जब तक मैं जिंदा हूं रोहतक लघु सचिवालय और न्यायिक परिसर को नहीं होने दूंगा शिफ्ट- हुड्डा
जब तक मैं जिंदा हूं रोहतक लघु सचिवालय और न्यायिक परिसर को नहीं होने दूंगा शिफ्ट- हुड्डा

जब तक मैं जिंदा हूं रोहतक लघु सचिवालय और न्यायिक परिसर को नहीं होने दूंगा शिफ्ट- हुड्डा

जब तक मैं जिंदा हूं रोहतक लघु सचिवालय और न्यायिक परिसर को नहीं होने दूंगा शिफ्ट- हुड्डा

सरकारी परिसर शिफ्ट होने से लोगों को होगी भारी परेशानी- हुड्डा 
सरकार ने अगर ऐसा कोई फैसला लिया है तो तुरंत वापिस ले- हुड्डा 

जिस बीजेपी के खिलाफ किसानों के वोट लिए, राज्यसभा चुनाव में उसे वोट देंगे अभय या कांग्रेस को?- हुड्डा
पैरा खिलाड़ियों को भी मिले सामान्य खिलाड़ियों के बराबर सम्मान, इनाम व पद- हुड्डा  

4 जून, रोहतक : पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने रोहतक लघु सचिवालय और न्यायिक परिसर को शहर से बाहर शिफ्ट करने की चर्चाओं पर कड़ी आपत्ति जाहिर की है। उन्होंने कहा कि जब तक भूपेंद्र सिंह हुड्डा जिंदा है, तब तक ऐसा नहीं होने देंगे। सरकार ने अगर ऐसा कोई फैसला लिया है तो उसे तुरंत वापस ले। क्योंकि, इस वक्त इन दोनों परिसरों की लोकेशन बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन से नाममात्र दूरी पर है। आम लोग बड़ी आसानी से यहां तक पहुंच सकते हैं। 

हुड्डा ने कहा कि कांग्रेस के कार्यकाल में लोगों की सुविधा के लिए डीसी आवास, एसपी आवास, मॉडल स्कूल, तहसील, पुलिस लाइन, कैनाल रेस्ट हाउस, कंज्यूमर फोरम, डाकखाना, बैंक और इनकम टैक्स ऑफिस को आसपास बनवाया गया था। ताकि, अलग-अलग सरकारी कामों के लिए लोगों को यहां-वहां चक्कर न काटने पड़ें। नये परिसर स्थापित करने और उनका विस्तार करने पर कांग्रेस कार्यकाल के दौरान सैंकड़ों करोड़ रूपए खर्च किए गए थे। अगर मौजूदा सरकार ने लघु सचिवालय और न्यायिक परिसर को यहां से दूर शिफ्ट किया तो ना सिर्फ वकीलों, कोर्ट में काम करने वाले मुंशी और कर्मचारियों को बल्कि अलग-अलग कार्यों के लिए सरकारी दफ्तरों में आने वाले लोगों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। उन्हें एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर में जाने के लिए कई-कई किलोमीटर का सफर तय करना पड़ेगा। 

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार ने इस बारे में अब तक न जिले के विधायकों से बात की और न ही बार पदाधिकारियों से सलाह मशविरा किया। सरकार अगर चंद लोगों को फायदा पहुंचाने के लिए ऐसा निर्णय लेती है तो इससे इलाके के लोगों को भारी परेशानी होगी। उन्होंने कहा कि इन सरकारी इमारतों के निर्माण पर पहले ही सैंकड़ों करोड़ रुपये लगे हुए हैं। यदि सरकार को कुछ करना ही है तो नये उद्योग लगाये ताकि प्रदेश के युवाओं को रोज़गार मिले। हुड्डा ने कहा कि अगर सरकार जनहित में कोई फैसला लेना चाहती है तो उसे कांग्रेस सरकार की तर्ज पर सुनारियां गांव की खाली जमीन पर इंडस्ट्री स्थापित करनी चाहिए, जिससे युवाओं को रोजगार मिले और इलाके में अन्य आर्थिक गतिविधियां भी तेज हों। 

भूपेंद्र सिंह हुड्डा रोहतक में पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर राज्यसभा चुनाव को लेकर पूछे गए सवाल पर हुड्डा ने कांग्रेस की जीत का दावा किया। साथ ही उन्होंने इनेलो विधायक अभय चौटाला से अपनी स्थिति स्पष्ट करने के लिए कहा। हुड्डा ने कहा कि जो अभय चौटाला चुनाव में बीजेपी-जेजेपी के विरूद्ध किसानों से वोट मांगते हैं, वो अब फैसला लेने में देरी क्यों कर रहे हैं? उन्हें बताना चाहिए कि क्या वो उसी बीजेपी-जेजेपी समर्थित उम्मीदवार को वोट देंगे या कांग्रेस उम्मीदवार को। 

हुड्डा ने बताया कि पैरा ओलिंपिक खिलाड़ियों का एक प्रतिनिधि मंडल उनसे मिला है। उन्होंने सामान्य खिलाड़ियों के बराबर सम्मान, इनाम और पद दिए जाने की मांग की है। हुड्डा ने उनकी मांगों का पूर्ण समर्थन करते हुए कहा कि सरकार को पैरा खिलाड़ियों के साथ किसी तरह का भेदभाव नहीं करना चाहिए। उन्हें भी सामान्य खिलाड़ियों के बराबर अधिकार और मान-सम्मान मिलना चाहिए।