अकाली दल ने पूछा सरकार ने किन्हे भत्ता दिया और कितनी सरकारी नौकरियां दी
अकाली दल ने पूछा सरकार ने किन्हे भत्ता दिया और कितनी सरकारी नौकरियां दी

अकाली दल ने पूछा सरकार ने किन्हे भत्ता दिया और कितनी सरकारी नौकरियां दी

अकाली दल ने पूछा सरकार ने किन्हे भत्ता दिया और कितनी सरकारी नौकरियां दी

कहा कि भले ही पंजाब में  कोई गारंटी पूरी नही की गई,लेकिन 3000 रूपये प्रति माह बेरोजगारी भत्ते के साथ हिमाचलियों को मुर्ख बनाने की कवायद शुरू: सरदार बिक्रम सिंह मजीठिया

कहा कि आप पार्टी केवल  एक गारंटी दे सकती है कि हिमाचल पर दिल्ली से रिमोट से शासन होगा और पंजाब की तर्ज पर रबड़ के मोहरे   सी.एम को नियुक्त किया जाएगा


चंडीगढ़/10सितंबर: शिरोमणी अकाली दल ने आज मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश को युवाओं को 3000 रूपये प्रति माह और छह लाख नौकरियों के वादे के साथ धोखा देने की कोशिश करने से पहले बताएं कि उनकी सरकार ने पंजाब के युवाओं को कौन सा भत्ता दिया और कितनी सरकारी नौकरियां दी हैं।

यहां एक प्रेस बयान जारी करते हुए वरिष्ठ अकाली नेता सरदार बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा , ‘‘ ऐसा लगता है कि दिल्ली के बारे जो झूठ पंजाब में बोले गए थे, उन्हे अब हिमाचल में बोला जा रहा है। आप पार्टी की सरकार ने पिछले आठ साल से दिल्ली में बेरोजगारी भत्तें में एक रूपये का भी भुगतान नही किया है। उसने पंजाब में भी ऐसा नही किया है। लेकिन अब हिमाचल में 3000 रूपये प्रति माह बेरोजगारी भत्ता देने का वादा कर रही है, ताकि लोगों को पार्टी के लिए वोट देने के लिए मुर्ख बनाया जा सके’’।

सरदार मजीठिया ने मुख्यमंत्री भगवंत मान से यह भी पूछा कि पिछले छह महीनों में उन्होने पंजाब के युवाओं को कितनी सरकारी नौकरियां दी हैं। उन्होने कहा, ‘‘ नवीनतम रिपोर्टों के अनुसार आप पार्टी की सरकार ने अभी तक सरकारी नौकरियों में रिक्त पदों को भी नही भरा है। उन्होने कहा वास्तव में अधिकांश सरकारी नौकरियां जो खाली हो रही हैं , उन्हे खत्म किया जा रहा है, और जो कुछ भरी जा रही हैं, उनमें तीन साल की लंबा प्रोबेशनरी अवधि है, जिसमें युवाओं को उनके देय वेतन का एक अंश  दिया जाता है। ऐसे काम उंगलियों पर गिने जा सकते हैं’’। उन्होने कहा कि दिल्ली में आप पार्टी की सरकार का पिछले सात सालों में महज 3,246 नौकरियां देने का ऐसा ही ट्रैक रिकॉड रहा है। उन्होने कहा, ‘‘ यह विंडबना है कि जो पार्टी पंजाब और दिल्ली में युवाओं को रोजगार देने में विफल रही है, वह हिमाचल में युवाओं को छह लाख सरकारी नौकरी देने का वादा कर रही है’’।

सरदार मजीठिया ने कहा कि कुछ भी करना तो भूल ही जाइए, आप पार्टी पहले ही पंजाब में दी गई ‘गारंटी ’ से मुकर गई है। उन्होने कहा कि 35000 संविदा कर्मचारी, जिन्हे वादा किया गया था कि आप की सरकार बनने के तुरंत बाद उनकी सेवाओं को नियमित कर दिया जाएगा, वे अभी भी इस वादे के लागू होने की प्रतीक्षा कर रहे हैं। इसी तरह पंजाब की महिलाओं को 1000 रूपया प्रति माह भत्ता देने का वादा किया गया था, जिसका पिछले छह महीनों से भुगतान नही किया गया है’’।

हिमाचल के लोग आप पार्टी की गारंटी पर विश्वास नही करते हैं, कहते हुए सरदार मजीठिया ने कहा , ‘‘ आप  पार्टी केवल यही गारंटी दे सकती है कि अगर वह सत्ता में आती है तो वह दिल्ली से रिमोट कंट्रोल से राज्य में शासन करेगी और एक ऐसा मुख्यमंत्री नियुक्त करेगी जो रबर के माहरे की तरह काम करेगा। हिमाचल के सभी महत्वपूर्ण हित पंजाब के समान  खतरे में पड़ जाएंगें, क्योंकि आप पार्टी की सरकार हरियाणा और दिल्ली में पार्टी के हितों की पूर्ति के लिए हिमाचल वालों की बांह मरोड़ सकती है। उन्होने कहा कि देश के अन्य राज्यों में आप पार्टी के हितों की पूर्ति के लिए हिमाचल के सरकारी खजाने को भी लूटे जाने की संभावना है’’।

वरिष्ठ अकाली नेता ने  कहा कि पंजाब में सुशासन , किसानों और कमजोर वर्गों की भलाई के सभी वादे झूठे साबित हुए हैं। सरदार मजीठिया ने कहा , ‘‘ कानून और व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। उन्होने कहा कि व्यापारी और उद्योगपति जबरन वसूली से डरते हैं, जबकि आम आदमी झपटमारी और डकैती में बढ़ोतरी देख रहा है। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री के आश्वासन के बावजूद किसानों को मूंग का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) नही दिए जाने से कृषि क्षेत्र संकट में हैं। उन्होने कहा, ‘‘ खेती की आय दोगुना करना तो भूल ही जाइए, ऐसा लगता है कि किसान आत्महत्याएं और कृषि का कर्जा दोगुना हो गया है’’। उन्होने कहा कि किसानों को फसल के नुकसान का मुआवजा भी नही मिला है। यहां तक कि डेयरी किसानों को लंपी स्किन बीमारी (एलएसडी) के कारण दुधारू पशुओं के नुकसान के लिए मुआवजा भी नही दिया गया है’’।