग पहचानते भी है। हमारी आंख में 576 megapixel natural lens होता है जिससे हम दूर से दूर और पास तक का दृश्य देख सकते है।  

कैमरे के लेंस से भी तेज़ है हमारी आंख 
आपको बता दें कि इंसान की आंख किसी कैमरे की तरह ही काम करती है लेकिन हमारी आंखे एक कैमरे से भी तेज़ होती है। हालांकि हमारी आंख में कमरे के जैसे तीन भाग होते हैं। पहला लेंस या प्रकाशीय यन्त्र जो प्रकाश को एकत्रित कर तस्वीर बनाता है। दूसरा सेंसर जो छवि के प्रकाशीय ऊर्जा को इलेक्ट्रिक सिग्नल्स में बदलता है और तीसरा प्रोसेसर जो उन इलेक्ट्रिक सिग्नल्स को वापस स्क्रीन पर इमेज में बदल कर दिखाता है। हमारी आंख एक बार में 576 मेगापिक्सल का का एरिया देख लेती है, लेकिन हमारा मस्तिष्क इसे एक साथ प्रोसेस नहीं कर पाता वो केवल थोड़े से ही हिस्से को ही हाई डेफिनेशन में प्रोसेस कर पाता है। इसीलिए किसी भी घटना को सही तरीके से देखने के लिए हमें अपनी आंखों को उस ओर घुमाना पड़ता है। 

बढ़ती उम्र के साथ आँखों की रौशनी काम होने लगती है 
बढ़ती उम्र के साथ हमारी आंखे भी कमज़ोर होने लगती है। शरीर के बाकी हिस्सों की तरह ही उम्र बढ़ने के साथ आंख का रेटिना भी कमजोर होने लगता है। इस वजह से लोगों की देखने की क्षमता पर भी असर पड़ता है और आंखो के मेगापिक्सल में बदलाव होता है।