Worshiping Goddess Kali on Saturday brings auspicious results.
BREAKING
जम्मू-कश्मीर में सेना ने आतंकियों का बड़ा हमला रोका; फटाफट एक्शन में आए जवान, ताबड़तोड़ गोलियां बरसाईं, एनकाउंटर जारी सुप्रीम कोर्ट से योगी सरकार को बड़ा झटका; दुकानों पर 'नेम प्लेट' लगाने वाले आदेश पर रोक लगाई, UP समेत 3 राज्यों को नोटिस जारी RSS की गतिविधियों में अब शामिल हो सकेंगे सरकारी कर्मचारी; केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, 58 साल पुराना प्रतिबंध हटाया, कांग्रेस हमलावर "ढाई घंटे तक देश के प्रधानमंत्री का गला घोंटा गया''; संसद के बजट सत्र पर PM मोदी का बयान, पहले ही दिन विपक्ष पर जमकर बरसे चमत्कारिक है भगवान शिव का यह नाम जप; प्रेमानंद महाराज ने बताया- कैसे दिखाता है प्रभाव, महादेव के इस मंत्र को न जपने की दी चेतावनी

शनिवार के दिन मां काली की पूजा करने से शुभ फलों की होती है प्राप्ति, देखें क्या है खास

Ma-Kali

Worshiping Goddess Kali on Saturday brings auspicious results.

हिंदू धर्म में कई देवी-देवताओं के लिए एक खास दिन समर्पित माना गया है। इसी प्रकार यह माना जाता है कि शनिवार के दिन मां काली की पूजा करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। यह दिन मां काली की कृपा प्राप्ति के लिए सबसे उत्तम माना गया है। यह दिन काली माता के साथ-साथ शनिदेव की भी समर्पित माना जाता है। ऐसे में आप शनिवार के दिन कुछ खास उपाय कर सकते हैं।

नहीं आएगी धन की समस्या
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, मां काली को गुड़ का भोग अति प्रिय है। ऐसे में मां काली की पूजा के दौरान उन्हें गुड़ का भोग जरूर लगाना चाहिए। इसके बाद इस गुड़ को प्रसाद के रूप में गरीबों में बांट दें। ऐसा करने से व्यक्ति के जीवन में आ रही धन संबंधी समस्याएं दूर हो जाती हैं।

प्रसन्न होंगी मां काली
शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक, काले तिल डालकर जलाएं। इसके साथ ही पीपल के पेड़ की 7 बार परिक्रमा करें और इस दौरान मां काली का नाम लेते रहें। मान्यताओं के अनुसार, ऐसा करने से मां काली प्रसन्न होती हैं।  

करें ये उपाय
काली माता के मंदिर में जाकर उन्हें नींबू की माला अर्पित करें। इसके साथ ही मां काली को ताजे फल और सूजी के हलवे का भोग लगाएं। इस उपाय को करने से मां काली की कृपा आपके ऊपर बनी रहेगी।

करें इस मंत्र का जाप
शनिवार के दिन काली माता के मंदिर जाकर मां काली के बीज मंत्र मंत्र का जाप करना चाहिए। माना जाता है कि इस मंत्र के जाप से बीमारियों से मुक्ति मिलती है। इस मंत्र का जाप कम से कम 21 बार करना चाहिए।
।। ऊँ क्रीं क्रीं क्रीं हलीं ह्रीं खं स्फोटय क्रीं क्रीं क्रीं फट ।।

 

यह पढ़ें:

वरुथिनी एकादशी के दिन करें श्री हरि विष्णु के साथ देवी तुलसी की पूजा, देखें क्या है खास

वैशाख माह में सूर्य देव को इस विधि से चढ़ाएं जल, देखें क्या है खास

भगवान श्रीकृष्ण की पूजा के समय करें इस चालीसा का पाठ, देखें क्या है खास