पर्यावरण की सुरक्षा हम सभी की सांझा ज़िम्मेदारी : मीत हेयर
BREAKING
जम्मू-कश्मीर में सेना ने आतंकियों का बड़ा हमला रोका; फटाफट एक्शन में आए जवान, ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं, एनकाउंटर जारी सुप्रीम कोर्ट से योगी सरकार को बड़ा झटका; दुकानों पर 'नेम प्लेट' लगाने वाले आदेश पर रोक लगाई, UP समेत 3 राज्यों को नोटिस जारी RSS की गतिविधियों में अब शामिल हो सकेंगे सरकारी कर्मचारी; केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 58 साल पुराना प्रतिबंध हटाया, कांग्रेस हमलावर "ढाई घंटे तक देश के प्रधानमंत्री का गला घोंटा गया''; संसद के बजट सत्र पर PM मोदी का बयान, पहले ही दिन विपक्ष पर जमकर बरसे चमत्कारिक है भगवान शिव का यह नाम जप; प्रेमानंद महाराज ने बताया- कैसे दिखाता है प्रभाव, महादेव के इस मंत्र को न जपने की दी चेतावनी

पर्यावरण की सुरक्षा हम सभी की सांझा ज़िम्मेदारी : मीत हेयर

Environmental Protection

Environmental Protection

पंजाब विधान सभा में पर्यावरण के प्रस्ताव पर बोलते हुये वन अधीन क्षेत्र बढ़ाने की वकालत की

चंडीगढ़, 7 मार्चः Environmental Protection: पंजाब विधान सभा में आज पर्यावरण के संरक्षण और वन अधीन क्षेत्र बढ़ाने के प्रस्ताव पर बोलते हुये कैबिनेट मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर ने कहा कि पर्यावरण की रक्षा हम सभी की सांझा ज़िम्मेदारी है और इस मुहिम की सफलता के लिए लोगों की शमूलियत यकीनी बनानी पड़ेगी। इसलिए लोगों को जागरूक करना सबसे ज़रूरी है। वन अधीन क्षेत्र बढ़ाने की वकालत करते हुये उन्होने कहा कि गाँवों की पंचायती ज़मीनों और अपने रिहायशी स्थानों पर अधिक से अधिक पौधे लगाने चाहिएं। 

मीत हेयर ने कहा कि मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान के नेतृत्व अधीन राज्य सरकार द्वारा पर्यावरण के संरक्षण के लिए निरंतर यत्न किये जा रहे हैं। सरकारी शैक्षिक अदारों में सोलर पैनल लगाने, एक बार प्रयोग वाले प्लास्टिक पर पूर्ण पाबंदी के साथ औद्योगिक प्रदूषण को रोकने सहित अन्य कई प्रोजैक्ट शुरू किये हैं। पौधे लगाने को प्राथमिकता दी गई। सरकार ने पराली के प्रबंधन में एक्स सीटू और इन सीटू काम किये जिसके नतीजे के तौर पर पराली जलाने के 30 प्रतिशत केस घटे और यह लक्ष्य और बढ़ाने के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। 

कैबिनेट मंत्री ने कहा कि पंजाब विधान सभा के स्पीकर द्वारा पिछले कई सालों से पराली न जलाने वाले किसानों को बुला कर सम्मान करके अन्य किसानों को भी प्रेरित किया गया। उन्होने कहा कि लोगों को जागरूक करना और ख़ुद इसकी पहलकदमी करके उदाहरण पेश करने की ज़रूरत है। पंजाब में पराली प्रबंधन के लिए लगाए जा रहे उद्योगों को स्थानीय निवासी बढ़ावा दें। 

मीत हेयर ने कहा कि प्रदूषण की समस्या पिछले दो सदियों से शुरू हुई और औद्योगिक तरक्की के साथ इस में भी विस्तार हुआ। हवा प्रदूषण सेहत के लिए विश्वव्यापी संकट है जो दुनिया भर में लगभग 70 लाख लोगों की मौत का कारण बनता है। उन्होने कहा कि कोविड महामारी के कारण लगे लॉकडाऊन के दौरान नीला आसमान देखने को मिला। पंजाब से धौलधर और शिवालिक पहाड़ियों की रेंज साफ़ दिखाई देने लग गई थी जिससे सपस्शट है कि यह समस्या हमनें स्वयं पैदा की है। उन्होने कहा कि पिछले समय से संयुक्त राष्ट्र द्वारा 7 सितम्बर को नीला आसमान दिवस मनाने की शुरुआत की गई। 

यह पढ़ें:

Punjab: 2024-25 का बजट प्रगतिशील, ख़ुशहाल और रंगीले पंजाब के निर्माण में बेमिसाल भूमिका निभाएगा - मुख्यमंत्री

पंजाब पुलिस ने गन हाऊस चोरी मामले में दो मुलजिमों को किया गिरफ़्तार; चोरी के 12 हथियार बरामद

मोहाली के पति-पत्नी ठग एजेंट ने लोगों को लगाया करीब 200 करोड़ का चूना