Big action of NIA: Terror Funding मामले में NIA, ED और पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 10 राज्यों में छापा; 100 से अधिक सदस्य गिरफ्तार
Big action of NIA

Big action of NIA: Terror Funding मामले में NIA, ED और पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 10 राज्यों में छापा;

Big action of NIA: Terror Funding मामले में NIA, ED और पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 10 राज्यों में छापा; 100 से अधिक सदस्य गिरफ्तार

Big action of NIA: टेरर फंडिंग को लेकर को लेकर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) पूरे देश में छापेमारी कर रही है। आज गुरुवार को उत्तर प्रदेश, केरल और कर्नाटक सहित NIA 10 राज्यों में छापेमारी कर रही है। इसके साथ ही इससे पहले अन्य राज्यों में भी NIA ने इसको लेकर छापेमारी की है। प्राप्त जानकारी के अनुसार केरल में टेरर फंडिंग को लेकर 50 से अधिक जगहों पर छापेमारी की जा रही है, जिसमें खास बात यह है कि वहां पर NIA के साथ प्रवर्तन निदेशालय (ED) की भी एक टीम मौजूद है।

इससे पहले NIA ने बिहार, तेलंगाना , आंध्रप्रदेश में भी की थी। यह छापेमारी भी टेरर फंडिंग से जुड़े मामलों को लेकर भी कई गई थी। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार NIA ने अब तक पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के 100 से अधिक सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इसमें से कई सदस्यों पर देशविरोधी गतिविधियों पर शामिल होने का आरोप है, वहीं कुछ छापेमारी वाली जगहों पर धरना प्रदर्शन कर रहे थे।

बढ़ सकता है टेरर फंडिंग को लेकर छापेमारी का दायरा

बताया जा रहा है कि टेरर फंडिंग को लेकर छापेमारी का दायरा देश के कई अन्य राज्यों तक भी बढ़ सकता है। जैसे-जैसे जांच एजेंसी को इस मामले को लेकर लीड मिलती जाएगी वैसे-वैसे इस छापेमारी का दायरा बढ़ता जाएगा। अभी छापेमारी की कार्रवाई 10 राज्यों में की जा रही है, जिसमें बड़े स्तर पर गिरफ्तारियां भी की जा रही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार अब तक केरल, कर्नाटक, राजस्थान, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, तेलंगाना, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र से PFI के सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है।

PFI चेयरमैन ओएमए सलाम के घर NIA की छापेमारी

प्राप्त जानकारी के अनुसार राष्ट्रीय जांच एजेंसी केरल के मंजेरी में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के चेयरमैन ओएमए सलाम के घर छापेमारी कर रही है। यह छापेमारी देर रात शुरू हुई है जो अभी भी चल रही है। छापेमारी की खबर मिलने के बाद देर रात से ही PFI के कार्यकर्ता इसके खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करने लगे हैं।